Menu

राजनीति (251)

कर्नाटक में कांग्रेस..जदएस का गठबंधन अपवित्र, जनादेश के साथ धोखा : शाह

Gravity

नई दिल्ली, 21 मई :भाषा: कर्नाटक में कांग्रेस जद एस गठबंधन को एक अपवित्र गठजोड़ करार देते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज कहा कि यह जनता के साथ धोखा है क्योंकि जनता ने कांग्रेस के खिलाफ और भाजपा के पक्ष में जनादेश दिया था।
शाह ने यहां भाजपा मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा, कांग्रेस के कुशासन के खिलाफ राज्य की जनता ने वोट किया। कर्नाटक में भाजपा के सरकार बनाने का दावा पेश करने को लेकर कुछ दल दुष्प्रचार कर रहे हैं। लेकिन क्या सबसे बड़ी पार्टी होकर दावा करना गलत है।
उन्होंने कहा कि अगर हम सरकार बनाने का दावा नहीं पेश करते तो यह कर्नाटक के लोगों के जनादेश के खिलाफ होता।
कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस को कर्नाटक के लोगों को यह समझाना चाहिए कि जब उनके ज्यादातर मंत्री चुनाव हार गए हैं, कांग्रेस के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया एक सीट से हार गए.. क्या वे इसका जश्न मना रहे हैं? कांग्रेस पीपीपी तक सिमट गई है, उसका जश्न मना रहे है ?
उन्होंने कहा कि कर्नाटक में जनता जश्न नहीं मना रहीं है बल्कि कांग्रेस और जदएस जश्न मना रही है।
शाह ने आगे कहा, जो कांग्रेस को हरा सकता है, जनता ने उसे जिताया। 80 से ज्यादा सीटों पर जद एस की जमानत जब्त हुई। जद एस को भी यह बताना चाहिए कि कि वे किस बात का जश्न मना रहे हैं।
सरकार बनाने के दावे के बारे में सवालों पर उन्होंने कहा कि लोग कह रहे हैं कि बहुमत नहीं आने के बाद भी भाजपा ने सरकार बनाने का दावा किया। वह स्पष्ट करना चाहते हैं कि राज्य में किसी भी दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है, इसका मतलब क्या यह है कि वहां फिर से चुनाव कराए जाएं ?
उन्होंने कहा कि जनता ने भाजपा को पसंद किया और भाजपा ने सबसे ज्यादा सीटों पर जीत हासिल की। 13 सीटों पर हम नोटा से भी कम वोटों से हारे हैं। इससे साफ है कि कर्नाटक की जनता ने भाजपा को जनादेश दिया है।
अमित शाह ने कहा, हम दक्षिण में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरे हैं, जादुई अंक से हम सिर्फ 7 सीटों से पीछे रहे हैं।
उन्होंने कहा कि हम पर हार्स ट्रेडिंग :खरीद फरोख्त: का आरोप लगाया गया, लेकिन कांग्रेस ने पूरा का पूरा अस्तबल ही बेच खाया। हम सबसे बड़े दल थे इसलिए हमने सरकार बनाने का दावा किया।
कांग्रेस और जद एस द्वारा अपने विधायकों को होटल में रखने के बारे में एक सवाल के जवाब में शाह ने कहा कि उन विधायकों को अभी भी नहीं छोड़ा है, अभी भी वे पांच सितारा होटल में ही हैं। उन्हें विजय जुलूस नहीं निकलाने दिया गया। अगर उन विधायकों को बाहर निकलने दिया गया होता, तो इन विधायकों को जनता के मूड का पता चलाता।
उन्होंने कहा कि भाजपा कर्नाटक में सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाएगी।
शाह ने कहा, कर्नाटक के इस घटनाक्रम के बाद अब कांग्रेस ने अपनी हार को जीत बताने का एक नया तरीका खोज लिया है। मैं उम्मीद करता हूं कि जीत की यह नई परिभाषा 2019 तक जारी रहेगी।
उन्होंने कहा कि अब कांग्रेस ने उच्चतम न्यायालय, चुनाव आयोग जैसी संवैधानिक इकाइयों के साथ-साथ इवीएम में भी विश्वास करना शुरू कर दिया।

Read more...

