Menu

top banner

जयपुर के नाहरगढ़ किले पर लटका मिला युवक का शव

डीएनआर ब्यूरो. जयपुर
प्रदेश की राजधानी में स्थित नाहरगढ़ किले पर एक युवक की लाश लटकी मिलने के बाद बखेड़ा हो गया। शव जहां से लटकाया गया था, वहां के आसपास 'पद्मावतीÓ फिल्म को लेकर भी टिप्पणी की गई थी कि हम पुतले नहीं जलाते, लटकाते हैं। वहीं, दूसरे पत्थर पर लिखा है कि पद्मावती का विरोध। कुछ अन्य पत्थरों पर भी ऐसी ही टिप्पणी की गई थी। जयपुर पुलिस के मुताबिक कि लाश की शिनाख्त चेतन सैनी के रूप में हुई है। पुलिस को उसकी जेब से मुंबई की एक फिल्म का टिकट भी मिला है। पुलिस ने लाश को किले से उतार लिया है। इसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है। देर रात तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि यह आत्महत्या थी या फिर हत्या?

Read more...

राजस्थान के कई हिस्सों में न्यूनतम तापमान में गिरावट

जयपुर। राजस्थान के कई हिस्सों में कल के मुकाबले न्यूनतम तापमान में एक से चार डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गई। मौसम विभाग के प्रवक्ता के अनुसार आज सुबह साढ़े आठ बजे चूरू में न्यूनतम तापमान में कल के मुकाबले एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट के साथ 4.5 डिग्री, माउंटआबू में 4.6, भीलवाडा में चार डिग्री सेल्सियस की गिरावट के साथ 6.8, अलवर 7.0, श्रीगंगानगर में दो डिग्री की गिरावट के साथ 7.4, पिलानी 7.8, वनस्थली 7.9, चित्तोडगढ में एक डिग्री की गिरावट के साथ 8.7, डबोक में तीन डिग्री की गिरावट के साथ 10 डिग्री, जैसलमेर में 10.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उन्होंने बताया कि बीकानेर में न्यूनतम तापमान 10.6 डिग्री, सवाईमाधोपुर 10.8, फलौदी 11, जयपुर 11.2, जोधपुर 11.7, अजमेर में एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट के साथ 12.1, बूंदी 12.2, बाडमेर 12.5, और कोटा में 13.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया प्रवक्ता ने बताया कि राज्य में आगामी 24 घंटों के दौरान अधिकतर जिलों में मौसम शुष्क रहने और उत्तरी भाग के जिलों हनुमानगढ, श्रीगंगानगर में पाला पडऩे का अनुमान है।

Read more...

भारत और चीन सीमा के बाद भूकंप से कांपी राजस्थान की धरती

जयपुर। अरुणाचल प्रदेश से लगी भारत और चीन की सीमा पर शनिवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए। इसके बाद दोपहर 3 बजकर 21 मिनट पर राजस्थान की धरती भी कांप गई। प्रदेश में यह झटके जोधपुर, नागौर, अजमेर और पाली में महसूस किए गए हैं, जिसके बाद लोग दहशत के चलते घरों से बाहर निकल आए निकल आए और सुरक्षित स्थान पर पहुंचे। हालांकि अभी तक किसी भी जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है। जानकारी के अनुसार जोधपुर जिले में करीब 5 से 7 सेकंड तक, अजमेर जिले के ब्यावर, खरवा, लामाना जेठाना में दो से तीन सेकंड तक और नागौर जिले के जायल, अलाय में 3 से 4 सेकंड तक भूकंप के झटके महसूस किए गए और भूकंप का केंद्र जोधपुर रहा। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता रही 4.2 दजज़् की गई है। आपको बता दें कि शनिवार सुबह अरुणाचल प्रदेश से लगी भारत और चीन की सीमा पर भूकंप के तेज झटको से धरती हिल गई थी। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.4 मैग्नीट्यूड दजज़् की गई थी। यह भूकंप शनिवार सुबह 4.4 बजे आया, जिसका केंद्र भारतीय नगरों पासीघाट और तेजू से 240 किमी दूर स्थित था। वहीं चीनी मीडिया के अनुसार, तिब्बत के नींगची से महज 57 किमी दूर 6.9 की तीव्रता का भूकंप आया।

Read more...

