Menu

राष्ट्रीय

सरकार की फेसबुक को चेतावनी

नई दिल्ली, भारत ने आज सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक को आगाह किया कि यदि उसने देश की चुनाव प्रक्रिया को किसी भीअ वांछित तरीके से प्रभावित करने का प्रयास किया तो उसे कड़ी कार्वाई का सामना करना पड़ेगा।
अमेरिका के नियामक द्वारा फेसबुक के खिलाफ प्रयोगकर्ताओं की गोपनीयता के संभावित उल्लंघन की जांच की जा रही है।
सूचना प्रौद्योगिकी और कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने आज कहा कि सरकार प्रेस, भाषण और अभिव्यक्ति की आजादी का पूरा समर्थन करती है। साथ ही वह सोशल मीडिया पर विचारों के आदान प्रदान के पक्ष में भी है।
संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से बातचीत में प्रसाद ने कहा कि फेसबुक सहित कोई भी सोशल मीडिया साइट यदि अवांछित तरीके से देश की चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित करने का प्रयास करती है, तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जरूरत होने पर कड़ी कार्वाई की जाएगी।
अमेरिकी संघीय व्यापार आयोग( एफटीसी) फेसबुक की इस बात के लिए जांच कर रहा है कि क्या उसने प्रयोगकर्ताओं के लाखों आंकड़े एक राजनीतिक परामर्श एजेंसी को दिए थे। मीडिया की खबरों में आरोप लगाया गया है कि कैंब्रिज एनलिटिका ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के2016 के चुनाव अभियान में इन आंकड़ों का इस्तेमाल किया था।
प्रसाद ने आरोप लगाया कि कैंब्रिज एनालिटिका के कांग्रेस पार्टी के साथ संबंध हैं।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सोशल मीडिया प्रोफाइल में कैंब्रिज एनालिटिका की क्या भूमिका है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने2019 के चुनाव अभियान के लिए कैंब्रिज एनालिटिका की सेवा ली है। इस एजेंसी पर रिश्वत, सेक्स वर्करों का इस्तेमाल करने तथा फेसबुक से डेटा चुराने का आरोप है।

Read more...

महंगा हुआ हवाई सफर

अगर आप छुट्टियां मनाने के लिए हवाई टिकट बुक कराने की सोच रहे हैं तो आपको ज्यादा पैसे चुकाने पड़ सकते हैं। दरअसल इंडिगो और गो एयर के 14्र320 नियो विमान बंद होने के बाद हवाई किराए 10-15 फीसदी तक बढ़ गए हैं।


इस साल अगर आप गर्मी की छुट्टियां अपने फेवरेट हॉलिडे डेस्टिनेशन पर गुजारने का मन बना रहे हैं तो आपको यात्रा महंगी पड़ सकती है। दरअसल इंजन में खराबी और अन्य तकनीकी कारणों से रद्द की गई उड़ानों की वजह से एयरलाइंस की फ्लीट क्षमता कम हो गई है। इसका असर हवाई किराए पर देखने को मिल रहा है। जानकारों का मानना है कि अगर इन एयरक्राफ्ट्स ने जल्द ही दोबारा उड़ान भरनी शुरू नहीं की तो हवाई किराए में और बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है।


गर्मी की छुट्टियों की वजह से बढ़ी डिमांड ने अभी से कई समर डेस्टिनेशंस के हवाई किराये 10 से 15 फीसदी तक बढ़ा दिए हैं। मसलन अगर आप 18 अप्रैल का मुंबई से श्रीनगर का हवाई किराया देखें तो जो टिकट 12 मार्च तक आपको 7 हजार रुपए में मिल रहा था वो अब 8,200 रुपए में मिल रहा है। वहीं मुंबई से कोच्चि का किराया 2,200 से बढ़कर 3,200 हो गया है। मुंबई से बागडोगरा का हवाई किराया 4,700 से बढ़कर 5,500 और मुंबई से चंडीगढ़ का किराया 4,600 से बढ़कर 5,800 तक हो गया है।