सरकार बचाने की भाजपा की कोशिश कांग्रेस मुक्त भारत बनाने के लिए रास्ता नहीं : शिवसेना

मुंबई , 21 मई (भाषा) शिवसेना ने आज कहा कि कर्नाटक में बीएस एदियुरप्पा की सरकार बचाने की भाजपा ने जो कोशिश की , वह देश को कांग्रेस मुक्त बनाने का रास्ता नहीं है।
देश में लोकतंत्र को बचाने की जरूरत पर जोर देते हुए शिवसेना ने कहा कि कोई सरकार अपने फैसले लोगों पर थोपने के लिए संविधान का इस्तेमाल नहीं कर सकती।
अपने मुखपत्र सामना में प्रकाशित एक संपादकीय में शिवसेना ने यह आरोप भी लगाया कि राज्यपाल और राष्ट्रपति कभी - कभी सरकार के एजेंट की तरह काम करते हैं।
इसमें कहा गया हे , वे राज्य और देश के संवैधानिक प्रमुख हैं लेकिन वे संवैधानिक नियमों के उलट व्यवहार करते हैं।
कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला द्वारा एदियुरप्पा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने के उनके पिछले फैसले और बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन दिए जाने के खिलाफ शिवसेना की यह टिप्पणी आई है।
हालांकि , एदियुरप्पा शक्ति परीक्षण के दौरान बहुमत नहीं जुटा सके और उन्होंने मुख्यमंत्री पद से शनिवार को इस्तीफा दे दिया।
संपादकीय में कहा गया है , कर्नाटक में भाजपा के सत्ता में आने से नाकाम रहने पर हम बहुत दुखी हैं। लेकिन उसने इसे (सरकार को) बचाने के लिए जो कोशिश की , वह भारत को कांग्रेस मुक्त बनाने का रास्ता नहीं है।
पार्टी ने कहा है , यह लोकतंत्र , व्यक्ति की स्वतंत्रता और देश में प्रेस की आजादी को और कमजोर करेगा। संसदीय लोकतंत्र में हमें स्वतंत्र संसद और स्वतंत्र मीडिया की जरूरत है।
शिवसेना ने आरपीआई (ए) प्रमुख रामदास अठावले को भी आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उन्होंने कहा था कि यदि भाजपा ने संवैधानिक नियमों का उल्लंघन किया , तो वह राजग छोड़ देंगे।
पार्टी ने हैरानगी जताते हुए पूछा , कर्नाटक विधानसभा में जो कुछ हुआ क्या वह संविधान के खिलाफ नहीं है?
गौरतलब है कि आरपीआई (ए) राजग का एक घटक दल है , जिसमें अठावले केंद्रीय सामाजिक न्याय (राज्य) मंत्री हैं।

Read more...

राष्ट्रपति शासन लगाना सही होगा : टी एस कृष्णामूर्ति

हैदराबाद , 21 मई (भाषा) पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टी एस कृष्णामूर्ति ने कहा कि कर्नाटक में हाल में हुए विधानसभा चुनावों में किसी भी दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिलने की स्थिति है ऐसे में वहां राष्ट्रपति शासन लगाना सही होगा।
उन्होंने प्रेट्र को बताया , ... कर्नाटक में हालात की वजह से अगर सरकार गठित नहीं हो सकती तो सही चीज राष्ट्रपति शासन लगाना होगा।
भाजपा , कांग्रेस और जद (एस) तीनों ही दलों के पास बहुमत नहीं होने की स्थिति में पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि उनकी राय है कि राज्यपाल वजुभाई वाला को तीन महीनों के लिए राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए और इस समयावधि में भी यदि कोई सरकार गठित नहीं होती है तो विधानसभा को भंग कर नए चुनाव कराए जाएं।
उन्होंने कहा , मैं नहीं कह रहा कि राष्ट्रपति शासन समाधान है लेकिन इससे समय , पैसे , विधायकों की खरीद - फरोख्त , पद के लिए सौदेबाजी और ऐसी ही दूसरी चीजों से बचा जा सकता था।

Read more...

