Menu

पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव : हिंसा में 6 की मौत और 50 से ज्यादा घायल, लूटा बूथ Featured

roopam 0

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव के लिए मतदान जारी है। सुबह 7 बजे से शुरू हुए मतदान के बाद 3 बजे तक 56 फीसद वोट पड़े थे। इस बीच कड़े सुरक्षा इंतजाम के बावजूद हुई हिंसा में अब तक 6 लोगों की मौत हो गई जबकि 50 से ज्यादा घायल हुए हैं।

इस बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल सरकार से चुनाव के दौरान हुई हिंसा के संबंध में रिपोर्ट तलब की है। इससे पहले तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) कार्यकर्ताओं ने उत्तरी दिनाजपुर के सोनाडांगी में एक बूथ मे तोडफ़ोड़ कर उसे लूट लिया और मतपेटियां पानी में फेंक दी। उसके बाद कुछ लोगों ने पानी से यह मतपोटियां निकाली। वहीं मुर्शिदाबाद में भी बूथों पर मतपेटियों की लूट हुई है।

जानकारी के अनुसार दक्षिण 24 परगना में टीएमसी कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई वहीं वाम नेता की पत्नी की हत्या कर दी गई। इसके अलावा अलीपुरद्वार में कई लोग घायल हुए हैं जबकि उत्तर 25 परगना में एक देशी बम धमाके में 20 लोग घायल हुए हैं।

इससे पहले राज्य के कूच बिहार में हुई झड़प में 20 से ज्यादा लोग घायल हो गए वहीं कई वाहनों को नुकसान पहुंचा है। स्थानीय लोगों के अनुसार वो लोग मतदान करने के लिए गए थे, लेकिन इस बीच टीएमसी के समर्थकों ने उन पर हमला कर दिया। सभी घायलों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है।

इसके अलावा मुर्शिदाबाद में बूथ कैप्चरिंग की घटना सामने आई है जबकि पनीहाटी में एक भाजपा कार्यकर्ता को चाकू मारकर घायल कर दिया गया है।

चुनाव आयोग को मिलीं 500 शिकायतें -

इस बीच दोपहर दो बजे तक राज्य चुनाव आयोग को 500 शिकायतें मिल चुकी हैं। बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से भाजपा में शामिल हुए मुकुल रॉय हिंसा के हालात पर राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी से मुलाकात करने वाले हैं।

भाजपा ने साधा निशाना -

राज्य चुनाव में हिंसा को लेकर भाजपा ने टीएमसी पर निशाना साधा है। भाजपा नेता सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि यह बेहद निंदनीय है। घटनाएं बताती हैं कि पश्चिम बंगाल में टीएमसी के राज में राजनीतिक हिंसा ने पूरे राज्य को चपेट में ले लिया है और यह लोकतंत्र के लिए खतरे की घंटी है।

सुरक्षा के बीच मतदान -

बता दें कि चुनाव के पहले राज्य में हुई हिंसा को देखते हुए सभी बूथों पर सशस्त्र बलों की तैनाती की गई है। अतिसंवेदनशील व संवेदनशील बूथों पर विशेष नजर रखी जा रही है।

इस बार पंचायत चुनाव में सत्ताधारी टीएमसी और विपक्षी भाजपा के बीच जोरदार लड़ाई देखने को मिल रही है। अगले साल होने आम चुनावों से पहले के प्रमुख चुनाव होने के कारण इस चुनाव की अहमियत काफी बढ़ गई है। राजनीतिक दल इसे लोकसभा चुनावों से पहले अपनी ताकत के परीक्षण के तौर पर देख रहे हैं। चुनावों की गणना 17 मई को होगी। अगर किसी कारणवश जरूरत पड़ी तो 16 मई को पुनर्मतदान हो सकते हैं।

पश्चिम बंगाल राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक, 3,358 ग्राम पंचायतों की 48,650 में से 16,814 सीटों पर उम्मीदवार निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं। वहीं 31 पंचायत समितियों की 9,217 में से 3,059 सीटों पर उम्मीदवारों को निर्विरोध चुना गया है। इसी तरह 20 जिला परिषदों की 825 में से 203 सीटों पर मुकाबला निर्विरोध रहा है।

DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News