Menu

खेल (1025)

रोड्रिगेज के पैर में चोट, अंतिम 16 मुकाबले में खेलने पर संशय

कजान , एक जुलाई (एएफपी) कोलंबिया के स्ट्राइकर जेम्स रोड्रिगेज के पैर की मांसपेशियों में मामूली चोट है लेकिन इस बात पर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है कि वह इंग्लैंड के खिलाफ मंगलवार को होने वाले अंतिम 16 मुकाबले में मैदान पर उतरेंगे या नहीं।  ब्राजील (2014) में हुए पिछले विश्व कप में सबसे ज्यादा छह गोल करने वाले रोड्रिगेज को सेनेगल के खिलाफ गुरूवार को टीम के अंतिम लीग मैच में लंगड़ाते हुए देखा गया था। कोलंबियाई फुटबॉल संघ ने कल देर शाम कहा कि रोड्रिगेज के एमआरआई में मामूली चोट का पता चला है और अंतिम 16 मुकाबले में उनके मैदान पर उतरने को लेकर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।

Read more...

केन ने कहा, विश्व कप के प्रत्एक मैच में गोल कर सकता हूं

रेपिनो (रूस), एक जुलाई (एएफपी) विश्व कप के अपने पहले दो मैचों में पांच गोल करने वाले इंग्लैंड के कप्तान हैरी केन का मानना है कि रूस में वह प्रत्एक मैच में गोल करने में सक्षम हैं।  गोल्डन बूट की दौड़ में केन शीर्ष पर चल रहे हैं लेकिन बेल्जियम के खिलाफ टीम की 0-। की हार के दौरान कोच गैरेथ साउथगेट ने उन्हें रिजर्व खिलाडय़िों में शामिल रखा जिससे कि वह इंग्लैंड के कोलंबिया के खिलाफ अंतिम 16 मुकाबले के लिए तरोताजा रह सकें। अपने पिछले मैच में पनामा के खिलाफ हैट्िरक बनाने वाले केन को हालांकि यकीन है कि वह इस मैच की फार्म को आगे बढ़ा पाएंगे। केन ने ब्रिटेन के समाचार पत्रों से कहा , शायद अगर मैं बेल्जियम के खिलाफ खेलता और गोल नहीं कर पाता तो सोच रहा होता कि मैंने पिछले मैच में गोल नहीं किया। लेकिन मैं हैट्िरक बनाने के बाद इस मैच में खेलूंगा और मैं कोलंबिया के खिलाफ बेहद महत्वपूर्ण मैच के लिए तैयार हूं। उन्होंने कहा , फिलहाल मुझे लगता है कि मैं अपने प्रत्एक मैच में गोल कर सकता हूं। विशेषकर जब चीजें आपके पक्ष में हों तब आप मैदान में उतरने के लिए इंतजार नहीं कर पाते।

Read more...

ओलंपिक चैम्पियन को पछाडऩे के बाद खाड़े के हौसले बुलंद

नई दिल्ली, एक जुलाई (भाषा) सिंगापुर राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता जोसेफ स्कूलिंग को पछाडऩे वाले भारतीय तैराक वीरधवल खाड़े ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में वह अपनी नौकरी और चोटों के कारण बड़े टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन करना भूल गए थे। उन्होंने कहा कि नौकरी और चोट के कारण उनका प्रदर्शन प्रभावित हुआ। वह ओलंपिक तैराकी में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाला सबसे युवा तैराक हैं। उन्होंने 16 साल की उम्र में बीजिंग ओलंपिक (2008) में देश का प्रतिनिधित्व किया था।
गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों (2018) में निराशाजक प्रदर्शन के बाद एशियाई खेलों की तैयारी में लगे महाराष्ट्र के इस 26 साल के खिलाड़ी का हौसला स्कूलिंग को पछाडऩे के बाद जरूर बढ़ेगा।
खाड़े ने पीटीआई से कहा, राष्ट्रमंडल खेल मेरे लिए 2010 के बाद पहला बड़ा टूर्नामेंट था और शायद मैं यह भूल गया था कि बड़े स्तर पर कैसा प्रदर्शन करना है। मैं कड़ी मेहनत कर रहा था लेकिन इसे नतीजे में नहीं बदल पा रहा था। मुझे लगता है कि राष्ट्रमंडल खेलों बाद मैंने अपनी गति बढ़ाई है।
एशियाई खेल 2010 में तैराकी में 24 साल बाद देश को पदक (कांस्य पदक) दिलाने वाले इस खिलाड़ी को महाराष्ट्र सरकार ने तहसीलदार की नौकरी दी। यह नौकरी उनके लिए प्रोत्साहन की जगह परेशानी बन गई। नौकरी पर ध्यान देने के कारण उन्हें इसका खामियाजा दो ओलंपिक, 2014 राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों में नहीं जाकर चुकाना पड़ा।
खाड़े ने कहा, मेरी उपलब्धियों के कारण। महाराष्ट्र सरकार ने मुझे नौकरी दी लेकिन राज्य नीति एथलीटों के लिए बहुत सीमित थी। इसलिए मुझे शुरूआत में बाहर आने और प्रशिक्षण करने की अनुमति नहीं मिली और नौकरी पर ध्यान देने के कारण मैं एशियाई खेलों, ओलंपिक और राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने से चूक गया था।
इस दौरान उनका घुटना गंभीर रूप से चोटिल हो गया और लगा कि करियर खत्म हो गया लेकिन खाड़े के इरादे कुछ और ही थे।
उन्होंने कहा, जब मैं काम कर रहा था तब भी मेरे दिमाग में तैराकी थी। मुझे पता था अभी मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं किया है। मेरे दिमाग में एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के साथ ओलंपिक में एक बार से किस्मत आजमाने की बात चल रही थी। मैंने तीन-चार वर्षों तक तैराकी नहीं की जो मुझे हमेशा कचोटता था।

