Menu

top banner

राष्ट्रीय

शशिकला AIADMK से किया बाहर

नेशनल राजस्थान, नई दिल्‍ली, एआईएडीएमके ने पार्टी की महासचिव शशिकला को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। मंगलवार को हुई जनरल काउंसिल की बैठक में यह फैसला लिया गया। इसके अलावा टीटीवी दिनाकरन द्वारा लिए गए सभी फैसले भी रद्द कर दिए गए हैं। इसकी जानकारी देते हुए राज्य के मंत्री आरबी उदयकुमार ने कहा कि बैठक में यह रिजॉल्यूशन पास हुआ है कि शशिकला को पार्टी से निकाला जाता है। इसके साथ ही टीटीवी दिनाकरन द्वारा लिए गए फैसलों के लिए पार्टी बाधित नहीं है।

Read more...

पाक का टैग लगा मृत बाज मिला

डीएनआर ब्यूरों. बज्जू, सीमावर्ती क्षेत्र में पाक का टैग लगा बाज मृत अवस्था में मिला है। मृत बाज पर पाक का टैग लगा होने की जानकारी के बाद बाद हरकत में आई खुफिया एजेंसियां इसकी जांच में जुट गई है।

Read more...

प्रदेश के 16 लाख वाहन होंगे बंद

डीएनआर ब्यूरो. जयपुर, अगर आपका वाहन 15 साल से ज्यादा पुराना है। अगर आपने अपने वाहन का पंजीयन रिन्यू नहीं कराया है तो तुरंत आरटीओ कार्यालय जाईए, क्योंकि यदि आप अब चूक गए तो अपना वाहन सड़क पर नहीं चला पाएंगे। परिवहन विभाग इतिहास में पहली बार राजस्थान में 16 लाख से ज्यादा वाहनों का पंजीयन निरस्त करने जा रहा है। यह निर्णय अपने आप में बहुत बड़ा माना जा रहा है। हालांकि परिवहन विभाग ने इसकी कवायद पिछले साल ही शुरू कर दी थी, लेकिन अभी तक प्रदेश के ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी ही नहीं हैं। 31 मार्च 2001 तक पंजीकृत वाहन यानी ऐसे वाहन जो 31 मार्च 2001 से पहले खरीदे गए हैं, उन्हें दौड़ से बाहर किया जा रहा है। परिवहन विभाग यह कवायद प्रदेश में प्रदूषण का स्तर कम करने के लिए कर रहा है। 

कुछ इस प्रकार है नियम
परिवहन विभाग का नियम है कि 15 साल पुराना होने पर वाहन का पंजीयन दुबारा रिन्यू कराना होता है। कार या मोटरसाइकिल जैसे नॉन ट्रांसपोर्ट वाहनों के लिए यह पंजीयन 5 साल के लिए रिन्यू होता है, जबकि बस या ट्रक जैसे भारी वाहनों के लिए 15 साल तक के लिए पंजीयन रिन्यू कराया जाता है। परिवहन विभाग उन्हीं वाहनों का पंजीयन निरस्त करेगा, जिन वाहन चालकों ने अपने वाहन का पंजीयन रिन्यू नहीं करवाया है।

पंजीयन के लिए समय
बड़ी बात यह है कि इस घटनाक्रम के बारे में आम प्रदेशवासियों को खबर ही नहीं है। क्योंकि परिवहन विभाग का कहना है कि घर-घर नोटिस जारी करना उनके लिए संभव नहीं है, ऐसे में एक आम सूचना अखबारों में प्रसारित की जा रही है। जिसमें उन सीरीज के बारे में प्रकाशित किया गया है, जिनके वाहन 15 साल से ज्यादा पुराने हो चुके हैं। अब जिन 16 लाख वाहनों के पंजीयन निलंबित किए जा रहे हैं, उन्हें 6 माह का समय दिया गया है। यदि ये वाहन चालक निलंबन के बाद 6 माह में अपने वाहन का पंजीयन रिन्यू नहीं करवाते हैं तो उनके वाहनों को डि-रजिस्टर कर दिया जाएगा। यानी उनके वाहनों की आरसी निरस्त कर दी जाएगी।

Read more...