पद्मावती: स्मृति की चुटकी पर आपस में भिड़े थरूर-सिंधिया, दी इतिहास पढऩे की नसीहत

नई दिल्ली। पद्मावती फिल्म पर उपजे विवाद मामले में सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति इरानी की ओर से ली गई एक चुटकी पर कांग्रेस के दो दिग्गज नेता शशि थरूर और ज्योरतिरादित्य सिंधिया आमने-सामने आ गए। थरूर की ब्रिटिश काल में राजाओं-महाराजाओं पर की गई टिप्पणी सिंधिया को इतनी नागवार गुजरी कि उन्होंने थरूर को न सिर्फ इतिहास पढऩे की नसीहत दी, बल्कि बेवजह विवाद खड़ा न करने के प्रति भी आगाह किया। दरअसल पद्मावती के विरोध पर थरूर ने ब्रिटिश काल के राजाओं-महाराजाओं पर तीखा व्यंग्य किया था। उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि एक फिल्म के कारण निदेज़्शक और कलाकारों के पीछे हाथ धोकर पडऩे वालों को उस समय अपने मान सम्मान की कोई चिंता नहीं थी। ब्रिटिश इनके मान सम्मान को पैरों तले रौंद रहे थे और वे खुद को बचाने के लिए भाग खड़े हुए थे। इस पर स्मृति ने ट्वीट करके पूछा कि क्या सभी महाराजाओं ने अंग्रेजों के सामने घुटने टेके थे। इस पर ज्योतिरादित्य, दिग्विजय सिंह और अमरिंदर सिंह को अपनी राय देनी चाहिए। गौरतलब है कि इन सभी के पूवज़्ज ब्रिटिश काल में अलग-अलग प्रांत के राजा थे। स्मृति के इस ट्वीट के बाद सिंधिया भड़क गए। उन्होंने कहा कि थरूर को इतिहास की जानकारी नहीं है। उन्हें यह जानने के लिए इतिहास पढऩा चाहिए कि ब्रिटिश काल में महाराजाओं की क्या भूमिका थी। उन्हें बेवजह की बयानबाजी के सहारे विवाद खड़ा करने से बचना चाहिए। गौरतलब है कि इस फिल्म के विरोध में सरकार के कई मंत्री भी निदेज़्शक के खिलाफ मोर्चा खोल चुके हैं। केंद्रीय मंत्री ने इस फिल्म के जरिए लोगों की भावनाओं और आस्था को चोट पहुंचाने का आरोप लगाया था। जबकि उमा भारती ने निदेज़्शक और पटकथा लेखक को विवाद की जड़ बताते हुए सेंसर बोडज़् को लोगों की भावनाओं का ख्याल रखने की नसीहत दी थी।

Read more...

सेंसर बोर्ड ने 'पद्मावती' को तकनीकी कारणों से वापस लौटाया?