मोदी सरकार में 230 फीसदी बढ़ा एनपीए, एनडीए का नाम अब एनपीए होना चाहिए : कांग्रेस

नई दिल्ली, 21 मई (भाषा) कांग्रेस ने नरेंद्र मोदी सरकार के कार्यकाल में बैंकों में जनता का धन असुरक्षित होने का आरोप लगाते हुए आज दावा किया कि इस सरकार में गैरनिष्पादित आस्तियां (एनपीए) 230 फीसदी बढ़ गई हैं इसलिए अब एनडीए का नाम एनपीए कर दिया जाना चाहिए।
पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, बैंक संकट में हैं। जनता का पैसा असुरक्षित है। डिफाल्टरों ने लूट की और भाग निकले।
उन्होंने दावा किया, मोदी सरकार में बैंकों का डूबा कर्ज (बैड लोन) 317 फीसदी बढ़ गया। 2014-15 में यह 26,112 करोड़ रुपए था और यह 2017-18 में।,09,076 करोड़ रुपए हो गया।
सुरजेवाला ने कहा, सभी बैंकों में एनपीए 230 फीसदी बढ़ गया। यह मार्च, 2014 में 2,51,054 करोड़ रुपए था जो दिसंबर, 2017 में बढ़कर 8,31,141 करोड़ रुपए हो गया।
उन्होंने कहा, एनडीए का नाम अब एनपीए कर दिया जाना चाहिए।

Read more...

लोकसभा चुनाव 2019 : भाजपा बूथ स्तर, शक्ति केंद्रों तक महा-जनसम्पर्क अभियान चलाएगी

नई दिल्ली, 21 मई :भाषा: अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए कमर कसते हुए भाजपा 26 मई से देश भर में बूथ स्तर एवं शक्ति केंद्रों तक व्यापक जनसम्पर्क अभियान शुरू करने जा रही है।
भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने भाषा को बताया कि केंद्र सरकार के चार वर्ष पूरे होने के अवसर पर भाजपा 26 मई से 11 जून 2018 तक महा-जनसम्पर्क अभियान का पहला चरण चलाएगी।
उन्होंने कहा कि डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस 23 जून से उनकी जयंती 6 जुलाई तक पार्टी की ओर से संगठन के सभी स्तरों पर महा-जनसम्पर्क अभियान का दूसरा चरण चलाया जाएगा।
पार्टी के नेताओं एवं कायकर्ताओं से बूथ स्तर पर मौजूदा शक्ति केंद्र तक के सभी संगठनों से लोगों के बीच अपनी उपस्थिति और भागीदारी सुनिश्चित करने को कहा गया है।
पार्टी सूत्रों ने बताया कि पार्टी कार्यकर्ताओं को घर घर जाकर सरकार की योजनाओं के बारे में बताना है और पार्टी के नंबर पर मिस्ड कॉल करवाना है, ताकि पता चल सके कि कार्यकर्ता कितने घर गए हैं।
कार्यकर्ताओं से कहा गया है कि अगर संभव हो, तब वाट्सऐप लोकेशन भी केन्द्रीय पदाधिकारियों के साथ साझा करें।
भाजपा ज्यादा से ज्यादा लोगों को नमो ऐप से जोडऩा चाहती है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल ही में कहा था कि जो बूथ जीतेगा, वही चुनाव जीतेगा। ऐसे में पार्टी कार्यकर्ताओं को बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत बनाना चाहिए।
पार्टी के एक अन्य नेता ने कहा कि भाजपा की पूरी कोशिश है कि जनहित की हर योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक पहुंचे और कोई जरूरतमंद उसके लाभ से वंचित न रहे।
उन्होंने आरोप लगाया कि विरोधी दल भाजपा के खिलाफ दलितों, अल्पसंख्यकों, किसानों और महिलाओं के मुद्दे पर दुष्प्रचार कर रहे हैं। इस दुष्प्रचार को सख्ती से खारिज किया जाए और जनता के समक्ष सरकार के कामकाज और तथ्यों को रखा जाए।
हाल ही में पार्टी ने महिला मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा, एससी मोर्चा, एसटी मोर्चा, युवा मोर्चा, किसान मोर्चा और ओबीसी मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों की बैठक आयोजित की थी। इसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह शामिल हुए थे।
मोदी सरकार के चार साल इसी महीने पूरे होने जा रहे हैं। इस मौके के लिए भाजपा ने 48 साल बनाम 48 महीने का नारा दिया है और पार्टी नेताओं से अपने कामकाज को जनता के समक्ष रखने को कहा है।

Read more...

