Menu

राष्ट्रीय

मुठभेड़ में दो नक्सली ढेर

रायपुर,  छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में पुलिस दल ने मुठभेड़ में दो नक्सलियों को मार गिराया है। पुलिस ने मौके से हथियार भी बरामद किया है। सुकमा जिले के पुलिस अधिकारियों ने आज ‘भाषा’ को दूरभाष पर बताया कि जिले के गोलापल्ली थाना क्षेत्र के अंतर्गत रसतोंग गांव के जंगल में डीआरजी के दल ने बीती रात मुठभेड़ में दो वर्दीधारी नक्सलियों को मार गिराया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि डीआरजी के दल को क्षेत्र में गश्त के लिए रवाना किया गया था। दल जब रसतोंग गांव के जंगल में था तब नक्सलियों ने पुलिस दल पर गोलीबारी शुरू कर दी। इसके ​बाद पुलिस दल ने भी जवाबी कार्रवाई की। अधिकारियों ने बताया कि कुछ देर तक दोनों ओर से गोलीबारी के बाद नक्सली वहां से फरार हो गए। बाद में जब पुलिस दल ने घटनास्थल की तलाशी ली। वहां से दो वर्दीधारी नक्सलियों का शव, एक 12 बोर बंदूक, एक भरमार बंदूक, वायरलेस सेट, कार्डोस वायर, बैटरी, सोलर प्लेट और नक्सली सामाग्री बरामद किया गया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि मारे गए नक्सलियों की पहचान नहीं हो पाई है। हालांकि, उनके गोलापल्ली लोकल आर्गेनाइजेशन स्क्वाड के सदस्य होने की संभावना है। उन्होंने बताया कि पुलिस दल लगातार क्षेत्र में गस्त में है।

Read more...

बेटियां देश का भविष्य हैं : मेनका गांधी

देहरादून /हरिद्वार,  केंद्रीय महिला एवं बा​ल विकास मंत्री मेनका गांधी ने आज कहा कि बेटियां देश का भविष्य हैं और यदि बेटियां न बचीं तो देश का भविष्य भी संकटमय हो जायेगा। यहां प्रदेश की राज्य मंत्री रेखा आर्य की 'बेटी बचाओ—बेटी पढाओ' साइकिल यात्रा के समापन पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भाजपा की केंद्र व राज्यों की सरकारें महिलाओं तथा बेटियों के लिये कल्याणकारी योजनायें बनाकर उन्हें स्वाबलंबी बनाने की दिशा में कार्य कर रही हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री की 'बेटी बचाओ—बेटी पढाओ' मिशन को आगे बढाने में प्रदेश की मंत्री रेखा आर्य की साइकिल यात्रा की प्रशंसा की। इससे पहले, देहरादून की पुलिस लाइन से शुरू हुई साइकिल यात्रा को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस मौके पर रावत ने कहा कि यह साइकिल यात्रा नहीं वरन ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ का एक जन जागरूकता कार्यक्रम है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 जनवरी 2015 हरियाणा से 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' अभियान की शुरूआत की थी जिसके सकारात्मक परिणाम ​मिले हैं और हरियाणा में लिंगानुपात में तेजी से सुधार हुआ है। प्रदेश एवं समाज के विकास के लिए महिलाओं को पुरूषों के समान अधिकार मिलने को जरूरी बताते हुए रावत ने कहा कि पिथौरागढ़, हरिद्वार एवं चम्पावत जिलों में लिगांनुपात कम है जिसे बढाने के लिए व्यापक स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम चलाने होंगे। प्रदेश की महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री रेखा आर्य के नेतृत्व में देहरादून से हरिद्वार में हरकी पैड़ी तक 55 किमी के इस जागरूकता अभियान में 120 लोगों द्वारा साइकिल यात्रा की की गयी । इस रैली में 30 महिलाएं भी शामिल हुईं। इस जागरूकता साइकिल रैली में अन्तर्राष्ट्रीय महिला क्रिकेट खिलाड़ी एकता बिष्ट, मिस उत्तराखण्ड नेहा राज एवं एथलीट हरेन्द्र ने भी प्रतिभाग किया। 

Read more...