ऐसे ही दिल्ली से श्रीनगर का हवाई किराया 2,900 से बढ़कर अब 3,800 रुपए दिल्ली से कोच्चि का किराया 3,700 से बढ़कर 4,500 हो गया है । वहीं दिल्ली से बागडोगरा का किराया 3,700 से बढ़कर 4,500 और दिल्ली से चंडीगड़ का किराया 1,800 से बढ़कर 2,500 रुपए हो गया है । देश के दूसरे शहरों से भी इन हॉलिडे डेस्टिनेशंस के लिए हवाई किरायों में उछाल देखने को मिला है।


एयरलाइंस आमतौर पर फ्लाइट की क्षमता के हिसाब से हवाई किराया तय करती हैं। ऐसे में क्षमता की कमी और यात्रियों की बढ़ती डिमांड ने हवाई किराए बढ़ा दिए हैं।

Read more...

कैंसर होने से पहले दिखाई पड़ते है ये 3 लक्षण, जानने के लिए अभी पढ़ें

कैंसर बहुत ही जटिल और भयंकर बीमारी है जो जल्दी ठीक होने का नाम नहीं लेती है। आपने तो बहुत से लोगों को कैंसर से मरते हुए देखा होगा यह सुना भी होगा। कैंसर पूरे दुनिया में बहुत ही तेजी से फैल रहा है अगर कैंसर की पहचान शुरुआती दौर में हो जाए तो रोगी को आसानी से ठीक किया जा सकता है। आज हम इसी के बारे में बताएंगे कि कैंसर शुरुवाती दौर में हमें क्या संकेत देतीं है इसे लोगों को जानना बहुत ही जरूरी होता है।

कैंसर होने से पहले शरीर देता है यह संकेत, जरूर जाने

अगर आपके शरीर मे किसी जगह घाव ही गया है या फिर कट गया है और वह जल्दी ठीक होने का नाम नही ले रहा है। तो यह कैसर की ओर संकेत करता है। ऐसे में आप किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह लेकर ईलाज अवश्य करवाएं।
अगर किसी भी इंसान का वजन अचानक घटने लगे और वह व्यक्ति अपने आप को कमजोर महसूस करने लगे तो समझ जाइए की अब कैंसर का शिकायत हो गया है।
अगर मल-मूत्र त्याग करते समय या नाक से या फिर छिकतें समय खून आता है तो यह भी कैंसर का लक्षण है।
दोस्तों शरीर से पसीना निकलना आम बात है। जब किसी मनुष्य के शरीर से परिश्रम करते वक्त पसीना निकले तो यह एक सामान्य सी बात है। अगर वह पसीना सोते समय या किसी जगह बैठने के बाद अचानक से पसीना निकले तो समझ जाइए कि यह कैंसर का एक लक्षण है।
अंत- दोस्तों अगर ऊपर दिए गए ये तीनों लक्षण आपके शरीर में पाए जाते हैं तो आपको कैंसर की ओर इशारा करते हैं ऐसे में आप किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह लेकर इलाज जरूर करवाएं।

Read more...