मोदी का उन पर हमला सिर्फ ध्यान भटकाने का तरीका : राहुल

बेंगलुरू , 10 मई ( भाषा ) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज कहा कि प्रधानमंत्री बनने की उनकी मंशा जाहिर करने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का उन पर हमला सिर्फ लोगों का ध्यान भटकाने का तरीका है।
कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के लिए धुआंधार प्रचार कर रहे राहुल ने अपना दौरा समाप्त करते हुए संवाददाताओं से कहा , यह चुनाव राहुल पर नहीं है। मैंने अब प्रधानमंत्री से निपटना सीख लिया है। जब वह जवाब नहीं दे पाते , वह भटका देते हैं।
राहुल ने हाल ही में कहा था कि यदि इस बार उनकी पार्टी 2019 के आम चुनाव में सबसे बड़े दल के रूप में ऊभरती है तो वह प्रधानमंत्री बनेंगे जिसके बाद मोदी ने उनकी आलोचना की थी।
मोदी ने अपनी एक चुनावी रैली में अचरज जताया था कि क्या देश इस पद के लिए इतने अपरिपक्व तथा नामदार नेता को कभी स्वीकार करेगा। इस बारे में पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में राहुल ने कहा कि मोदी को उनमें खतरा दिखाई देता है। उन्होंने कहा , मोदी के अंदर गुस्सा है ... उन्हें सबके प्रति गुस्सा है , सिर्फ मैं ही नहीं ... उन्हें मुझमें खतरा दिखाई देता है। राहुल ने उम्मीद जताई कि कांग्रेस 12 मई को होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करेगी साथ ही कहा कि विपक्ष ने प्रचार के दौरान निजी हमले करने से दूरी बनाई है।
भाजपा पर हमले जारी रखते हुए राहुल ने कहा कि जब वे किसी मंदिर में जाते हैं तो भाजपा असहज महसूस करती है।
उन्होंने कहा , मुझे नहीं लगता कि भाजपा को हिंदु शब्द का अर्थ पता है।
उन्होंने अपनी मां के इतालवी मूल पर मोदी के प्ररोक्ष आरोपों को भी खारिज किया।
राहुल ने कहा , मेरी मां इतालवी हैं। उन्हें अपनी जिंदगी का बड़ा हिस्सा भारत में गुजारा है। वह कई अन्य लोगों से कहीं अधिक भारतीय हैं।
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हमारी विदेश नीति को बर्बाद कर दिया गया है।

Read more...

कांग्रेस ने न तो दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों की परवाह की, न अंबेडकर का सम्मान किया : मोदी