उदासीन बड़ा अखाड़ा के महंत मोहन दास लापता

हरिद्वार,अखिल भारतीय अखाडा परिषद के प्रवक्ता तथा पंचायती उदासीन बडा अखाड़े के कोठारी महंत मोहन दास संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गये हैं। महंत मोहन दास को दिल्ली से 15—16 सितंबर की रात लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस से मुंबई के लिये जाना था। सोलह सितम्बर को भोपाल में उनका एक अनुयायी उनके लिये भोजन लेकर आया तो वह अपनी आरक्षित सीट पर नहीं थे। उसने इसकी सूचना अखाडे़ को दी। यहां बडे़ अखाडे के महंत के लापता होने की सूचना पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कृष्ण कुमार वीके भी अखाडे़ पहुंचे। अखाडे से मिली तहरीर के आधार पर ​हरिद्वार पुलिस दिल्ली पुलिस से संपर्क कर जांच में जुट गयी है। पुलिस अखाडे़ की संपत्ति मामले के साथ—साथ उन्हें हाल में मिली धमकियों के मद्देनजर सभी दृष्टिकोणों से जांच कर रही है। अखाडा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि महंत मोहन दास का लापता होना गंभीर मामला है। शहर पुलिस उपाधीक्षक जेपी जुयाल ने बताया कि टीमें गठित कर सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है। उनकी आखिरी लोकेशन का पता लगाया जा रहा है।

Read more...

नये सिरे से आंदोलन शुरू करने के बारे में विचार करूंगी : मेधा पाटकर

 नयी दिल्ली, 17 सितंबर (भाषा) प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता और पर्यावरणविद मेधा पाटकर ने कहा है कि नर्मदा नदी पर गुजरात में बने सरदार सरोवर बांध का इससे प्रभावित लोगों के पुनर्वास के बगैर लोकार्पण राजनीतिक लाभ के लिए किया गया है। ऐसे में हमें प्रभावित लोगों को न्याय दिलाने की खातिर एक बार फिर से नये सिरे से आंदोलन शुरू करने के बारे में विचार करना पड़ेगा। नर्मदा आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर ने ‘पीटीआई भाषा’ के साथ एक साक्षात्कार में बताया, ‘‘विकास के नाम पर पूरी जिंदगी उजाड़ना और फिर उनके पुनर्वास में बहुत समय लगता है। इस परियोजना को लेकर लगभग 50 प्रतिशत काम अभी तक पूरा नहीं हुआ है। मध्य प्रदेश में करीब 40 हजार परिवार ऐसे हैं जिनका अभी तक पुनर्वास नहीं हुआ है। पर्यावरणीय कार्य भी पूरा नहीं हुआ है। हम अब लड़ाई का दूसरा दौर शुरू करेंगे। हमें यह तय करना पड़ेगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सरदार सरोवर परियोजना से प्रभावित करीब 40,000 परिवार आज भी बांध के 214 किलोमीटर में फैले जलाशय यानि डूब क्षेत्र में ही बसे हैं। उनके उचित पुनर्वास के बगैर इस बांध का लोकार्पण किया गया है, जो बिल्कुल गलत है।’’ गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने जन्मदिन पर आज नर्मदा नदी पर गुजरात में बने सरदार सरोवर बांध का लोकार्पण किया है। सरकार का दावा है कि इस परियोजना से 18 लाख हेक्टेयर जमीन को लाभ मिलेगा और नमर्दा से नहरों के जरिए 9,000 गांवों में सिंचाई की जा सकेगी।

Read more...

मोदी को उम्मीद : सरदार सरोवर बांध परियोजना नए भारत के निर्माण में प्रेरणा का काम करेगी

दाभोई (वडोदरा, गुजरात)   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नर्मदा नदी पर बनने वाली महत्वाकांक्षी परियोजना सरदार सरोवर नर्मदा बांध का आज लोकार्पण करते हुए पिछले सात दशकों में इस परियोजना में आई तमाम बाधाओं का उल्लेख किया और उम्मीद जताई कि यह परियोजना नए भारत के निर्माण में सवा सौ करोड़ भारत वासियों के लिए प्रेरणा का काम करेगी। मोदी ने आज इस बांध परियोजना के लोकार्पण के बाद यहां एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि विश्व बैंक सहित कई पक्षों ने सरदार सरोवर नर्मदा बांध परियोजना के मार्ग में बाधाएं उत्पन्न की। उन्होंने कहा कि उनके पास हर उस आदमी का कच्चा चिट्ठा है, जिसके कारण इस बांध परियोजना में विलंब हुआ। उन्होंने कहा कि एक समय ऐसा भी आया जब विश्व बैंक ने इस परियोजना के लिए ऋण देने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के लिए वह दो लोगों के आभारी हैं...सरदार वल्लभ भाई पटेल और बाबा साहेब अंबेडकर। उन्होंने कहा ' भारत के लौह पुरुष की आत्मा आज जहां कहीं भी होगी वह हम पर ढेर सारे आशीर्वाद बरसा रही होगी।’’

Read more...