'नाबालिग कश्मीरियों को न समझें क्रिमिनल्स'

नेशनल राजस्थान, केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि पिछले एक वर्ष में कश्मीर घाटी में शांति बहाली के प्रयासों का असर सतह पर दिखने लगा है. जम्मू-कश्मीर की चार दिवसीय यात्रा पर आए सिंह ने सोमवार को कहा कि राज्य के हालात में काफी सुधार हुआ है और वो कश्मीर समस्या के पुराने विवादित पहलुओं के समाधान के लिए किसी भी व्यक्ति से मिलने के लिए तैयार हैं. सुरक्षा समीक्षा बैठक के बाद उन्होंने कहा कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों के साथ अपराधी की तरह नहीं बल्कि जुवेनाइल एक्ट के तहत पेश आना चाहिए. सिंह ने कहा, 'जो बच्चे 18 साल से कम उम्र के हैं उनके साथ अपराधियों की तरह व्यवहार नहीं किया जाना चाहिए. उनकी जांच जुवेनाइल एक्ट के अनुसार होनी चाहिए. उन्हें जेल में नहीं बल्कि किशोर गृह (जुवेनाइल होम्स) में भेजा जाना चाहिए.' उन्होंने कहा कि कश्मीर में शांति का वृक्ष सूखा नहीं है. कश्मीर मुद्दे का स्थाई सामाधान पांच सी - सहानुभूति, संवाद, सहअस्तित्व, विश्वास बहाली और स्थिरता पर आधारित है. उन्होंने कहा, 'यहां तमाम शिष्टमंडलों से मिलने और बैठकों के बाद, मैं समझता हूं कि कश्मीर में हालात काफी सुधरे हैं. मैं ये दावा नहीं करना चाहता कि अब सबकुछ बिल्कुल ठीक है, लेकिन ये बात मैं दृढ़ विश्वास से कह सकता हूं कि हालात सुधर रहे हैं.' गृह मंत्री ने कहा कि अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों के साथ बातचीत की है और वो सेना के जवानों से भी मिलेंगे.

कश्मीर समस्या सुलझाने के लिए किसी से भी बात करने को तैयार
ये पूछने पर कि क्या सरकार अलगाववादियों के साथ बातचीत के लिए तैयार है, गृहमंत्री ने कहा, 'मैं ऐसे किसी भी व्यक्ति से मिलने को तैयार हूं जो कश्मीर की समस्या सुलझाने में हमारी मदद करने को इच्छुक है. इसमें बातचीत के लिए औपचारिक या अनौपचारिक न्योता देने का कोई प्रश्न ही नहीं है. जो बात करना चाहते हैं, वो स्वयं आगे आएं. मैं हमेशा खुले मन के साथ यहां आता हूं.' उन्होंने कहा कि सरकार शांति बहाली से जुड़े ऐसे किसी पक्षकार को बातचीत की प्रक्रिया बाहर नहीं रखना चाहती, जिनके साथ बातचीत की जानी चाहिए.

पाकिस्तान बंद करे घुसपैठ
सिंह ने पाकिस्तान से राज्य में आतंकवादियों की घुसपैठ बंद करने को भी कहा जिससे गरिमामय तरीके से शांति बहाली सुनिश्चित हो सके. गृह मंत्री ने कहा, 'एएसआई अब्दुल रशीद को आज श्रद्धांजलि अर्पित करते समय मैंने एक बार फिर उनकी बेटी जोहरा की तस्वीर देखी, मैं उस बच्ची का चेहरा भूल नहीं सकता हूं. हम कश्मीर के प्रत्येक नौजवान के चेहरे पर मुस्कुराहट और खुशी देखना चाहते हैं और इस दिशा में हमारी कोशिशें जारी रहेंगी.' रशीद हाल ही में आतंकवादियों के साथ सुरक्षा बलों की एक मुठभेड़ में गंभीर रूप से घायल हो गए थे, बाद में उनका निधन हो गया.