नई दिल्ली, 10 मई :भाषा: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों, अल्पसंख्यकों और समाज के अंतिम पायदान पर खड़े लोगों के सशक्तिकरण के लिए अपनी सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुए आज आरोप लगाया कि कांग्रेस ने न तो दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों की कभी परवाह की और न ही कभी बाबा साहेब अंबेडकर का सम्मान किया। यहां तक कि, सत्ता में रहते हुए उसने अंबेडकर को भारत रत्न तक नहीं दिया।
प्रधानमंत्री ने कर्नाटक भाजपा अनुसूचति जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग अल्पसंख्यक मोर्चा के कार्यकर्ताओं से, नरेन्द्र मोदी एप पर अपने संबोधन के दौरान इन समुदायों के लोगों को सरकार की योजनाओं के बारे में बताने की अपील की।
भाजपा को देश के हर वर्ग के लिए समर्पित पार्टी बताते हुए उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य आखिरी छोर पर बैठे हुए व्यक्ति का कल्याण करना है। उन्होंने अंबेडकर को उद्धृत करते हुए कहा कि देश में कई पंथ और जातियां होने के बावजूद हम एक रहेंगे।
प्रधानमंत्री ने आरोाप लगाया कि कांग्रेस को दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों की चिंता कभी नहीं रही जो इस बात से स्पष्ट है कि कांग्रेस ने बाबा साहब अंबेडकर का कभी सम्मान नहीं किया। यहां तक कि, सत्ता में रहते हुए उसने अंबेडकर को भारत रत्न तक नहीं दिया। बाबा साहेब को हराने के लिए तो कांग्रेस ने पूरी ताकत लगा दी थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक काम बता दे जो उन्होंने बाबा साहेब के सम्मान के लिए किया हो।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने के विषय पर संसद की कार्यवाही तक बाधित की और इन वर्गों को केवल वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया।
अपनी सरकार को कमजोर वर्गों के लोगों के सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा भाजपा को इन वर्गों का पूरा समर्थन प्राप्त है जिसका प्रमाण है कि इस वर्ग के सबसे ज्यादा जन प्रतिनिधि भाजपा से ही हैं।
प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने बाबा साहेब को हमेशा सम्मान दिया है। हमने उनसे जुड़ी भूमियों को पंच तीर्थ के रूप में विकसित करने की पहल की। उन्होंने आरोप लगाया कि अंबेडकर और सरदार वल्लभभाई पटेल जैसे महापुरुषों को भुला दिया गया था लेकिन उनकी सरकार ने इन महापुरूषों के स्मारक बनाए।
बेंगलुरु के फ्लैट में वोटर आईडी कार्ड पकड़े जाने के मुद्दे पर मोदी ने आरोप लगाया कि अब कांग्रेस फर्जी वोटर आईडी कार्ड बना रही है।
एससी..एसटी कानून का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने इस कानून को मजबूती दी और इसमें वर्गीकृत अपराधों को 22 से बढ़ाकर 47 किया ताकि दलित और आदिवासी सम्मानपूर्वक जीवन बिता सकें।
उन्होंने कहा कि दलित और आदिवासी समाज के लोगों का आर्थिक रूप से मजबूत होना बहुत जरूरी है। उनकी सरकार ने मुद्रा योजना, स्टैंड अप इंडिया जैसी पहले करने के साथ साथ छोटे व्यापारियों के लिए भी बहुत काम किया है।
मोदी ने कहा कि बाबा साहब ने अपने जीवन में जो संघर्ष किया, उससे हम परिचित हैं। उनका जीवन प्रेरणा से भरा है। हम उनके बताए रास्ते पर चल रहे हैं और हमारा संकल्प है कि हमें गरीब, आदिवासी, महिला, शोषित, वंचित सबके कल्याण के लिए काम करना है।

Read more...

वक्त आ गया है कि कांग्रेस को अलविदा कहे कर्नाटक : मोदी

बेंगलुरु , प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज एक चुनावी रैली के दौरान कहा कि अब समय आ गया है कि कर्नाटक कांग्रेस को अलविदा कहे।
कर्नाटक में 12 मई को होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी पर कटाक्ष करते हुए प्रधानमंत्री ने कांग्रेस को डील पार्टी करार दिया।
राज्य की राजधानी के निकट बांगरपेट में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि कांग्रेस की संस्कृति , सांप्रदायिकता , जातिवाद , अपराध , भ्रष्टाचार और ठेकेदारी जैसी छह बीमारियां कर्नाटक का भविष्य बर्बाद कर रही हैं।
मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री रहते हुए मनमोहन सिंह के कार्यकाल में रिमोट कंट्रोल तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास होता था , जबकि मोदी सरकार के चार साल के कार्यकाल में रिमोट कंट्रोल जनता के हाथ में होता है।

Read more...