प्रधान ने कहा, पेट्रोलियम उत्पादों पर कर समानता की जरूरत

हैदराबाद। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ग्राहकों के हितों को ध्यान में रखते हुए पेट्रोलियम पदार्थों को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाने के लिए वित्त मंत्रालय से अपील की है। अपने कदम पर सही ठहराते हुए प्रधान ने कहा कि पूरे देश में एकसमान कर व्यवस्थौ होनी चाहिए। प्रधान ने कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाना पेट्रोलियम मंत्रालय का प्रस्ताव है। हमने राज्य सरकारों और वित्त मंत्रालय से पेट्रोलियम वस्तुओं को जीएसटी के दायरे में लाने की अपील की है। उपभोक्ताओं के हितों को देखते हुए करों को युक्तिसंगत रखने की जरुरत है।ै उन्होंने आगे कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों पर दो तरह के कर लगते हैं, जिसमें एक केंद्रीय उत्पाद शुल्क और दूसरा वैट है। यही कारण है कि उद्योग के दृष्टिकोण से समान कर तंत्र की उम्मीद कर रहे हैं। दैनिक आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों की समीक्षा को सही ठहराते हुए प्रधान ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जो भी शुल्क एकत्रित किया जाता है उसमें से राज्यों को 42 प्रतिशत हिस्सेदारी प्राप्त होती है। पेट्रोल और डीजल का घरेलू मूल्य अंतरराष्ट्रीय कीमतों से निर्धारित होता है। जो भी अंर्ताष्ट्रीय कीमत होती है वहीं  उपभोक्ताओं के पास जाती है। जब कीमतों में वृद्धि होती है तो हमें बढ़ोत्तरी करनी पड़ती है, उसी तरह जब गिरावट आती है हम दामों में कमी करते हैं।  पेट्रोलियम मंत्री ने कहा, ैकेंद्रीय कर का 42 प्रतिशत हिस्सा राज्यों से आता है और राज्यों की अपनी स्वयं की कर प्रणाली है। राज्यों से आ रहे कर संग्रह का एक बड़ा हिस्सा उपयोग किया जाता है। उन्होंने कहा कि देश में विभिन्न कल्याणकारी परियोजनाओं को लागू करने के लिए धन की आवश्यकता होती है। क्या आपको नहीं लगता कि हमें अच्छी सड़कों का निर्माण करना चाहिए, क्या आपको नहीं लगता कि हमें नागरिकों को साफ पेयजल देना चाहिए। भारत सरकार के खर्ज को देखिए। पहले गरीबों की आवासीय योजना पर सरकार 70,000 प्रति इकाई खर्च करता थी और अब 1.5 लाख रुपए खर्च कर रही है। उन्होंने कहा, ैआपको क्या लगता है सरकार को ए पैसा कहां से मिलता है? आप सोचते हैं कि हमने खजाने में पैसा रखा हुआ है। हम अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए बुनियादी ढांचा निर्माण में पैसा खर्च कर रहे हैं।

Read more...

