Menu

41.2 लाख सेविंग्स खातों में नहींं था मिनिमम बैलेंस, एसबीआई ने उठाया ऐसा कदम Featured

नई दिल्ली। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया यानी एसबीआई ने बड़ा कदम उठाया है। बैंक ने अपने करीब 41.16 लाख सेविंग्स खातों को बंद कर दिया है। कारण - इन खातों में मिनिमम बैलेंस नहीं था।

जानकारी के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष में अप्रैल से जनवरी के बीच इन खातों को बंद किया गया है। इन सभी बचत खातों को एवरेज मंथली बैलेंस मेंटेन नहीं हो रहा था। यह जानकारी आरटीआई (सूचना का अधिकार कानून) के तहत पूछे गए सवाल के जबाव में सामने आई है। गौरतलब है कि बीते दिन एसबीआई ने एवरेज मंथली बैलेंस न रखने पर लगने वाले चार्ज को भी 75 फीसद तक कम कर दिया है।

मध्यप्रदेश के नीमच में रहने वाले चंद्रा शेखर गौड़ की ओर से दाखिल की गई आरटीआई के जवाब में बैंक ने कहा, "खाते में न्यूनतम राशि मैंटेन न करने पर लागू जुर्माने के प्रावधानों के तहत बैंक ने 1 अप्रैल, 2017 और 31 जनवरी, 2018 के बीच 41.16 लाख बचत बैंक खाते बंद कर दिए हैं।"

आपको जानकारी के लिए बता दें कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में करीब 41 करोड़ बचत खाते (सेविंग बैंक अकाउंट) हैं। इनमें से 16 करोड़ तो सिर्फ प्रधानमंत्री जनधन योजना/बेसिक सेविंग बैंक अकाउंट (बीएसएसडी) और पेंशनर्स के हैं।

बीते साल अप्रैल महीने के दौरान एसबीआई ने खाते में एक न्यूनतम राशि (एवरेज मंथली बैलेंस) न रखने पर चार्ज लगाना शुरू कर दिया था। इस नियम के मुताबिक एसबीआई खाताधारक जो कि मैट्रो और शहरी क्षेत्र में रहते हैं के लिए खाते में 3,000 रुपए रखना अनिवार्य कर दिया गया था। वहीं जो खाताधारक अर्ध शहरी क्षेत्रों में रहते हैं उनके लिए यह सीमा 2,000 रुपए और ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले खाताधारकों के लिए यह सीमा 1,000 रुपए निर्धारित की गई थी।

अब मिनिमम बैलेंस न रखने पर देना होगा कितना चाजर्: अब मेट्रो और शहरी क्षेत्रों में खाते में मंथली एवरेज बैलेंस (एएमबी) न रखने पर 50 के बजाए 15 रुपए प्रतिमाह का चार्ज देना होगा। उसी तरह सेमी-अर्बन और ग्रामीण क्षेत्रों में यह चार्ज 40 से घटाकर 12 रुपए प्रति माह कर दिया गया है।

वहीं 10 रुपए का जीएसटी भी एक निश्चित स्थिति में लागू होगा। आपको बता दें कि खाते में एवरेज बैलेंस (एएमबी) न रखने पर शुल्क लगाए जाने के एसबीआई के फैसले का तीखा विरोध हुआ था।

DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News