Read more...

मेस्सी और रोनाल्डो का बाहर होना नए सितारों के उभरने का संकेत

मास्को , एक जुलाई (एएफपी) लियोनल मेस्सी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो की टीमें बाहर हो चुकी हैं और अब नए युवा खिलाडय़िों का समूह विश्व कप में अपनी छाप छोडऩे के लिए तैयार है जो संभवत : आगे चल अगली पीढ़ी के वैश्विक स्टार बनेंगे।  फ्रांस के किशोर काइलियान मबापे ने शनिवार को मेस्सी की मौजूदगी वाली अर्जेन्टीना के खिलाफ दो गोल दागकर अर्जेन्टीना को 4-3 से हराकर विश्व कप से बाहर करने में अहम भूमिका निभाई और शीर्ष स्तर पर अपनी मौजूदगी की छाप छोड़ी। मबापे मौजूदा टूर्नामेंट में तीन गोल कर चुके हैं जो इंग्लैंड के करिश्माई कप्तान हैरी केन से दो जबकि बेल्जियम से रोमेलु लुकाकु से एक कम है। रोनाल्डो की पुर्तगाल टीम को भी उरूग्वे के खिलाफ।-2 से हार का सामना करना पड़ा। मेस्सी और रोनाल्डो की टीमों के क्वार्टर फाइनल में आमने सामने होने की उम्मीद थी लेकिन दोनों ही टीमें एक साथ टूर्नामेंट से बाहर हो गईं। मेस्सी और रोनाल्डो वर्षों से यूरोप और स्पेन में नए रिकार्ड बना रहे हैं लेकिन इन दोनों ने कुल मिलाकर 14 विश्व कप नाकआउट मैच खेले हैं लेकिन कभी गोल नहीं कर सके। मेस्सी ने क्लब स्तर पर बार्सीलोना की ओर से शानदार प्रदर्शन किया है लेकिन 2014 फाइनल में जर्मनी के खिलाफ संभवत : उनके पास विश्व कप जीतने का सबसे करीबी मौका था।
दो साल पहले पुर्तगाल के साथ यूरोपीय चैंपियन बने रीयाल मैड्रिड के फारवर्ड रोनाल्डो अगले विश्व तक 37 बरस के हो जाएंगे और इसकी पूरी संभावना है कि वह 2006 में विश्व कप सेमीफाइनल में पहुंचने के अपने टीम के अभियान को बेहतर नहीं कर पाएं।
पांच - पांच बार विश्व के साल के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी रहे इन दोनों खिलाडय़िों के बाहर होने के बाद युवा खिलाडय़िों के पास सुर्खियां बटोरने का मौका है।
उन्नीस साल के मबापे इस पीढ़ी की अगुआई कर रहे हैं। वह 1958 में 17 साल के पेले के बाद किसी विश्व कप मैच में दो गोल करने वाले पहले किशोर खिलाड़ी हैं।
दूसरी तरफ प्रीमियर लीग में लगातार चार सत्र में 20 या इससे अधिक गोल करने के बाद केन शीर्ष स्तर पर अपनी प्रतिभा दिखा रहे हैं और टीम तथा उसके आक्रमण की अगुआई कर रहे हैं।
केन ने ट्यूनीशिया के खिलाफ पहले मैच में दो गोल दागने के बाद अगले मैच में हैट्िरक बनाई और वह इंग्लैंड की युवा टीम के अहम सदस्य हैं।
बेल्जियम के लुकाकु भी चार साल पहले ब्राजील में विफलता के बाद अपने आलोचकों को कड़ा जवाब दे रहे हैं।
पच्चीस साल का यह खिलाड़ी ग्रुप जी के लगातार दो मैचों में दो-दो गोल करने में सफल रहा और 1986 में डिएगो माराडोना के बाद ऐसा करने वाला किसी देश का पहला खिलाड़ी बना।
वह बेल्जियम की ओर से 71 मैचों में 40 गोल दागकर अपने देश के शीर्ष स्कोरर हैं।

Read more...