पड़ोसियों से बेहत रिश्ते बनाने की चाहत
सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार ने मई 2014 में कार्यभार संभालने के दिन से ही पाकिस्तान सहित सभी पड़ोसियों से आपसी रिश्ते बेहतर बनाने के संजीदा प्रयास तेज़ कर दिए थे. इसी कवायद के तहत प्रधानमंत्री ने शपथ ग्रहण समारोह में सभी पड़ोसी देशों के राष्ट्राध्यक्षों को आमंत्रित किया था. आमंत्रण के पीछे की मंशा साफ थी कि इसका मकसद हाथ मिलाना मात्र नहीं था बल्कि दिल से दिल का रिश्ता कायम करना था. इतना ही प्रधानमंत्री प्रोटोकॉल तोड़कर भी एक कार्यक्रम में शिरकत करने वहां गए. हमने रिश्ते बेहतर करने के लिए हर संभव उपाय किए. हमने ये कभी नहीं कहा कि हम अपने पड़ोसियों से बेहतर रिश्ते बनाना नहीं चाहते हैं, हम अच्छे रिश्ते कायम करना चाहते हैं.

वाजपेई हों या मोदी, हर किसी ने किया बेहतर प्रयास
सिंह ने कहा, 'अटल बिहारी वाजपेई ने कहा था कि हम दोस्त तो बदल सकते हैं लेकिन पड़ोसी नहीं. लेकिन हमारा पड़ोसी देश (पाकिस्तान) क्या कर रहा है? वो हमारी सीमा में आतंकवादियों की घुसपैठ करा रहे हैं. मैं पाकिस्तान से कहूंगा कि इसे रोका जाना चाहिए. वाजपेई हों या प्रधानमंत्री मोदी, हर किसी ने अपने स्तर पर बेहतर प्रयास किए लेकिन इसके एवज में पाकिस्तान का वो रवैया कभी नहीं रहा जो होना चाहिए था.

पहले की तुलना में घाटी में हालात बेहतर
गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पिछले वर्ष की तुलना में कश्मीर घाटी में हालात बेहतर हुए हैं. गृहमंत्री ने श्रीनगर में कहा कि पाकिस्तान को जम्मू-कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ कराना बंद करना चाहिए.

राजनाथ सिंह ने कहा, 'मैं हर किसी से बातचीत करने को तैयार हूं, मैं उन सभी को आमंत्रित करता हूं जो कश्मीर की समस्याओं का समाधान निकालने में हमारी मदद करना चाहते हैं. राजनाथ सिंह ने अनुच्छेद 35ए पर कहा, 'हम लोगों की भावनाओं के खिलाफ नहीं जाएंगे. अब कोई मुद्दा नहीं बचा है इसलिए ऐसे मुद्दों को उठाया जा रहा है.'

Read more...

अयोध्या में विवादित जमीन की निगरानी के लिए नियुक्त होंगे नए ऑब्जर्वर

नई दिल्लीः अयोध्या में विवादित जमीन की निगरानी के लिए देश की शीर्ष अदालत भी बेहद गंभीर है। सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस से दो जिला जजों को इस मामले में ऑब्जर्वर बनाने के लिए कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि 10 दिन के भीतर नए पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की जाए। अयोध्या की विवादित जमीन की निगरानी के लिए अब नए ऑब्जर्वर नियुक्त होंगे। सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस से कहा है कि वह 10 दिन में दो न्यायमूर्ति को ऑब्जर्वर नियुक्त करें। इनमें जिला जज, अतिरिक्त जज या स्पेशल जज हो सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने छह जिलों के जजों की सूची इलाहाबाद हाईकोर्ट को वापस भेजी है। इस बारे में बाबरी मस्जिद के पैरोकार मोहम्मद हाशिम की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल की मांग को सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया। कपिल सिब्बल ने मांग की थी कि पहले के ऑब्जर्वर टीएम खान और एसके सिंह को इस पद पर ऑब्जर्वर रहने दिया जाए। सिब्बल ने कहा कि यह बीते 14 वर्ष से ऑब्जर्वर हैं। बता दें कि वर्तमान पर्यवेक्षक अपने रिटायरमेंट की वजह से आगे की सेवा नहीं दे पाएंगे। दरअसल ये सेशन जज थे, जिनमें एक टीएम खान रिटायर हो गए हैं और एसके सिंह हाईकोर्ट के जज बन गए हैं। ऑब्जर्वर हर दो हफ्ते में जगह का निरीक्षण कर वहां के हालात को बराबर देखते हैं।

Read more...