नमक के कण से भी छोटी चिप रोकेंगी धोखाधड़ी: आईबीएम

लॉस वेगस, प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी आईबीएम का अनुमान है कि अगले पांच साल में धोखाधड़ी और खाद्य सुरक्षा समेत अन्य मुद्दों से निपटने के लिए वस्तुओं और उपकरणों में स्याही की बिंदु या अतिसूक्ष्म कंप्यूटर जैसे क्रिप्टोग्राफ्रिक एंकर लगाए जाएंगे। इनका आकार नमक के कण से भी छोटा होगा।
आईबीएम ने बयान में कहा कि क्रिप्टोग्राफिक एंकर का इस्तेमाल ब्लॉकचेन डिस्ट्रीब्यूटेड लेजर प्रौद्योगिकी के साथ होगा ताकि उत्पाद की प्रमाणिकता बनने वाले स्थान से लेकर ग्राहकों में हाथ में पहुंचने तक सुनिश्चित किया जा सके। डिस्ट्रीब्यूटेड लेजर प्रौद्योगिकी संपत्ति या उत्पाद के लेनदेन को दर्द करने वाली एक डिजीटल प्रणाली है जिसमें लेनदेन से जुड़ी जानकारियां एक ही समय में कई जगह पर दर्ज होती है।
इसमें कहा गया है कि ए प्रौद्योगिकियां नए समाधानों का मार्ग प्रशस्त करते हैं जो कि खाद्य सुरक्षा, विनिर्मित कलपुर्जों की प्रमाणिकता, नकली सामान की पहचान जैसे मुद्दों से निपटने में मदद करेगा।
वैश्विक अर्थव्यवस्था में सालाना600 अरब से ज्यादा की धोखाधड़ी होती है और कुछ देशों में जान बचाने वाली करीब70 प्रतिशत दवाएं नकली हैं।

Read more...

डब्ल्यूटीओ को मजबूत करने के लिए साझा जमीन की जरुरत : प्रभु

नई दिल्ली, वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने आज विश्व व्यापर संगठन (डब्ल्यूटीओ) के सदस्यों से बहुपक्षीय व्यापार निकाय को मजबूत करने के लिए साझा जमीन की बनाने की अपील की। दिसंबर में ब्यूनस आयर्स में हुई मंत्रिस्तरीय बैठक में गतिरोध के चलते इस दिशा में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा था।
वैश्विक कारोबार में बढ़ते संरक्षणवाद के बीच आज यहां आयोजित विश्व व्यापार संगठन( डब्ल्यूटीओ) कीअनौ पचारिक बैठक में अमेरिका और चीन सहित52 देश हिस्सा ले रहे हैं।
भारत ने डब्ल्यूटीओ को पुनर्जीवित करने के विकल्प तलाशने के लिए यह बैठक बुलाई है।
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि बैठक ऐसे समय हो रही है जब डब्ल्यूटीओ विभिन्न चुनौतियों और प्रणालीगत मुद्दों का सामना कर रहा है, जिसमें ब्यूनस आयर्स, अर्जेंटीना में सामने आया गतिरोध भी शामिल है।
उन्होंने कहा, ै यहां मौजूद आप लोगोंमें से अधिकतर इस बात से सहमत होंगे कि बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली का आर्थिक वृद्धि, अंतरराष्ट्रीय व्यापार, विकास और रोजगार में महत्वपूर्ण योगदान है... यदि आप डब्ल्यूटीओ और उसके योगदान को अहमियत देते हैं, तो आप इसे मजबूत बनाने के लिए मिलकर प्रयास करने पर सहमत होंगे। निष्क्रियता हम में से किसी की पसंद नहीं होनी चाहिए।ै
प्रभु ने कहा कि हमारी आज की बैठक साझा हितों के सभी मुद्दों के साथ- साथ चुनौतियों के समाधान खोजने के लिए स्वतंत्र एवं बेबाक तरह से विचारों का आदान- प्रदान करने की सुविधा देगी।
इस बैठक का उद्देश्य डब्ल्यूटीओ को पुनर्जीवित करने का है और इस उद्देश्य को प्राप्तकरने के लिए हमें साथ मिलकर काम करने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि हमें संगठन को मजबूत बनाने के लिए साझा जमीन की पहचान करने के तरीके खोजने हैं।
उन्होंने बैठक में हिस्सा लेने वाले प्रतिनिधियों से डब्ल्यूटीओ में आगे काम करने के लिए राजनीतिक मार्गदर्शन प्रदान करने जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने का आह्वान किया।
यह बैठक अमेरिकी प्रशासन की ओर से इस्पात और एल्युमीनियम पर उत्पाद शुल्क लगाने और निर्यात प्रोत्साहन कार्यक्रम को लेकर अमेरिका के भारत को डब्ल्यूटीओ में खींचने में बाद आयोजित की गई है।
भारत में इस बैठक में शामिल होने के लिए पाकिस्तान को भी आमंत्रित किया था, लेकिन उसने सम्मेलन से दूर रहने का फैसला किया।
डब्ल्यूटीओ के महानिदेशक रॉबर्टाे एजेवेदो ने कहा, ै हम डब्ल्यूटीओ और उसके बाहर कई चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। इस बिंदु पर वैश्विक व्यापारिक माहौल बहुत जोखिमभरा है। हम यहां डब्ल्यूटीओ की बैठक में खुली और निष्पक्ष चर्चा की कोशिश करेंगे।
बैठक में डब्ल्यूटीओ के विवाद निपटान इकाई के अपीलीय निकाय के सदस्यों की नियुक्ति के मुद्दे पर भी चर्चा होगी। अमेरिका ने इन सदस्यों की नियुक्ति अटका रखी है, जिससे विवाद निपटान कार्य प्रभावित हो रहे हैं।
अमीर देश समूह बनाकर निवेश सुविधा, ई- कॉमर्स के लिए नियम बनाने, स्त्री- पुरुष समानता को बढ़ावा और मत्स्य पालन पर सब्सिडी घटाने जैसे नए मुद्दे को आगे बढ़ाने के लिए जमीन तैयार कर रहे हैं जबकि भारत कृषि से जुड़े मुद्दों को डब्ल्यूटीओ में ले जाना चाहता है।