मुंबई। विवादों में घिरी संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' की देशभर में 1 दिसंबर को प्रस्तावित रिलीज़ टलने के आसार हैं। सूत्रों के मुताबिक, सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सेंसर बोर्ड) ने तकनीकी कारणों से फिल्म को वापस फिल्ममेकर्स को लौटा दिया है। सूत्रों ने बताया कि अब जब यह फिल्म दोबारा सेंसर बोर्ड के पास आएगी तब इसका दोबारा नियमों के अनुसार रिव्यू किया जाएगा। हालांकि फिल्म को प्रड्यूस कर रही कंपनी वायाकोम 18 मोशन पिक्चर्स के सीओओ अजित अंधारे ने ट्वीट कर 'पद्मावती' की रिलीज़ डेट आगे बढ़ाए जाने की खबरों को महज अफवाह बताया है। फिल्म की मार्केटिंग टीम के सूत्रों का भी कहना है कि फिल्म पहले से निर्धारित तारीख यानी 1 दिसंबर को ही रिलीज़ की जाएगी। इससे पहले कहा जा रहा था कि फिल्म 'पद्मावतीÓ फिल्म केंद्रीय प्रमाणन बोर्ड के पास रुकी हुई थी। सूत्रों के मुताबिक, फिल्म को लेकर बढ़ रहे तनाव के चलते यूपी समेत कई राज्यों के अफसर भी केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्रालय के सम्पर्क में थे। एक वरिष्ठ अफसर के मुताबिक, जानकारी मिली है कि फिल्म के हर उस दृश्य और कहानी की गंभीरता से समीक्षा होगी, जिससे किसी भी तरह का विवाद होने की आशंका होगी। ऐसे में फिल्म को 1 दिसंबर तक सेंसर बोर्ड से सर्टिफिकेट मिलने के आसार बेहद कम हैं। बता दें कि जगह-जगह इस फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन तेज होता जा रहा है। कहीं फिल्म को रिलीज़ नो होने देने की बात कही जा रही तो कहीं ऐक्टर और डायरेक्टर के खिलाफ विरोध के सुर तेज हो रहे हैं। इतना ही नहीं, अखिल भारतीय क्षत्रिय युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर अभिषेक सोम ने संजय लीला भंसाली और दीपिका की गर्दन काटने वाले को 5 करोड़ रुपये का इनाम देने का ऐलान किया था। इससे पहले, राजपूत करणी सेना के संरक्षक लोकेंद्र सिंह कालवी ने गुरुवार को कहा था कि अगर फिल्म रिलीज़ हुई तो दीपिका पादुकोण के खिलाफ कार्रवाई होगी। प्रेस कांफ्रेस में लोकेंद्र ने कहा कि फिल्म में पद्मावती को खिलजी की प्रेमिका के रूप में दिखाया गया है और यह स्वीकार्य नहीं है। उन्होंने कहा कि राम-सीता के साथ लक्ष्मण भी वनवास गए थे। राम ने लक्ष्मण से भले ही न कहा हो लेकिन जरूरत पडऩे पर उन्होंने शूर्पणखा की नाक काट दी थी। दीपिका बेटी की तरह हैं लेकिन अगर हमारी बात समझी नहीं गई तो लक्ष्मण आज भी शूर्पणखा की नाक काटने की सियत रखते हैं। 1 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान करने के साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि फिल्म में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद का पैसा लगा है।

Read more...

यह रहा सरकार और डॉक्टर्स के बीच हुआ हस्ताक्षरित समझौता

डीएनआर ब्यूरो. जयपुर

पिछले सात दिन से प्रदेशभर में चल रही चिकित्सकों की हड़ताल रविवार रात खत्म हो गई। चिकित्सकों की अधिकांश मांगों के प्रति सरकार ने सकारात्मक रुख दिखाते हुए स्वीकार कर लिया है। वेतन संबंधित सबसे महत्वपूर्ण मांग पर भी सहमति बनी है सभी सेवारत चिकित्सकों को अब दस हजार रुपए का ग्रेड पे तय हो गया है। इसके लिए ३१ मार्च तक मेडिकल सर्विस कैडर बनेगा। इसके साथ ही दस हजार रुपए का ग्रेड पे मिलेगा। एक पारी अस्पताल के मुद्दे पर सहमति बनी है कि जो प्रायोगिक तौर पर होगी। हालांकि इस पर अंतिम निर्णय सरकार करेगी।

यह रहा सरकार और डॉक्टर्स के बीच हुआ हस्ताक्षरित समझौता

Read more...

डॉक्टर्स की हड़ताल समाप्त

जयपुर। वेतन सहित अनेक मुद्दों पर पिछले सात दिन से चिकित्सकों की हड़ताल रविवार रात समझौते के बाद खत्म हो गई। चिकित्सकों के अधिकांश मुद्दों पर सहमति बन गई है लेकिन ग्रेड पे दस हजार करने का मामला अब मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के समक्ष भेज दिया गया है। रविवार रात हड़ताल समाप्त होने से अब सोमवार से प्रदेशभर में चिकित्सा सुविधा बहाल हो जाएगी।
सचिवालय में रविवार दोपहर शुरू हुई वार्ता रात करीब साढ़े आठ बजे नतीजे तक पहुंच पाई है। चिकित्सकों ने अपनी ३३ मांगे रखी गई थी, जिसे संशोधित करते हुए बाद में इसे १८ तक सीमित कर दिया गया। चिकित्सकों की उन सभी मांगों पर सहमति जता दी गई है, जिस पर वो अड़े हुए थे।

Read more...