युवक का हुआ पोस्टमार्टम

डेस्क नेशननल राजस्थान, जयपुर में तीन दिन पहले हुए उपद्रव में मारे गए युवक के शव का पोस्टमार्टम आखिर सोमवार सुबह छह बजे हो गया। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है और पुलिस ने परिजनों ने अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए 200 लोगों को ले जाने की छूट दी है। जयपुर में शुक्रवार रात हुए उपद्रव में एक युवक आदिल की मौत हो गई थी। दो दिन से इसका पोसटमार्टम अटका हुआ था, क्योंकि परिजनों ने कुछ मांगे सरकार के समक्ष रख दी थी। बीती रात ढ़ाई बजे दोनों पक्षों के बीच सहमति बनी और सरकार की ओर से इन्हें आश्वासन दिया गया कि उनकी मांगों को सरकर पूरा करेगी और अधिक से अधिक मुआवजा दिलाया जाएगा। इसके बाद जाकर परिजन पोस्टमार्टम के लिए राजी हुए। सोमवार सुबह छह बजे सवाई मानसिंह अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम किया गया और शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया। गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया का कहना है कि एक बार अंतिम सस्कार हो जाए, उसके बाद स्थिति देख कर कर्फ्यू हटाने के बारे में विचार किया जाएगा। इंटरनेट सेवा पर रोक को जयपुर के 64 में से 14 थाना क्षेत्रों तक सीमित कर दिया गया है। अन्य जगह इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई है।

Read more...

राम रहीम की गिरफ्तारी बड़ी उम्मीद लेकर आई

डेस्क नेशनल राजस्थान, आठ साल से अपने लापता बेटे को तलाश रहे राजस्थान के कोटा में रहने वाले माता-पिता के लिए राम रहीम की गिरफ्तारी बड़ी उम्मीद लेकर आई। 2009 में लापता हुआ युवक शादाब दुष्कर्म के दोषी बाबा राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद न्यूज चैनलों पर दिखाई गई तस्वीरों में डेरे के बाहर रोता हुआ नजर आया। उस दिन के बाद से शादाब के परिजन सिरसा में अपने खोए हुए बेटे को तलाश रहे हैं वहीं परिजनों को पुलिस से कोई सहायता नहीं मिलती दिखाई दे रही है। दरअसल, शादाब कोटा की आईएल फैक्ट्री में काम करता था और साल 2009 में कंपनी के काम से हैदराबाद गया था लेकिन जब जयपुर सिकंदरा ट्रेन से लौट रहा था तो उसकी सीट पर सिर्फ उसका सामान मिला वो नहीं मिला। तब से आज तक परिजन अपने खोए हुए बेटे को तलाश रहे हैं। पिछले दिनों उन्हें न्यूज चैनलों पर चल रही तस्वीरों में अपने बेटे जैसा एक युवक डेरे के बाहर रोता दिखाई दिया। इसके बाद से माता-पिता सिरसा में घूम रहे है। इधर, कोटा जीआरपी भी एक बार फिर इस मामले में अपने पुराने रिकॉर्ड खंगाल रही है, क्योंकि शादाब की गुमशुदगी की रिपोर्ट कोटा जीआरपी थाने में दर्ज की गई थी। परिजनों का आरोप है कि उस वक्त भी पुलिस ने अलग-अलग थाना इलाकों का मामला बताकर उन्हें खूब चक्कर लगवाए और अब भी सिरसा डेरे में बेटे की मौजूदगी की पुष्टि होने के बाद भी अब तक कोई सफलता पुलिस को नहीं मिली है।

Read more...

एंबे वैली पर 24,843 करोड़ रुपए की टैक्स देनदारी का दावा

डेस्क नेशनल राजस्थान, सहारा ग्रुप पर बड़ी मुसीबत आ गई है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ग्रुप की एंबे वैली पर 24,843 करोड़ रुपए की टैक्स देनदारी का दावा ठोंक दिया है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 26 जुलाई को ऑफिशियल लिक्विडेटर को जानकारी दी कि एंबे वैली की प्रस्तावित बिक्री में उसका भी हिस्सा है। एंबे वैली पर उसकी 24,843 करोड़ रुपए की टैक्स देनदारी है और इसमें ब्याज को शामिल नहीं किया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने सहारा ग्रुप की तरफ से 5,092 करोड़ नहीं भर पाने की स्थिति में पुणे स्थित इस प्रॉपर्टी को नीलाम करने का आदेश दिया था। उल्लेखनीय है कि एंबे वैली की नीलामी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ही फैसला लेगा। 

Read more...