कर्नाटक के बाद कांग्रेस राष्ट्रीय स्तर पर शुरू करेगी क्लीन पॉलिटिक्स विद आईएनसी अभियान

नई दिल्ली, नौ फरवरी (भाषा) कर्नाटक चुनाव में सोशल मीडिया के जरिए क्लीन पॉलिटिक्स विद आईएनसी (कांग्रेस के साथ साफ-सुधरी राजनीति) अभियान शुरू करने वाली कांग्रेस आने वाले समय में इस मुहिम को राष्ट्रीय स्तर पर ले जाएगी।
कांग्रेस ने राज्य में भाजपा के दागी उम्मीदवार बी. श्रीरामुलू के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरे अपने उम्मीदवार के लिए सीधे जनता से चंदा लेने के मकसद से यह अभियान शुरू किया है।
दरअसल, चित्रदुर्ग जिले में मोलाकालमुरू विधानसभा सीट पर भाजपा उम्मीदवार श्रीरामुलू के खिलाफ कांग्रेस ने 33 वर्षीय पीएचडी शोधार्थी योगेश बाबू को उम्मीदवार बनाया है। पार्टी ने बाबू के लिए 28 लाख रुपए का चंदा इकट्ठा करने के मकसद से सोमवार को यह ऑनलाइन अभियान शुरू किया। बुधवार सुबह तक पार्टी के पास करीब साढ़े सात लाख रुपए आ गए थे।
कांग्रेस की सोशल मीडिया टीम के एक प्रमुख सदस्य ने भाषा को बताया, कर्नाटक में भाजपा के दागी उम्मीदवार श्रीरामुलू के खिलाफ लड़ रहे योगेश बाबू के लिए हमने यह अभियान शुरू किया। इसके लेकर लोगों की प्रतिक्रिया उत्साहजनक है। कर्नाटक चुनाव के बाद हम इस ऑनलाइन मुहिम को राष्ट्रीय स्तर पर ले जाएंगे।
उन्होंने कहा, आज के समय में इंटरनेट और सोशल मीडिया की पहुंच अखिल भारतीय स्तर पर हो चुकी है। साफ-सुथरी राजनीति के लिए सीधे जनता से चंदा लेने की मुहिम को लोगों का जरूर समर्थन मिलेगा।
दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने क्लीन पॉलिटिक्स विद आईएनसी अभियान के समर्थन में कल ट्वीट कर कहा था, कर्नाटक में लड़ाई स्पष्ट है. यह स्वच्छ राजनीति बनाम गन्दी राजनीति की लड़ाई है। माफिया बनाम जनता का मुकाबला है।
उन्होंने कहा, ैभाजपा की ओर से भ्रष्ट रेड्डी गैंग को उतारा गया है. हम अपने उम्मीदवार को चुनावी खर्चे के लिए खुद पैसे मुहैया करा रहे हैं। अपना योगदान देकर हमारे उम्मीदवार की मदद करें।

Read more...

कांग्रेस के खिलाफ मुकाबले में कहीं नहीं है भाजपा : राहुल

नई दिल्ली, नौ मई (भाषा) कर्नाटक में विधानसभा चुनाव प्रचार के आखिरी दौर में पहुंचने के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज दावा किया कि राज्य में भाजपा उनकी पार्टी के खिलाफ मुकाबले में कहीं नहीं है।
राहुल ने राज्य की मौजूदा सिद्धरमैया सरकार और इससे पहले की भारतीय जनता पार्टी सरकार के कामकाज के तुलनात्मक ब्यौरे का एक ग्राफिक ट्विटर पर पोस्ट किया है।
उन्होंने कहा, यह ग्राफिक दिखाता है कि कर्नाटक में कांग्रेस के खिलाफ भाजपा मुकाबले में कहीं नहीं है।
कांग्रेस अध्यक्ष की ओर से पोस्ट किए गए ग्राफिक में दावा किया गया है कि कर्नाटक में रोजगार सृजन, किसानों की कर्जमाफी, बिजली उत्पादन, बुनियादी ढांचे के विकास, दुग्ध उत्पादन, मेट्रो परियोजना, सिंचाई और कई अन्य कामों में सिद्धरमैया सरकार भाजपा सरकार की तुलना में काफी आगे है।

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News