मार्शल अर्जनसिंह का आज होगा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

भाषा. नई दिल्ली, 1965 के भारत .पाकिस्तान युद्ध के नायक और भारतीय वायु सेना के मार्शल अर्जन सिंह का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। उनके सम्मान में कल यहां सभी सरकारी इमारतों पर राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका दिया जाएगा। सिंह का अंतिम संस्कार कल सुबह दस बजे यहां बरार स्क्वायर में किया जाएगा। सिंह का शनिवार को यहां सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में निधन हो गया था। वह 98 साल के थे। अर्जन सिंह वर्ष 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के नायक थे और इकलौते वायु सेना अधिकारी थे जिन्हें फाइव स्टार रैंक दिया गया था। उन्हें 1965 में ही देश के दूसरे सर्वाेच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने आज कहा, उनका राजकीय सम्मान से अंतिम संस्कार किया जाएगा और अंत्येष्टि के दिन (18 सितंबर को) दिल्ली में सभी सरकारी इमारतों में राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका दिया जाएगा जहां यह नियमित रूप से फहराता है। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि सिंह के पार्थिव शरीर को उनके आवास से अंत्एष्टि स्थल तक सैन्य सम्मान के साथ ले जाया जाएगा। मंत्रालय ने कहा कि उन्हें बंदूकों की सलामी दी जाएगी और अंतिम संस्कार से पहले फ्लाई पास्ट किया जाएगा। उन्हें 44 वर्ष की आयु में ही भारतीय वायु सेना का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी दी गई जिसे उन्होंने शानदार तरीके से निभाया। वर्ष 1965 की लड़ाई में जब भारतीय वायु सेना अग्रिम मोर्चे पर थी तब वह उसके प्रमुख थे। अलग-अलग तरह के 60 से भी ज्यादा विमान उड़ाने वाले सिंह ने भारतीय वायु सेना को दुनिया की सबसे शक्तिशाली वायु सेनाओं में से एक बनाने और विश्व में चौथी सबसे बड़ी वायु सेना बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। बहुत कम बोलने वाले व्यक्ति के तौर पर पहचाने जाने वाले सिंह ना केवल निडर लड़ाकू पायलट थे बल्कि उन्हें हवाई शक्ति के बारे में गहन ज्ञान था जिसका वह हवाई अभियानों में व्यापक रूप से इस्तेमाल करते थे। 

Read more...

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज प्रकरण : नौवां अभियुक्त भी गिरफ्तार

गोरखपुर। गोरखपुर स्थित बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में पिछले महीने कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी से हुई बच्चों की मौत के मामले में नौवें अभियुक्त को भी आज खोराबार इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनिरुद्ध सिद्धार्थ पंकज ने यहां बताया कि पिछली 10ा11 अगस्त को मेडिकल कॉलेज में हुई बच्चों की मौत के प्रकरण में वांछित नौवें अभियुक्त पुष्पा सेल्स के मालिक मनीष भण्डारी को आज सुबह साढ़े आठ बजे खोराबार थाना इलाके के देवरिया बाई पास से गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि इसके साथ ही इस मामले में अब सभी नौ अभियुक्त गिरफ्तार किए जा चुके हैं। पंकज ने बताया कि फिलहाल भण्डारी का मेडिकल परीक्षण कराया जाएगा और पूछताछ के बाद उसे अदालत में पेश किया जाएगा। हालांकि भण्डारी के वकील ने कल अदालत में अर्जी देकर समर्पण की अनुमति मांगी थी। पुलिस शुरू से ही भण्डारी की सरगर्मी से तलाश कर रही थी। अदालत ने उसे फरार घोषित करते हुए उसके खिलाफ कुर्की की कार्यवाही के आदेश दिए थे। मालूम हो कि गत 10ा11 अगस्त को गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में संदिग्ध परिस्थितियों में 30 बच्चों की मौत हो गई थी। आरोप था कि वे मौतें ऑक्सीजन की कमी से हुई हैं, लेकिन सरकार ने इससे इनकार किया था। मुख्य सचिव राजीव कुमार की अगुवाई में गठित एक उच्चस्तरीय समिति की जांच के बाद मेडिकल कॉलेज के निलम्बित प्राचार्य राजीव मिश्रा, उनकी पत्नी पूर्णिमा, इंसेफलाइटिस वार्ड के प्रभारी डॉक्टर कफील तथा पुष्पा सेल्स के मनीष भण्डारी समेत नौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। अब ए सभी गिरफ्तार किए जा चुके हैं। 

Read more...