'पद्मावती' के विरोध में भाजपा विधायक, कहा- 'इतिहास से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं'

जयपुर। फिल्म पद्मावती का विरोध और तेज हो गया है। अब राजस्थान की भाजपा विधायक और जयपुर राज परिवार की सदस्य दीया कुमारी भी इसमें कूद गई हैं।
विधायक दीया कुमारी ने कहा कि राजस्थान के इतिहास के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जाएगी। रानी पद्मावती राजपूत समाज ही नहीं, बल्कि पूरे राज्य के लिए गौरवशाली महिला थीं, जिन्होंने अपने सम्मान को बचाने के लिए 16000 महिलाओं के साथ जौहर किया था। वहीं राजपूतों की प्रतिनिधि संस्था श्री राजपूत सभा भवन के अध्यक्ष गिरिराज सिंह लोटवाड़ा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर फिल्म के प्रदर्शन पर पूरे देश में रोक लगाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि यदि केंद्र सरकार इस फिल्म के प्रदर्शन पर रोक नहीं लगाती है तो फिर राजपूत समाज 12 नवंबर के बाद आंदोलन करेगा।
इसके अलावा राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिह गोगामेड़ी ने एक बयान में कहा कि यदि देश के किसी भी सिनेमाघर में फिल्म को दिखाने का प्रयास किया गया तो निर्माता, डिस्ट्रीब्यूटर और सिनेमाघर के मालिकों को गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।
पद्मावती एक दिसंबर को रिलीज हो रही है, लेकिन राजस्थान के फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर इस फिल्म को लेकर मचे बवाल के बाद इसके प्रदर्शन से कन्नी काट रहे हैं।

Read more...

पूर्व सांसद का किया स्वागत

चूरू। राज्यसभा के पूर्व सांसद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अश्क अली टाक का रतननगर की सीमा पर चूरू कांग्रेस ने स्वागत किया। इस अवसर पर टाक ने कहा कि वर्तमान समय मे कार्यकर्ताओ को एक जुटता के साथ बीजेपी की नकारा सरकार के खिलाफ अभियान चलाकर इनकी झूठ को बेनकाब करना है। कार्यकर्ताओं का दायित्व है कि जनता अब कांग्रेस की तरफ आशा भरी निगाहों से देख रही है उस विश्वास पर खरा उतरने के लिए हमारे आदरणीय नेता राहुल गांधी के हाथ मजबूत कर इस कुशासन से मुक्ति दिलानी है। इस अवसर विधानसभा सभा कार्डिनेटर जमील चौहान, पूर्व अध्यक्ष हेमन्त सिहाग, किसान कांग्रेस के महासचिव विकास मील, शफीक कुरेशी, रफीक चौहान, महावीर कुलहरी, ताज मोहम्मद आदि मौजूद रहे।

Read more...

ख्वाजा की दरगाह से ब्रह्मा मंदिर तक हुई सद्भावना दौड़

जयपुर। पुष्कर में चल रहे अंतरराष्ट्रीय मेले के तहत शुक्रवार सुबह सद्भावना दौड़ का आयोजन किया गया। यह दौड़ अजमेर में ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह से रवाना हुई और पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर पर समाप्त हुई। इस 21 किलोमीटर की दौड़ में खिलाड़ियों के साथ ही सभी समुदाय के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। साथ ही इसमें अजमेर पुष्कर के स्थानीय धावकों के अलावा विदेशी मेहमानों ने भी भाग लिया। एेतिहासिक दरगाह ख्वाजा साहब और ब्रह्मा मंदिर के जुड़वा शहर अजमेर और पुष्कर को जोड़ने के लिए पिछले साल जिला प्रशासन ने ये पहल शुरू की थी।

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News