Read more...

डब्ल्यूटीओ की मंत्रिस्तरीय बैठक शुरू, 52 देश ले रहे हिस्सा

नई दिल्ली, वैश्विक कारोबार में बढ़ते संरक्षणवाद के बीच आज यहां आयोजित विश्व व्यापार संगठन( डब्ल्यूटीओ) की अनौपचारिक बैठक में अमेरिका और चीन सहित52 देशों के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं।
भारत ने डब्ल्यूटीओ को पुनर्जीवित करने के विकल्प तलाशने के लिए यह बैठक बुलाई है।
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने बैठक में प्रतिनिधियों का स्वागत किया और उम्मीद जताई कि यह बैठक हिस्सा लेने वाले देशों को स्वतंत्र एवं खुलकर विचार- विमर्श करने का अवसर मिलेगा।
मंत्रालय ने बयान में कहा कि डब्ल्यूटीओ के महानिदेशक रॉबर्टाे एजेवेदो समेत52 देशों के प्रतिनिधि चर्चा में भाग ले रहे हैं। प्रतिनिधियों में27 देशों के मंत्री और उप- मंत्री भी शामिल हैं।
इसमें आगे कहा गया है कि सभी प्रतिनिधिमंडल के प्रमुखों ने इस बैठक और डब्ल्यूटीओ में काम करने के लिए राजनीतिक मार्गदर्शन प्रदान करने की वाणिज्य मंत्री की पहल की सराहना की।
अनौपचारिक विचार- विमर्श पूरे दिन जारी रहेगा और बैठक में भाग लेने वाले प्रतिनिधि विश्व व्यापार संगठन को पुनर्जीवित करने के विकल्प तलाशेंगे।
संरक्षणवाद को लेकर चिंता जताते हुए रॉबर्टाे एजेवेदो ने कहा, ै अमेरिका ने इस्पात और एल्युमीनियम पर नया शुल्क लगाने की घोषणा की है। इसके जवाब में हमने कई अन्य देशों की ओर से भी संभावित व्यापार प्रतिबंध कार्वाई करने का ऐलान भी सुना है। यह वास्तव में चिंता का विषय है।ै
उन्होंने कहा कि तनाव बढ़ाने के बजाए विश्व व्यापार संगठन के सदस्य देशों वैश्विक व्यापार को बाधित करने वाले मुद्दों को हल करने के तरीके ढूंढने की जरूरत है।

Read more...