डेरे का सर्च आॅपरेशन समाप्त, सीलबंद लिफाफे में पेश होगी रिपोर्ट

डेस्क, नेशनल राजस्थान {भाषा}, डेरा सच्चा सौदा में सर्च ऑपरेशन समाप्त हो गया है, कोर्ट कमिषनर ए.के. एस. पंवार पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में अब बंद लिफाफे में अपनी रिपोर्ट पेष करेंगे। पूरे सर्च ऑपरेशन में कई सनसनीखेज खुलासे हुए हैं, हालांकि माना जा रहा है कि जांच में देरी के कारण डेरे से काफी सुबूत मिटा दिए गए और काफी आपत्तिजनक चीजें बाहर भेज दी गईं। तीसरे दिन के सर्च ऑपरेशन में आइटी एक्सपर्ट की टीम ने जांच की। अंतिम दौर में डेरे के दो सेक्टरों में सर्च किया गया और रेस्टोरेंटों में भी तलाशी ली गई। इसके बाद डेरे में आइटी एक्सपर्ट की टीम राज खंगालने में जुट गई।

सिरसा में रेल सेवा और इंटरनेट सेवा हो जाएगी बहाल
जनसंपर्क विभाग के डिप्टी डायरेक्टर सतीश मेहरा ने बताया कि इसके साथ ही सिरसा में रेल सेवा सोमवार से बहाल हो जाएगी। इंटरनेट, मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस सेवाएं भी सोमवार से बहाल हो जाएंगी।

इससे पहले कोर्ट कमिश्नर एकेएस पंवार ने डेरे का दौरा किया। उन्होंने सर्च आपरेशन का निरीक्षण किया। इसके कोर्ट कमिश्नर के निरीक्षण के बाद आइटी एक्सपर्ट की टीम ने जांच शुरू की। आइटी एक्सपर्ट की टीम ने डेरे में बरामद कंप्यूटरों, लेपटॉप और हार्डडिस्क की जांच की। सूत्रों का कहना है कि इसमें कई महत्वपूर्ण जानकारियां मिलीं। यह जांच देर शाम करीब छह बजे बजे तक जारी रही और इसके बाद सर्च ऑपरेशन समाप्त करने की घोषणा की गई।

बताया जाता है कि तीसरे दिन भी नर कंकालों की तलाश के लिए कई खोदाई की गई। आज डेरे में अर्द्ध सैनिक बलों और पुलिस की कई टीमें गईं। डेरे के अंदर एक एंबुलेंस भी भेजी गई। इस बारे में पता नहीं चला है कि एंबुलेंस क्यों भेजी गई।

अनियमितताएं पाई गई

बताया जाता है डेरे के अंदर स्थित अस्पताल और क्लिनिक की जांच में कई अनियमितताएं पाई गई हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम जब जांच के लिए यहां पहुंची तो अस्पताल के पास डेड बॉडियां मेडिकल कॉलेजों को भेजने का पूरा रिकार्ड नहीं था और न ही मेडिकल कालेज प्रबंधन इस संबंध में संतोषजनक जानकारियां दे पाया। एमटीपी से संबंधित औपचारिकताएं भी यहां पूर्ण नहीं पाई गईं।

दूसरे दिन डेरे के बड़े सरोवर में कुछ संदेहास्पद वस्तुएं होने की संभावना के मद्देनजर गोताखोरों ने जांच की। सरोवर में छह से अधिक गोताखोर उतरे। इसके अलावा पानी के टैकों में भी तलाशी की गई। रविवार को भी इनमें सर्च की गई।

तीन दिन के सर्च ऑपरेशन में ये हुए मुख्य खुलासे

डेरा सच्चा सौदा में तीन दिनों तक चले सर्च ऑपरेशन में कई जानकारियां मिली हैं। इन तीन दिनों में ये खुलासे हुए हैं-

पहले दिन हुए मुख्य खुलासे और कार्रवाई-

-पूरे सर्च ऑपरेशन की वीडियोग्राफी भी की गई है। इसके लिए 60 फोटाग्राफर व वीडियोग्राफर लगाए गए हैं। 60 लोहार भी ताले तोड़ने के लिए लगाए गए थे।

