Menu

top banner

राष्ट्रीय

बांग्लादेश में तीन जेएमबी आतंकवादी गिरफ्तार

ढाका। बांग्लादेश के राजशाही शहर से तीन जेएमबी आतंकवादियों को आज बम बनाने की सामग्री के साथ गिरफ्तार किया गया। मीडिया में आई खबरों में यह जानकारी दी गई। खबर के मुताबिक विशिष्ट रैपिड एक्शन बटालियन ने तानोरिया के बिलशहर गांव में शाहेबजान अली के घर पर एक सूचना के आधार पर छापेमारी की थी। हिरासत में लिए गए लोगों की पहचान शाहेबजान अली (35), अबुल कलाम आजाद (28) और जहांगीर आलम (28) के तौर पर की गई है। आरएबी-5 कमांडर लेफ्टि. कर्नल मोहम्मद महबूबुल आलम ने कहा कि उन्होंने 500 ग्राम बारूद, कट्टरपंथी विचारधारा का प्रचार-प्रसार करने वाले सात पर्चे और बम बनाने की सामग्री उनके पास से बरामद की है। आरएबी अधिकारी ने कहा कि तीनों प्रतिबंधित इस्लामी आतंकवादी संगठन जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश का हिस्सा हैं।

Read more...

ईरान में 66 यात्रियों को लेकर जा रहा विमान दुर्घटनाग्रस्त

तेहरान। ईरान की राजधानी तेहरान से 66 यात्रियों को लेकर दक्षिण पश्चिमी शहर यसुज जा रहा एक विमान आज दुर्घटनाग्रस्त हो गया। ईरानी संवाद समिति इस्ना ने आपात सेवा प्रवक्ता मोज्तबा खालिदी के हवाले से बताया कि आसमान एयरलाइंस का एक विमान समीरॉम शहर के पास पर्वतीय क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। सरकारी टेलीविजन प्रेस टीवी ने बताया कि विमान में 66 लोग सवार थे। सेमिरॉम ईरान के दक्षिण-पूर्वी इलाके का पर्वतीय इलाका है जो राजधानी तेहरान से करीब 480 किलोमीटर दूर है। दशकों तक अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध लगने के चलते ईरान का कॉमर्शियल पैसेंजर विमान काफी पुराना हो चुका है और यह हाल के वर्षों में आए दिन हादसे का शिकार होता रहता है।

Read more...

इजराइल-गाजा सीमा के पास विस्फोट, चार घायल

दुबई। इजराइल-गाजा सीमा के पास हुए एक बम विस्फोट में इजराइल के चार सैनिक घायल हो गए जिसमें दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। सेना ने कहा उस क्षेत्र में एक फिलिस्तीन का एक झंडा लहरा रहा था और जैसे ही सेना के जवान वहां गए, धमाका हो गया। धमाका खान यूनुस शहर के पूर्व में स्थानीय समयानुसार शाम चार बजे हुआ। इजराइल के सैनिकों ने भी बाद में गाजा में हमास के ठिकानों को निशाना बनाकर कई हवाई हमले किए। अधिकारियों का कहना है कि हमास के छह ठिकानों को निशाना बनाया गया है जिसमें एक सुरंग और हथियार फैक्ट्री शामिल है। सेना ने कहा है कि शुक्रवार को एक प्रदर्शन के दौरान विस्फोटक उपकरण लगाया गया था और वह झंडे से जुड़ा हुआ था। जवान जब इजराइली हिस्से की तरफ से झंडे के पास गए तभी उपकरण में विस्फोट हो गया। इजराइली मीडिया में जारी खबरों के मुताबिक धमाका इजराइल और हमास आतंकवादियों के बीच 2014 के युद्ध के बाद सीमा पर हुई सबसे बड़ी घटना है। धमाके की जिम्मेदारी अभी तक किसी भी संगठन ने नहीं ली है। इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू इस समय एक सुरक्षा सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए जर्मनी के म्यूनिख शहर के दौरे पर हैं। लेकिन उन्होंने घटना के ऊपर प्रतिक्रिया दी है और कहा कि गाजा सीमा पर हुई घटना बेहद गंभीर है और सेना इसका इसका जवाब देगी।

Read more...