अपनी सम्प्रभुता की रक्षा करेगा चीन, एक इंच जमीन नहीं छोड़ेगा : शी

बीजिंग, चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग का कहना है कि चीन अपनी एक इंच जमीन नहीं छोड़ेगा और अपनी सम्प्रभुता की रक्षा करेगा।
गौरतलब है कि पिछले सप्ताह संविधान में संशोधन के बाद राष्ट्रपति शी का दूसरा कार्यकाल जीवनपर्यंत चल सकता है।
भारत के साथ सीमा विवाद के अलावा, चीन पूर्वी चीन सागर के उप द्वीपों पर भी अपना हक जमाता है जो फिलहाल जापान के प्रशासनिक क्षेत्र में आते हैं। इनके अलावा दक्षिण चीन सागर में नियंत्रण को लेकर वह वियतनाम, फिलीपीन, मलेशिया, ब्रूनेई और ताइवान के साथ उलझा हुआ है।
संसद के18 दिन लंबे सत्र के अंतिम दिन अपने आधे घंटे के भाषण में शी ने कहा, चीन के लोग और चीनी राष्ट्र का साझा दृढ़ मत है कि हमारी जमीन का एक इंच भी चीन से अलग नहीं किया जा सकता है।
इस सत्र के दौरान नेशनल पीपुल्स कांग्रेस( चीन की संसद) ने संविधान में संशोधन कर राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के लिए अधिकतम दो कार्यकाल की दशकों पुरानी परंपरा को समाप्त कर दिया। इसके साथ ही शी के जीवनपर्यंत राष्ट्रपति पद पर बने रहने का रास्ता साफ हो गया है।
सत्र के दौरान2970 सांसदों ने बतौर राष्ट्रपति और सेना प्रमुख के रूप में शी को दूसरे कार्यकाल के लिए चुना।
पिछले वर्ष अक्तूबर में शी को लगातार दूसरी बार चीन की कम्युनिस्ट पार्टी( सीपीसी) का महासचिव चुना गया था।
पार्टी और सेना प्रमुख होने के साथ- साथ जीवनपर्यंत राष्ट्रपति पद पर बने रहने की संभावनाओं के साथ ही शी सीपीसी के संस्थापक माओ त्से तुंग के बाद देश के सबसे ताकतवर नेता बन गए हैं।
अतीत की परंपराओं से अलग हटकर शी ने आज संसद सत्र के अंतिम दिन उसे संबोधित किया जिसका पूरे देश में प्रसारण किया गया।
ताइवान के संदर्भ में उन्होंने कहा, हमें अपने देश की सम्प्रभुता और अखंडता की रक्षा करनी चाहिए और मातृभूमि के पूर्ण एकीकरण के लक्ष्य को प्राप्त करना चाहिए।
गौरतलब है कि चीन ताइवान को अपने देश का हिस्सा मानता है।
उन्होंने देश में अलगाववादियों को भी कड़ा संदेश दिया।
उन्होंने कहा कि चीन के लोगों में अलगावादियों के कदमों को विफल बनाने का दृढ़ निश्चय, पूरा विश्वास और पूर्ण क्षमता है।
शी ने अपने भाषण में बौद्ध धर्म गुरू दलाई लामा को विभाजनकारी बताया।

Read more...

संरा ने जल की वैश्विक समस्या से निपटने के लिए भारत के प्राकृतिक समाधान खोजने की सराहना