रूस में कार दुर्घटना में भारतीय फुटबाल प्रशंसक की मौत

मास्को, एक जुलाई (भाषा) विश्व कप का गवाह बनने के लिए रूस गए भारतीय फुटबाल प्रशंसक की टूर्नामेंट के मेजबान शहर सोची के समीप कार दुर्घटना में मौत हो गई। एक भारतीय अधिकारी ने आज यह जानकारी दी। यह देश में फीफा विश्व कप देखने आए किसी प्रशंसक की मौत का पहला मामला है। कल प्री क्वार्टर फाइनल मुकाबले में पुर्तगाल के खिलाफ उरूग्वे की जीत के बाद यह घटना हुई।भारतीय दूतावास के एक अधिकारी ने फोन पर पीटीआई को बताया कि कुबान क्षेत्र में दुर्घटना में एक भारतीय नागरिक की मौत हो गई।
अधिकारी ने बताया कि दूतावास पीड़ित के परिवार के संपर्क में है। भारतीय मिशन शव को स्वदेश भेजने में परिवार की मदद कर रहा है।
रूस की समाचार एजेंसी रीया नोवोस्ती ने बताया कि कल सुबह लगभग छह बजकर 50 मिनट पर एडलर क्रासनाया पोलयाना रूट पर कार और बस की टक्कर हुई जिसमें रूसी चालक और कार में सफर कर रहे भारतीय नागरिक की मौत हो गई। भारतीय पीड़ित की पहचान आदित्य रंजन के रूप में हुई है। आटोप्सी सहित अन्य सभी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद शव को भारत भेजा जाएगा।
इस दुर्घटना में घायल हुए एक अन्य भारतीय की हालत स्थिर है।

Read more...

अर्जेन्टीना के बाहर होने के बाद क्या अंतरराष्ट्रीय फुटबाल को अलविदा कहेंगे मेस्सी?

सेंट पीटर्सबर्ग, एक जुलाई (एएफपी) फ्रांस के चार गोल ने लियोनल मेस्सी के चौथे विश्व कप अभियान का अंत किया और संभवत: इस निराशा के साथ उनके अंतरराष्ट्रीय करियर का भी अंत हो सकता है।
नाइजीरिया के खिलाफ मेस्सी ने विश्व कप 2018 का अपना एकमात्र गोल दागकर टीम को प्री क्वार्टर फाइनल में पहुंचाया और कजान में अर्जेन्टीना के हजारों प्रशंसक मेस्सी की अगुआई में टीम की एक और जीत देखने आए थे।
मेस्सी ने अंतिम 16 के मुकाबले में दो गोल में मदद करके अपनी भूमिका निभाई लेकिन अर्जेन्टीना का डिफेंस फ्रांस के आक्रमण का सामना करने में विफल रहा जिसने 19 साल के काइलियान मबापे के दो गोल की बदौलत 4-3 से जीत दर्ज की।
विश्व कप के बाद अंतरराष्ट्रीय फुटबाल खेलते रहने के संदर्भ में मेस्सी ने रूस के लिए रवाना होने से पूर्व कहा था, यह इस पर निर्भर करता है कि हम कैसा प्रदर्शन करते हैं, इसका अंत कैसे होता है।
मेस्सी के चार विश्व कप अभियान में यह टीम का सबसे खराब प्रदर्शन है।
टूर्नामेंट के दौरान 31 बरस के हुए मेस्सी से उम्मीद की जा रही थी कि वह चार साल पहले फाइनल में जगह बनाने के प्रदर्शन में सुधार करते हुए इस बार खिताब जीतकर 1986 के डिएगो मैराडोना के खिताब के समकक्ष पहुंच जाएंगे।
बार्सीलोना की ओर से क्लब स्तर पर बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले मेस्सी को हालांकि मैराडोना की तुलना में अर्जेन्टीना में कमतर आंका जाता है और इसका मुख्य कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दोनों का रिकार्ड है।
ब्राजील में 2014 विश्व कप फाइनल में जर्मनी के खिलाफ हार के बाद अर्जेन्टीना को 2015 कोपा अमेरिका और 2016 कोपा अमेरिका सेंटेनारियो के फाइनल में भी चिली के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा।
मेस्सी 2016 फाइनल में पेनल्टी किक से चूक गए थे और इसके बाद उन्होंने भावनाओं में बहते हुए अंतरराष्ट्रीय फुटबाल ने संन्यास लेने का फैसला किया था लेकिन बाद में इस फैसले को बदल दिया था।

Read more...