टेक्सास में फ्लू से 4000 से ज्यादा लोगों की मौत

ह्यूस्टन। अमेरिका के टेक्सास राज्य में 4,000 से ज्यादा लोगों की जान लेने वाले फ्लू का प्रकोप कुछ थमने से चिकित्सकों और प्रशासन ने राहत की सांस ली है। टेक्सास के राज्य स्वास्थ्य सेवा विभाग की प्रेस अधिकारी लारा एंटन ने बताया कि पिछले दो सप्ताह में डॉक्टरों के दौरे कुछ कम हुए हैं। लारा ने कहा, यह सकारात्मक संकेत है लेकिन हम अभी तक इसे लेकर आश्वस्त नहीं हैं कि इसका चलन खत्म हो गया है। यह जानने के लिए अभी हमें और कुछ सप्ताह इंतजार करना होगा। उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में इस मौसम में फ्लू से 4,153 लोगों की मौत हुई है। हमें यह सूचना मृत्यु प्रमाणपत्र के आंकड़ों से मिली है। विभाग के अनुसार, टेक्सास में फ्लू से अभी तक छह बच्चों की भी मौत हुई है।

Read more...

गीतांजलि समूह की 18 सहायक कंपनियों के बैलेंस शीट की जांच पड़ताल कर रही है सीबीआई

नई दिल्ली। सीबीआई गीतांजलि समूह की भारत स्थित 18 सहायक कंपनियों के बैलेंस शीट की जांच पड़ताल कर रही है जो मेहुल चौकसी द्वारा प्रवर्तित है। सीबीआई ऐसा इसलिए कर रही है ताकि पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) द्वारा दी गई 11384 करोड़ रूपए की गारंटी के आधार पर विभिन्न बैंकों से ली गई राशि की लेनदेन की पूरी श्रृंखला का पता लग सके। सीबीआई अधिकारियों ने कहा कि गिरफ्तार किए गए बैंक अधिकारियों गोकुलनाथ शेट्टी (सेवानिवृत्त) और मनोज खराट और नीरव मोदी की कंपनी के एक हस्ताक्षरकर्ता के अलावे पीएनबी के अन्य अधिकारियों से पूछताछ कर रही है। सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि लेनदेन की पूरी श्रृंखला का पता लगाया जा सके और कथित घोटाले की गहराई पता लग सके जो कि हजारों दस्तावेज और डिजिटल रिकार्ड में फैला हुआ है। उन्होंने बताया कि एजेंसी मेहुल चौकसी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने के बाद छापेमारी के दौरान जब्त बड़े सर्वर से बरामद रिकार्ड का विश्लेषण कर रही है। अरबपति डायमंड उद्योगपति चौकसी और उसके रिश्तेदार नीरव मोदी तथा पंजाब नेशनल बैंक अधिकारियों के बीच मिलीभगत से हुए कथित घोटाले में संभावित क्विड प्रो को के बारे में पूछे जाने पर अधिकारियों ने कहा कि वे अभी भी उसकी जांच पड़ताल कर रहे हैं और वे यह नहीं कह सकते कि इसमें नियमित भुगतान था या नहीं। एक अधिकारी ने कहा, फिलहाल मुख्य ध्यान घोटाले की गहराई, धनराशि की आवाजाही और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की भूमिका समझना है।

Read more...