संयुक्त राष्ट्र, संयुक्त राष्ट्र ने अपनी एक रिपोर्ट में भारत में स्थानीय समुदायों द्वारा जल की उपलब्धता में सुधार लाने के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना की है।
इस रिपोर्ट में वैश्विक जल चुनौतियोंसे निपटने के लिए प्रकृति आधारित समाधानों को रेखांकित किया जाता है।
संयुक्त राष्ट्र की विश्व जल विकास रिपोर्ट2018 ने अपनी एक रिपोर्ट में कहाहै कि वर्ष2050 तक करीब पांच अरब लोगों को पर्याप्तमात्रा में जल पाने में कठिनाई होगी। प्राकृतिक समाधान तेजी से महत्वपूर्ण बनते जा रहे हैं। इसमें चीन के वर्षा जल प्रयोग, भारत के जंगल उत्थान और यूक्रेन की कृत्रिम झीलों का उदाहरण दिया गया है।
ब्राजील में दुनिया के सबसे बड़े जल- संबंधी समारोह में यह रिपोर्ट जारी की गई।
यूनेस्को की प्रमुख एड्रो एजोल ने कहा, जनसंख्या वृद्धि और जलवायु परिवर्तन के कारण जल सुरक्षा को लेकर उत्पन्न हो रही चुनौतियों से निपटने के लिए हमें जल संसाधनों के प्रबंधन के लिए नए समाधानों को खोजने की आवश्यकता है।
उन्होंने कहा, अगर हमने कुछ नहीं किया तो वर्ष2050 तक करीब पांच अरब लोग ऐसे इलाकों में रहने को मजबूर होंगे जहां पानी बेहद मुश्किल से उपलब्ध होगा।

Read more...

अंटार्कटिका में विशालकाय ग्लेशियर के पिघलने से समुद्र स्तर के बढऩे का डर

सिडनी, अंटार्कटिकामें तैर रहे फ्रांससे भी बड़े आकार के ग्लेशियरके जलवायु के गर्म होने के साथ जल्दी पिघलने की आशंका है और इससे समुद्र के जलस्तर में भारी वृद्धि हो सकती है।
वैज्ञानिकों ने आज कहा कि टॉटेन ग्लेशियर अंटार्कटिका में सबसे तेज तैरने वाला और सबसे बड़ा ग्लेशियर है। वैज्ञानिक उस पर करीबी नजर रख रहे हैं कि वह कैसे पिघलता है।
शोधकर्ताओं ने पहले जितना सोचा था उससे कहीं अधिक आकार में यह ग्लेशियर तैर रहा है।
यह अध्ययन बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि हाल के अध्ययनों में यह पता चला है कि टॉटेन ग्लेशियर का कुछ हिस्सा गर्मी से पहले ही पिघल रहा है।
सेंट्रल वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के पॉल विनबेरी ने कहा, इसका मतलब यह भी है कि टॉटेन भविष्य में जलवायु में होने वाले बदलावों के लिहाज से अधिक संवेदनशील है।
ग्लेशियर बर्फ का विशालकाय हिस्सा होता है जो कई सदियों में धीरे- धीरे घाटियों, पर्वतों और निचले इलाके की ओर बढ़ता है। उनमें पृथ्वी के ताजा जल की बड़ी मात्रा होती है और जब वे पिघलते हैं तो समुद्र का स्तर बढऩे में उनका बड़ा योगदान होता है।
नासा के अनुसार, वर्ष2002 से2016 के बीच अंटार्कटिका में प्रति वर्ष125 गीगाटन बर्फ पिघली जिससे दुनियाभर में समुद्र स्तर सालाना0.35 मिलीमीटर बढ़ा।

Read more...

दुनिया के आखिरी सफेद नर गैंडे की हुई मौत

नौरोबी, अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक दुनिया का आखिरी सफेदनर गैंडे सुडान की उम्र संबंधी समस्याओं के कारण मौत हो गई है।
केन्या के ओआई पेजेटा अभयारण्य से जारी एक बयान में कहागया है कि45 वर्षीय गैंडे की हालत खराब होने के बाद कलउसे मौत की दवा दे दी गई।
यह नर गैंडा दो जीवित मादा गैंडों की मदद से विलुप्त होने वाली इस प्रजाति को बचाने के एक महत्वाकांक्षी प्रयास का एक हिस्सा था।
एक समय सुडान काफी लोकप्रिय था। हजारों लोग उसे देखने के लिए आते थे।

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News