Menu
DNR Reporter

DNR Reporter

DNR desk

Website URL:

प्रधान ने कहा, पेट्रोलियम उत्पादों पर कर समानता की जरूरत

हैदराबाद। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ग्राहकों के हितों को ध्यान में रखते हुए पेट्रोलियम पदार्थों को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाने के लिए वित्त मंत्रालय से अपील की है। अपने कदम पर सही ठहराते हुए प्रधान ने कहा कि पूरे देश में एकसमान कर व्यवस्थौ होनी चाहिए। प्रधान ने कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाना पेट्रोलियम मंत्रालय का प्रस्ताव है। हमने राज्य सरकारों और वित्त मंत्रालय से पेट्रोलियम वस्तुओं को जीएसटी के दायरे में लाने की अपील की है। उपभोक्ताओं के हितों को देखते हुए करों को युक्तिसंगत रखने की जरुरत है।ै उन्होंने आगे कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों पर दो तरह के कर लगते हैं, जिसमें एक केंद्रीय उत्पाद शुल्क और दूसरा वैट है। यही कारण है कि उद्योग के दृष्टिकोण से समान कर तंत्र की उम्मीद कर रहे हैं। दैनिक आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों की समीक्षा को सही ठहराते हुए प्रधान ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जो भी शुल्क एकत्रित किया जाता है उसमें से राज्यों को 42 प्रतिशत हिस्सेदारी प्राप्त होती है। पेट्रोल और डीजल का घरेलू मूल्य अंतरराष्ट्रीय कीमतों से निर्धारित होता है। जो भी अंर्ताष्ट्रीय कीमत होती है वहीं  उपभोक्ताओं के पास जाती है। जब कीमतों में वृद्धि होती है तो हमें बढ़ोत्तरी करनी पड़ती है, उसी तरह जब गिरावट आती है हम दामों में कमी करते हैं।  पेट्रोलियम मंत्री ने कहा, ैकेंद्रीय कर का 42 प्रतिशत हिस्सा राज्यों से आता है और राज्यों की अपनी स्वयं की कर प्रणाली है। राज्यों से आ रहे कर संग्रह का एक बड़ा हिस्सा उपयोग किया जाता है। उन्होंने कहा कि देश में विभिन्न कल्याणकारी परियोजनाओं को लागू करने के लिए धन की आवश्यकता होती है। क्या आपको नहीं लगता कि हमें अच्छी सड़कों का निर्माण करना चाहिए, क्या आपको नहीं लगता कि हमें नागरिकों को साफ पेयजल देना चाहिए। भारत सरकार के खर्ज को देखिए। पहले गरीबों की आवासीय योजना पर सरकार 70,000 प्रति इकाई खर्च करता थी और अब 1.5 लाख रुपए खर्च कर रही है। उन्होंने कहा, ैआपको क्या लगता है सरकार को ए पैसा कहां से मिलता है? आप सोचते हैं कि हमने खजाने में पैसा रखा हुआ है। हम अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए बुनियादी ढांचा निर्माण में पैसा खर्च कर रहे हैं।

आदित्य पंचोली का बयान- आरोपों में घिरी कंगना अब खाएंगी जेल की हवा

बॉलीवुड एक्ट्रैस कंगना रणावत इन दिनों अपने बेबॉक इंटरव्यू के कारण वह काफी सुर्खियों में हैं। कुछ समय पहले टीवी शो को दिए इंटरव्यू के बाद कंगना लगातार लाइमलाइट में बनी हुई हैं। कंगना ने अपने इंटरव्यू में ऋतिक और अपने रिश्ते के बारे में कई सनसनीखेज खुलासे किए। उन्होंने कई लोगों के बारे में राज खोले। इतना ही नहीं कंगना ने अपने एक्स ब्वॉयफ्रैंड आदित्य पंचोली को भी नहीं छोड़ा। उन्होंने बताया कैसे आदित्य उन्हें अक्सर परेशान किया करते थे। जिसके बाद सोशल साइट पर एक बार फिर ये विवाद गरमा गया। खबरों की मानें तो हाल ही में कंगना के बाद अब आदित्य ने भी एक और बयान दिया है। आदित्य ने कहा कि कंगना ने उनके बारे में जो भी कहा है अगर वो उसे साबित नहीं कर पाती हैं तो उन्हें जल्द ही जेल जाना पड़ेगा।