कांग्रेस ने केंद्र सरकार से बैंकिंग प्रणाली पर श्वेत पत्र लाने को कहा

नई दिल्ली। पिछले पांच वर्षों में बैंकिंग प्रणाली में 61000 करोड़ रुपए से अधिक के घोटाले की बात करते हुए कांग्रेस ने केंद्र सरकार से बैंकिंग प्रणाली पर एक श्वेत पत्र लाने को आज कहा। पार्टी ने आरोप लगाया कि धोखाधड़ी करने वालों का संबंध भाजपा नीत राजग सरकार में सत्ता के शीर्ष पर बैठे लोगों से है। कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा, बैंक धोखाधड़ी का जैक रॉबिन्सन से भी तेजी से खुलासा हो रहा है। जैक रॉबिन्सन का उल्लेख तेजी दिखाने के संबंध में होता है। उन्होंने आरोप लगाया कि एक और बैंकिंग धोखाधडी सामने है। पीएनबी में हुए 11 हजार 400 करोड़ रुपए के घोटाले का उल्लेख करते हुए तिवारी ने कहा कि जहां मोदी-चोकसी प्रकरण अभी चल ही रहा है कि एक अन्य बैंकिंग धोखाधड़ी की खबर आई है। पीएनबी घोटाले के तहत अरबपति आभूषण कारोबारी नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी ने कथित तौर पर सरकारी बैंक से धोखाधड़ी करके लेटर्स ऑफ अंडरटेकिंग :एलओयू: हासिल किया। उन्होंने कहा कि रोटोमैक पेन्स के मालिक विक्रम कोठारी पर भारतीय बैंकों के समूह का 800 करोड़ रुपए बकाया होने का आरोप है और अब उसका पता नहीं चल रहा है।
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारतीय बैंकों में धोखाधड़ी हर रोज बढ़ रही है। भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार पिछले पांच वर्षों में 61 हजार 260 करोड़ रुपए की बैंकिंग धोखाधड़ी हुई है। इन पांच वर्षों में से चार वर्षों में भाजपा नीत राजग सरकार सत्ता में रही है। उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि इन कथित धोखाधड़ी करने वालों और भाजपा में शीर्ष पर बैठे लोगों के बीच संबंध भारतीय अर्थव्यवस्था की सेहत के बारे में कुछ गंभीर सवाल उठाते हैं। उन्होंने कहा, इसलिए कांग्रेस पार्टी सरकार से भारतीय बैंकिंग प्रणाली पर श्वेत पत्र लाने की मांग करती है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा नीत राजग सरकार को सभी बैंकों को निर्देश देना चाहिए कि वे धोखाधड़ी करने वालों और गैर निष्पादित परिसंपत्तियों :एनपीए: से संबंधित ब्योरा प्रकाशित करें। सितंबर 2017 तक सभी सरकारी और निजी बैंकों का कुल एनपीए 8,36,782 करोड़ रुपए का था। उन्होंने कहा, और इनमें से 77 फीसदी एनपीए अग्रणी भारतीय कॉरपोरेट ऑफिसों के हैं। उन्होंने सरकार पर एनपीए पर रोक लगाने और जनता के पैसे का खयाल नहीं रख पाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि एनपीए के मामले में 39 देशों में भारत का पांचवां स्थान है। एनपीए तब होता है जब कर्जदार लगातार दो तिहाई में ब्याज का भुगतान नहीं कर पाता है। कांग्रेस पीएनबी घोटाले को लेकर सरकार पर लगातार हमले कर रही है।

Read more...

