Menu

पांचवीं बोर्ड की परीक्षा बनेगी मजाक Featured

आठवीं में फ्री और पांचवीं में फीस, अंग्रेजी माध्यम के बच्चों के लिए पुस्तकें नहीं
डीएनआर रिपोर्टर. बीकानेर

चालू शिक्षा सत्र में अनिवार्य की गई पांचवीं बोर्ड परीक्षा के नाम पर शिक्षा विभाग विद्यार्थियों के मजाक कर रहा है। अंग्रेजी माध्यम के निजी स्कूलों के विद्यार्थियों के लिए भी परीक्षा अनिवार्य करने से असमंजस की स्थिति बनी हुई है, क्योंकि स्कूलों में पांचवीं की अंग्रेजी माध्यम की पुस्तकें अलग-अलग पब्लिसर्स की लगाई हुई है। ऐसे में विद्यार्थी बिना पुस्तक पढ़े कैसे परीक्षा देंगे। यह बड़ा सवाल है। हालांकि इसको लेकर निजी विद्यालयों ने निदेशक को ज्ञापन भी सौंपा है।
निजी से मूल्यांकन शुल्क
सरकारी विद्यार्थियों के लिए पांचवीं बोर्ड परीक्षा निशुल्क व निजी विद्यार्थियों के लिए प्रति छात्र चालीस रुपए शुल्क निर्धारण की विभाग के दोहरे मानदंडों को प्रदर्शित कर
रहा है। निजी विद्यार्थियों से ४० रुपए शुल्क मूल्यांकन के नाम पर लिया जाएगा। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या निजी विद्यालयों के विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिकाओं पर ही खर्च आता है या विभाग पांचवीं बोर्ड परीक्षा का तमाम खर्च निजी विद्यालयों के माध्यम से पूरा करने का प्रयास कर रहा है।

6X8 MAA SARASWATI copy
पहले जारी हो पाठ्यक्रम, फिर हो परीक्षा
निजी स्कूल संचालकों का कहना है कि पूरे सत्र अंग्रेजी माध्यम के विद्यार्थी जो पुस्तकें पढ़ेंगे, उनके विपरीत प्रश्न-पत्र आने पर उनके मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। यदि विभाग को पांचवं बोर्ड परीक्षा अनिवार्य करनी थी, तो सत्र शुरू होती ही इसकी घोषणा करनी चाहिए थी और उसी के साथ पाठ्यक्रम जारी करना चाहिए था ताकि अंग्रेजी माध्यम के निजी विद्यालय उससे संबंधित पुस्तकों की व्यवस्था करते।

DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News