जजों की नियुक्ति, पदोन्नति में 61 नाम विचाराधीन

नई दिल्ली। नए जजों की नियुक्ति और अतिरिक्त जजों की पदोन्नति के लिए 13 उच्च न्यायालयों की ओर से की गई 61 से अधिक नामों की सिफारिशों पर उच्चतम न्यायालय के कोलेजियम की अंतिम मंजूरी का इंतजार है। यह जानकारी एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने दी है। इन सिफारिशों में आठ उच्च न्यायालयों द्वारा जजों की नियुक्ति के लिए भेजे गए 36 नाम शामिल हैं। इसके अलावा अतिरिक्त जजों को पदोन्नति देकर स्थाई जज बनाने के लिए पांच उच्च न्यायालयों द्वारा भेजे गए 25 नाम भी शामिल हैं। ए सिफारिशें उच्चतम न्यायालय के कोलेजियम को उस समय भेजी गई थीं, जब भारत के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे एस खेहर थे। उनका कार्यकाल 27 अगस्त को पूरा हुआ। अगले दिन न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा ने प्रधान न्यायाधीश के रूप में पदभार संभाल लिया था। पदाधिकारी ने बताया कि न्यायमूर्ति मिश्रा के पदभार संभालने के बाद किसी भी उच्च न्यायालय से कोई ताजा सिफारिश नहीं की गई है। अधिकारी ने कहा कि नई नियुक्तियों के लिए जिन आठ उच्च न्यायालयों से नाम भेजे गए हैं, उनमें झारखंड, कर्नाटक, मद्रास, गुजरात और बंबई उच्च न्यायालय शामिल हैं। इन नामों के अलावा उच्चतम न्यायालय के कोलेजियम को छह उच्च न्यायालयों में मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति पर भी विचार करना है। ए उच्च न्यायालय हैं- आंध्र प्रदेश एवं तेलंगाना, कलकत्ता, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, झारखंड और मणिपुर। इन उच्च न्यायालयों के प्रमुख फिलहाल कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश हैं। 

Read more...

सीमा चौकियों पर पाक ने की गोलाबारी, महिला की मौत

जम्मू। जम्मू जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगी अग्रिम चौकियों पर पाकिस्तानी सैनिकों ने गोलाबारी की जिसमें एक महिला की मौत हो गई और पांच अन्य नागरिक घायल हो गए। हाल के दिनों में पाकिस्तान द्वारा किया गया यह पांचवां संघर्ष विराम उल्लंघन है। पुलिस के अधिकारी ने रविवार को बताया कि कल रात से अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी रेजरों ने भारी मोर्टार का इस्तेमाल किया और दर्जनों अग्रिम चौकियों एवं कई गांवों को निशाना बनाया। उन्होंने बताया कि अरनिया बस स्टैंड पर 10-12 से अधिक गोले फटे। पुलिस ने बताया कि गोलाबारी में तीन महिलाओं सहित छह लोग घायल हो गए और उन्हें जीएमसी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां पर रतनो देवी का आज निधन हो गया। उन्होंने बताया कि कुछ घरों सहित एक दर्जन से अधिक संरचनाओं को नुकसान पहुंचा। उन्होंने बताया कि जोफराम गांव में गोलाबारी में चार पशुओं की मौत हो गई। मध्यरात्रि से आज सुबह तक अरनिया सेक्टर में भारी गोलीबारी होती रही। उन्होंने बताया कि यह सिलसिला आज सुबह थमा। कल, पाकिस्तानी जवानों ने अग्रिम चौकियों और अरनिया सेक्टर के सीमावर्ती छोटे गांवों पर छोटे और बड़े हथियारों से गोलीबारी की थी। पाकिस्तान की ओर से 15 सितंबर को की गई गोलीबारी में गोली लगने से 32 वर्षीय कांस्टेबल बिजेन्द्र बहादुर घायल हो गया था जिसका बाद में देहांत हो गया। राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में 14 सितंबर को नियंत्रण रेखा से लगे इलाकों में पाकिस्तान की ओर की गई गोलीबारी में एक महिला घायल हो गई थी। 13 सितंबर को पाकिस्तानी रेजरों ने जम्मू जिले में अखनूर इलाके के परगवाल सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे ब्राह्मन बेल्ला और रायपुर बार्डर की अग्रिम चौकियों (बीओपीएस) पर गोलाबारी की जिसके कारण बीएसएफ का एक जवान घायल हो गया। 13 सितंबर को ही एक अन्य संघर्ष विराम उल्लंघन में पाकिस्तानी सेना ने पुंछ में मनकोटे, सब्जियां और दिगवार के अग्रिम इलाकों में नियंत्रण रेखा पर स्थित भारतीय चौकियों पर गोलाबारी की थी। इस गोलीबारी में बीएसएफ के दो जवान और तीन नागरिक घायल हो गए थे।। 

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News