सनी के आइटम सॉन्ग पर सैंसर बोर्ड की चली कैंची

इन दिनों सैंसर बोर्ड के नये अध्यक्ष प्रसून जोशी भी फिल्मों में कट लगाने को लेकर काफी सीरियस नजर आ रहे हैं। हाल ही में उन्होंने संजय दत्त की अपकमिंग फिल्म भूमि में 12 कट लगाने का आदेश जारी कर दिया है। बताया जा रहा है कि इतना ही नहीं सैंसर बोर्ड की तरफ से फिल्म के आइटम सॉन्ग ट्रिपी-ट्रिपी को भी हटाने के लिए कहा गया है। सैंसर के अनुसार इसका कुछ ही हिस्सा दिखाने लायक है। सिर्फ इसे ही फिल्म में रखा गया है। इसके अलावा फिल्म में इस्तेमाल किए गए कुछ शब्द जैसे साली, आसाराम, गंदा पानी वगैरह को फिल्म से हटाने के लिए कहा गया है। फिल्म में कोर्ट रूम का एक किस सीन है, इस पर भी सेंसर ने आपत्ति जताई है। इस तरह सेंसर की तरफ से फिल्म पर कुल 12 कट लगाने को कहा गया है। इस मामले में फिल्म के निर्देशक ओमंग कुमार का कहना है कि उन्हें पहले से ही अंदाजा था कि फिल्म में इस तरह के कट लगाने की बात हो सकती है. यह एक संवेदनशील विषय है, उन्होंने इसका ध्यान रखा था। बता दें कि कुछ समय पहले संजय दत्त ने भी इस फिल्म में सनी लियोनी पर फिल्माए गए गाने ट्रिपी-ट्रिपी को वल्गर बताया था। उन्होंने कहा था कि गाना फिल्म की स्क्रिप्ट के अनुसार नहीं है।

सायना को बड़े पर्दे पर पेश करना एक बड़ी जिम्मेदारी है : श्रद्धा

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता सायना नेहवाल का किरदार निभाने को तैयार अभिनेत्री श्रद्धा कपूर का कहना है कि यह उनके जीवन की अभी तक की सबसे चुनौतीपूर्ण फिल्म है। श्रद्धा ने कहा कि मुझे लगता है कि उनका करियर तमाम उतार चढ़ावों से भरा था, विशेषकर जिस तरह उन्होंने चोट से उबरने के बाद वापसी की, वह बेहद शानदार एवं प्रेरित करने वाला था। अभिनेत्री ने कहा, उनकी कहानी को बड़े पर्दे पर पूरी तरह उतारा जाए यह सुनिश्चित करना हम सभी के लिए बड़ी जिम्मेदारी है। यह एक कठिन और चुनौतीपूर्ण काम है। श्रद्धा इन दिनों 27 वर्षीय लंदन ओलंपिक कांस्य पदक विजेता सायना की बायोपिक की तैयारियों में मसरूफ हैं और अभिनेत्री का कहना है कि वह बैडमिंटन खेलने का आनंद उठा रही हैं। उन्होंने कहा, मैंने जब खेलना शुरू किया तो मुझे खेल से प्यार हो गया। मैं जिन दिनों बैडमिंटन का अभ्यास करती हूं, मेरा दिन एकदम अलग होता है और जब मैं नहीं खेलती तब मैं एक अलग इंसान होती हूं। मैं आमतौर पर सुबह छह बजे खेलना शुरू करती हूं और करीब दो घंटे तक खेलती हूं। अभिनेत्री ने कहा, हम हर दिन अभ्यास करने की कोशिश करते हैं लेकिन अगर मेरे हाथ और पैर बहुत दुखते हैं तो मैं अभ्यास करने नहीं जाती। मुझे उस समय भी खेलने का मन करता है लेकिन मुझे ऐसे में न खेलने की सलाह दी गई है क्योंकि इससे चोट लगने का खतरा हो सकता है। खेल को लेकर किसी भी तरह का संदेह होने पर 30 वर्षीय अभिनेत्री अक्सर बैडमिंटन खिलाड़ी को संदेश कर अपनी जिज्ञासा शांत करती हैं। सायना के फिल्म में नजर आने के सवाल पर श्रद्धा ने कहा कि इस पर बात की जा रही है, इसलिए अभी कुछ भी नहीं कह सकते। फिल्म का निर्देशन अमोल गुप्ते करेंगे।

Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News