शीला ने खोली मन की व्यथा : बोली, बरसों तक की गई अनदेखी

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी के हाथों दिल्ली में 2013 के चुनावों में सत्ता गंवाने के बाद लगभग हाशिए पर चली गई कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित ने पार्टी नेताओं को आंतरिक राजनीति नहीं करने की नसीहत देते हुए स्वयं के बारे में कहा कि बरसों तक उनकी अनदेखी की गई किंतु उन्होंने कुछ नहीं कहा। तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रह चुकीं शीला ने भाषा को दिए साक्षात्कार में किसी का नाम लिए बिना अपनी मन की व्यथा खोली और कहा, मुझसे जो कहा जाता है, वह मैं करती हूं। मैं कांग्रेस की हूं और कांग्रेस मेरी है। मैं कांग्रेस के लिए कुछ भी कर सकती हूं। जब मुझसे कोई कुछ कहेगा नहीं...मेरे में यह आदत भी नहीं है कि अपने आप से जाकर कहीं घुस जाऊं। तो बरसों तक उन्होंने अनदेखी की पर मैंने कुछ नहीं कहा। कोई शिकायत नहीं की। पिछले विधानसभा चुनाव के बाद दिल्ली नगर निगम सहित कई चुनाव एवं उपचुनाव हुए लेकिन शीला को पार्टी का स्टार प्रचारक बनाए जाने के बावजूद उनको प्रचार की कोई बड़ी जिम्मेदारी नहीं सौंपी गई। पिछले दिनों शीला और दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने एक साथ संवाददाता सम्मेलन किया। इन दोनों नेताओं को काफी समय बाद मंच साझा करते देखा गया। इसके पीछे के घटनाक्रम के बारे में पूछने पर शीला ने कहा, अचानक से यह जो प्रेस कांफ्रेस हुई, उससे पहले चार-पांच बार मेरे घर आए माकन जी। वह बोले, हम चाहते हैं (कि आप साथ आए), आपका काम है। हम इस काम का प्रचार करना चाहते हैं, इस्तेमाल करना चाहते हैं। शीला ने कहा, मेरे मन में कोई दुविधा नहीं है। हमें तो कांग्रेस के लिए काम करना है। किसी व्यक्ति विशेष के प्रति मन में कुछ नहीं है। अगर पार्टी के लिए कुछ अच्छा कर रहे हैं, तो यही सोच कर मैं गई और आपने देखा कि नतीजा अच्छा निकला। लेकिन पहले उन्होंने कभी कहा नहीं, इसलिए मैं गई नहीं। जब चुनाव हुए तो उन्होंने एक भी बार मुझसे नहीं कहा कि आइए। उन्होंने दिल्ली में कांग्रेस नेताओं को साथ में लेकर चलने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि यदि सभी साथ नहीं चलेंगे तो नुकसान कांग्रेस का ही होगा। उन्होंने कहा कि जब उन्हें पहली बार दिल्ली में कांग्रेस की जिम्मेदारी दी गई तो पार्टी हाईकमान ने उनकी पसंद पूछी थी। उन्होंने कहा कि जो है, सो है। किसी को बदलने की जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा, हमें ध्यान रखना चाहिए कि आतंरिक राजनीति न हो। दुर्भाग्य की बात है कि ए इस बात को नहीं समझते। उन्हें यह समझना होगा कि हमारी दुश्मन कांग्रेस नहीं है। हमारे विरोधी विपक्ष है। जिस दिन यह समझ आ जाएगा, सब ठीक हो जाएगा। दिल्ली के सिख नेता अरविन्दर सिंह लवली कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। किंतु उन्होंने अपनी भूल का सुधार करते हुए कल ही कांग्रेस में वापसी कर ली। माना जाता है कि लवली शीला के काफी करीबी हैं। दिल्ली की आप सरकार की योजनाओं के बारे में पूछे जाने पर शीला ने कहा कि तीन साल हो गए हैं। या तो आप उनके इश्तेहार देखेंगे या खूब सारी बातें देखेंगे हमने ए कर दिया, हमनें वह कर दिया। लेकिन जमीन पर कुछ भी नहीं दिखाई देता है। उन्होंने कहा, अगर मैं दो उदाहरण दूं। वह कहते थे कि बिजली-पानी फ्री कर देंगे। किसी का बिजली-पानी फ्री नहीं किया। चलिए हमारा मत करिए। किंतु गरीब तबका है, उसका तो कर देते। अब वह समय आ गया है कि (अरविन्द) केजरीवालजी की इस बात को लेकर पोल खुल गई है कि वह क्या कहते हैं और क्या करते हैं?