-पहले दिन के ऑपरेशन में कई राज सामने आए। इस दौरान संदिग्ध हालत में पांच लड़के मिले। इनमें से दो नाबालिग बच्चों को बाल संरक्षण टीम को सौंप दिया गया व अन्य तीन को पुलिस ने अपनी निगरानी में लिया।

-डेरे में कंट्रोल रूम और तीन कमरों को सील किया। भारी संख्या में नई और पुरानी करंसी बरामद हुई। यह भी जानकारी मिली कि पुरानी करंसी से भरे दो कमरों को सील किया गया।

- कंट्रोल रूम में रिकॉर्डिंग की मशीन में भी पाई गई। इसे सील कर दिया गया।

-डेरा सच्चा सौदा द्वारा चलाई जा रही प्लास्टिक करंसी भी बरामद हुई। यह करंसी डेरे के पास मार्केट में मिली।

- डेरे की फार्मेसी में भारी मात्रा में बिना लेबल की दवाएं मिलीं। ये आयुर्वेदिक दवाएं बताई जाती हैं। इन्हें सील कर जांच के लिए भेजा गया।

- सर्च आॅपरेशन के दौरान गुरमीत राम रहीम की गुफा सहित पूरे डेरे में गहन जांच की गई। शाम को उत्तराखंड के रुड़की से फोरेंसिक टीम को भी बुलाया गया। कई हार्ड डिस्क और कंप्यूटर कब्जे में लिए गए।

- एक वॉकी टाकी भी जब्त किया गया। अंदर खोदाई और तोड़फोड़ के भी संकेत मिले हैं।

- लुप्त प्राय जानवरों के मिलने का शक, एमएसजी फैशन मार्ट की भी तलाशी हुई।

- बिना नंबरों की एक ओबी वैन और लक्सेस कार भी बरामद की गई है। इन्हें थाने लाया गया।

Read more...

प्रधानमंत्री मोदी की संपत्ति में हुआ इजाफा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संपत्ति में पिछले वर्ष की तुलना में 15% से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है.  वित्त वर्ष 2016-17 के लिए प्रधानमंत्री के कुल संपत्ति लगभग 2 करोड़ रुपए से ज्यादा है.
पिछले वित्त वर्ष 2014-15 और 2015-16 में उनकी चल और अचल संपत्ति का क्रमशः 1.41 करोड़ रुपये और 1.73 करोड़ रुपये थी.

mega trade for web page


प्रधानमंत्री के पास यदि नकदी की बात करें तो रुपये 89,700 बढ़कर 149,700 रुपये हो गयी है, जो पिछले वर्ष की तुलना में 66 फीसदी से ज्यादा की बढ़ोतरी का संकेत है.
मोदी ने 45 ग्राम वजन वाले चार सोने की रिंग की भी जानकारी दी है, जिनकी कीमत 1.28 लाख रुपये है, जो पिछले वर्ष 1.27 लाख रुपये थी. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की गांधीनगर शाखा में उनके बचत खाते में 1.33 लाख रुपये शेष हैं, जबकि एक ही शाखा में 90.26 लाख रुपये की फिक्स्ड डिपॉजिट हैं.अन्य निवेश के साधनों में, प्रधानमंत्री ने कर बचत एलएंडटी बांड, भारतीय जीवन बीमा निगम के उपकरण और राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र का कुल मिलाकर 5.75 लाख रुपये का भुगतान किया है. 

मोदी की गांधीनगर संपत्ति की कीमत पिछले साल की तरह रुपये 1 करोड़ ही है.

व्यक्तिगत वाहन की बात करें तो प्रधानमंत्री के पास कोई निजी वाहन नही है और न ही वह किसी भी संपत्ति के उत्तराधिकारी है.
वहीं अगर प्रधानमंत्री की पत्नी जशोदाबेन की बात की जाए तो उनका वित्तीय विवरण 'ज्ञात नहीं' के रूप में सूचीबद्ध है.
गृह मंत्रालय द्वारा जारी आचार संहिता के अनुसार, मंत्रियों के लिए 31 अगस्त तक हर साल उनकी संपत्ति और देनदारियों का विवरण प्रस्तुत करना अनिवार्य है.

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News