Menu

राजस्थान - बाल्टी में कैद की नवजात की आत्मा, 14 साल पहले पशु अस्पताल में हुई थी मौत... Featured

बूंदी। 21वीं शताबदी में भी लोगों के सिर से अंधविश्वास के भूत को नहीं उतरने देना चाहते। अपने साथ बीती घटनाओं को अंधविश्वास के साए तले बड़ी आसानी से खुद को छिपाने की कोशिश करते हैं। इसी अंधविश्वास के डर के साये में झूठे ढोंगी बाबा डर का कारोबार चलाते हैं। बूंदी में एक ऐसी ही घटना सामने आई जिसमें एक परिवार जिले के पशु अस्पताल में जादुई तंत्र से 14 साल पहले हुई नवजात की मौत के बाद उसकी आत्मा को कैद करने की कोशिश करते दिखे। परिवार का कहना है कि उस नवजात की आत्मा आज भी उनके परिवार को परेशान करती है। दरअसल 14 साल पहले एक महिला को पशु चिकित्सालय के पेशाबघर में जाना पड़ा जहां प्रसव के दौरान महिला ने 7 माह के नवजात तो जन्म दिया लेकिन उस दौरान बच्चे की मौत हो गई थी। इस बात को अब करीब 14 साल बीत चुके हैं लेकिन परिवार का कहना है कि उस नवजात की आत्मा अब भी उनके परिवार को परेशान कर रही है।
परिवार का कहना है कि उस नवजात की आत्मा आज भी उनकी मां को न बहुत परेशान करती है इसलिए जादुई तंत्र विद्या से हम उसकी आत्मा को कैद कर लेंगे और इसी क्रम में पूरा परिवार पशु चिकित्सालय में दीया जलाकर आत्मा को पकडऩे की कोशिश करता दिखा। इस दौरान महिला जोर से चिल्लाने लगी और थोड़ी देर बाद परिवार एक बाल्टी में आत्मा को लेकर चला गया।
इस कौतूहल के विषय बने आत्मा लेने के सिलसिले में लोगों की भारी भीड़ जमा हो गयी। इस दौरान कर्मचारी मूकदर्शक बने रहे किसी ने उन्हें भगाने की कोशिश नहीं की। 21 वीं सदी में इस तरह सरकारी अस्पतालों में जादुई तंत्र मन्त्र से आत्मा ले जाने के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। सरकार एंव प्रशासन को जरूरत है की ऐसे इलाकों में जागरूकता के अभियान चलाएं ताकि लोग ऐसे अंधविस्वास के चककर में ना आएं।

sagarmal

Last modified onMonday, 12 March 2018 13:34
DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News