Read more...

अल्पसंख्यकों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर का पहला शैक्षणिक संस्थान राजस्थान के अलवर में खुलेगा

नई दिल्ली। अल्पसंख्यकों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर के पांच शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने की केंद्र सरकार की योजना के तहत पहला संस्थान राजस्थान के अलवर में स्थापित किया जाएगा। अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भाषा को बताया कि, अल्पसंख्यकों के लिए विश्व स्तरीय शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने की श्रृंखला में राजस्थान के अलवर में पहले संस्थान के लिए 100 एकड़ जमीन मिल गई है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और पूर्वाेत्तर में गुवाहाटी में अंतरराष्ट्रीय स्तर के शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने के लिए भूमि चिन्हित करने का कार्य चल रहा है। नकवी ने कहा, यह वृहद योजना है क्योंकि इसके तहत संस्थाओं में शोध केंद्र, प्रयोगशाला, पुस्तकालय समेत खेलकूद जैसी सुविधाएं तैयार की जाएंगी। अल्पसंख्यकों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर के पांच शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना के लिए वर्ष 2016 में परिकल्पना तैयार की गई थी और इसके लिए अफजल अमानुल्लाह के नेतृत्व में 11 सदस्ईय समिति का गठन किया गया था। इस समिति ने अपनी रिपोर्ट मंत्रालय को सौंप दी है। मार्च 2017 के बाद इस महत्वाकांक्षी योजना पर अमल की प्रक्रिया शुरू हुई। मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, उत्तरप्रदेश के ग्रेटर नोएडा में अल्पसंख्यकों के लिए स्किल डेवलपमेंट हब तैयार करने के लिए कार्य चल रहा है। अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय का कहना है कि यह वृदह योजना है और ऐसे एक संस्थान के लिए 50 से 100 एकड़ जमीन की जरूरत होगी। अल्पसंख्यकों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर के पांच शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने की पहल के तहत तकनीकी, मेडिकल, आयुर्वेद, यूनानी सहित विश्वस्तरीय कौशल विकास की शिक्षा देने वाले संस्थान स्थापित किए जाएंगे। इन शिक्षण संस्थानों में 40 प्रतिशत आरक्षण लड़कियों के लिए किए जाने का प्रस्ताव है। नकवी ने बताया कि मंत्रालय अल्पसंख्यक समुदायों के पिछड़े, कमजोर और गरीब वर्ग के विद्यार्थियों के लिए नवोदय विद्यालय की तर्ज पर 100 से अधिक स्कूल खोलने जा रहा है। उन्होंने कहा, इस वर्ष के अंत तक इनमें से 32 स्कूल काम करना शुरू कर देंगे। इनमें बालिकाओं को तवज्जो दी जाएगी। इस सन्दर्भ में 10 जनवरी 2017 को गठित एक उच्च स्तरीय कमेटी ने इन शिक्षण संस्थानों की रुपरेखा व जगह आदि के बारे में अपनी रिपोर्ट पेश कर दी है। नकवी ने कहा कि यह चिंता की बात है कि अल्पसंख्यकों विशेषकर मुस्लिमों में साक्षरता दर राष्ट्रीय औसत दर से बहुत नीचे है। सरकार इसे दूर करने के लिए शैक्षिक सशक्तिकरण का मजबूत अभियान चला रही है। मंत्री ने कहा कि अल्पसंख्यकों में और खासकर मुस्लिम समुदाय की लड़कियों का स्कूल ड्रॉप आउट रेट 72 फीसद से ज्यादा होना चिंता का विषय है। इसे ध्यान में रखते हुए अल्पसंख्यक मंत्रालय ने अल्पसंख्यकों, खासकर लड़कियों के शैक्षिक सशक्तिकरण पर जोर दिया है।

Read more...

जनसंख्या नियंत्रण के कड़े उपायों के लिए उच्चतम न्यायालय में याचिकाएं दायर

नई दिल्ली। जनसंख्या नियंत्रण के लिए उच्चतम न्यायालय में तीन अलग-अलग याचिकाएं दायर की गईं हैं जिसमें केन्द्र को दो बच्चों की नीति अपनाते हुए जनसंख्या नियंत्रण के कड़े उपाए सुनिश्चित करने और इसका पालन करने वालों को पुरस्कृत करने तथा ऐसा करने में विफल रहने वालों को दंडित करने के निर्देश देने की मांग की गई है। अधिवक्ताओं अनुज सक्सेना, पृथ्वी राज चौहान और प्रिया शर्मा की ओर से दायर जनहित याचिकाओं (पीआईएल) में दावा किया गया है कि जनसंख्या वृद्धि से जुड़े आंकड़े इस बात की ओर इशारा करते हैं कि 2022 तक भारत की आबादी डेढ़ करोड़ के आंकड़े को पार कर जाएगी। जनहित याचिकाओं में कहा गया है कि बेरोजगारी, गरीबी, निरक्षरता, खराब स्वास्थ्य, प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग जनसंख्या विस्फोट के कुछ प्रभाव हैं। इन याचिकाओं पर अगले सप्ताह सुनवाई होने की संभावना है। पीआईएल में कहा गया है, प्रतिवादी (केंद्र) को निर्देश दीजिए कि वह दो बच्चों की नीति को अपनाने वालों को प्रोत्साहित या पुरस्कृत करने एवं इसका पालन नहीं करने वालों को दंडित करने के लक्ष्य के साथ नीति तैयार करे। इनमें दावा किया गया है कि भारत के पास सबसे अधिक युवा बल है और जनसंख्या विस्फोट के कारण युवाओं में बेरोजगारी बढ़ रही है। पीआईएल में कहा गया है, 1951 की जनगणना में भारत की आबादी करीब 36.1 करोड़ थी जो 2011 की गणना में बढ़कर 1.21 अरब हो गई। इससे पहले 12 फरवरी को अनुपम बाजपेई ने इसी मुद्दे को लेकर शीर्ष न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। उन्होंने आरोप लगाया कि जनसंख्या वृद्धि से देश के सीमित प्राकृतिक संसाधनों का दोहन बढ़ रहा है।

Read more...

प्राचीन और नए पूर्वाेत्तर का संघर्ष बयां करती है नई किताब

नई दिल्ली। लेखक-पत्रकार संजय हजारिका की एक नई किताब में प्राचीन और नए पूर्वाेत्तर के संघर्ष की कहानी कही गई है। साथ ही इस किताब में क्षेत्र में आए बदलावों पर प्रकाश डाला गया है। पूर्वाेत्तर के लोगों व बाकी भारत के लोगों में क्या अब भी कोई अंतर है और क्या उनकी नियति में इसी तरह अलग-थलग महसूस करना है। हजारिका ने स्ट्रेंजर्स नो मोर- न्यू नरेटिव्स फ्रॉम इंडियाज नॉर्थईस्ट के जरिए इन सवालों का उत्तर देने का प्रयास किया है। पुस्तक का प्रकाशन एलिफ बुक कंपनी ने किया है। इस बार ज्यादा कहानियों, साक्षात्कारों व शोधों, और पूर्वाेत्तर की विस्तृत यात्रा के बाद उन्होंने इस पुस्तक में यह बताने की कोशिश की है कि आज के पूर्वाेत्तर में स्थितियां कैसी हैं। हजारिका इस किताब को आफस्पा की समीक्षा करने वाली जस्टिस जीवन कमिटि की रिपोर्ट पर कार्यवाही कर पाने में केंद्र की कायराना असफलता का एक अध्ययन बताते हैं।

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News