पेरिस में सेमेन्या और सांबा चमके

पेरिस, एक जुलाई (एएफपी) कास्टर सेमेन्या ने टेस्टोस्टेरोन को लेकर आईएएएफ के विवादास्पद नए नियम से संघर्ष के बीच शानदार प्रदर्शन करते हुए पेरिस में डाइमंड लीग मीट में महिला 800 मीटर के इतिहास का चौथा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।
कतर के अब्दररहमान सांबा ने भी दक्षिण पेरिस में 29 डिग्री सेल्सियस तापमान में पुरुष 400 मीटर बाधा दौड़ में इतिहास का दूसरा सबसे तेज समय निकाला।
दो बार की ओलंपिक चैंपियन (2012, 2016) और दो बार की विश्व चैंपियन (2009, 2017) ने दो लैप की दौड़ में दबदबा बनाते हुए एक मिनट 54 .25 सेकेंड का समय लेकर खिताब जीता।
सेमेन्या से बेहतर प्रदर्शन 2008 में ज्यूरिख में कीनिया की पामेला जेलिमो, 1980 में सोवियत संघ की नदेजदा ओलिजारेंको और 1983 में चेक गणराज्य की विश्व रिकार्ड धारक जार्मिला क्रातोचविलोवा (एक मिनट 53 . 28 सेकेंड) ही कर पाई हैं।
दूसरी तरफ सांबा ने 400 मीटर बाधा दौड़ में 46 .98 सेकेंड का समय लिया जिससे वह अमेरिका के केविन यंग के 1992 में बनाए विश्व रिकार्ड के करीब पहुंचे। उन्होंने एंटीगा के रे बेनजामिन के 47 .02 सेकेंड के सत्र के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन को पीछे छोड़ा।

Read more...

मैक्सिको की नजरें पांचवें मैच का मिथक तोडऩे पर

सेंट पीटर्सबर्ग, एक जुलाई (एएफपी) मैक्सिको की टीम विश्व कप प्री क्वार्टर फाइनल में कल यहां जब ब्राजील के खिलाफ उतरेगी तो इतिहास उसके पक्ष में नहीं होगा लेकिन टीम मौजूदा टूर्नामेंट में दिखा चुकी है कि वह बड़ी टीमों को हैरान करने में सक्षम है।
मैक्सिको ने लगातार सातवीं बार विश्व कप प्री क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है लेकिन टीम पिछले छह मौकों पर अंतिम 16 की बाधा को पार करने में विफल रही जिससे पांचवें मैच में खेलना उसका बड़ा लक्ष्य बन गया है।
मैक्सिको के कप्तान आंद्रेस गुआर्डेडो ने कहा, पांचवें मैच में जगह बनाने के साथ इतिहास रचने से बड़ी कोई याद नहीं है। मानसिक रूप से हम अलग खिलाड़ी हैं लेकिन हम सभी को पता है कि हमें इस कसौटी पर परखा जाएगा कि हम आगे बढ़े या नहीं।
मैक्सिको ने अंतिम 16 में कई करीबी मुकाबले गंवाए हैं। टीम 1994 में बुल्गारिया के खिलाफ पेनल्टी शूटआउट में हारी। टीम ने 1998 और 2006 में क्रमश: जर्मनी और अर्जेन्टीना के खिलाफ बढ़त बनाने के बाद मैच गंवाया।
चार साल पहले अंतिम लम्हों में टीम ने दो गोल खाने के साथ मैच गंवा दिया। इस दौरान आर्येन रोबेन ने विवादास्पद पेनल्टी को गोल में बदलकर नीदरलैंड को अंतिम आठ में जगह दिलाई।
वीडियो सहायक रैफरी (वीएआर) इस तरह की घटना को दोहराने से रोकने के लिए मौजूद है लेकिन गुआर्डेडो ने इटली के रैफरी जियानलुका रोची को चेताया है कि वह दुनिया के सबसे महंगे खिलाड़ी नेमार के झांसे में नहीं आएं।
गुआर्डेडो ने कहा कि नेमार को फाउल को बढ़ा चढ़कार पेश करने और मैदान पर बार बार गिरने के लिए जाना जाता है।
दूसरी तरफ ब्राजील की टीम ने धीमी शुरुआत के बाद लय हासिल की है और मैक्सिको के लिए उसकी चुनौती से पार पाना आसान नहीं होगा।
कोलंबियाई कोच युआन कार्लाेस ओसोरिया के मार्गदर्शन में हालांकि मैक्सिको की टीम निडर खेल दिखा रही है और डरने की जगह विरोधी टीमों पर हावी होकर खेलने की कोशिश कर रही है।
टीम ने अपने पहले ही मैच में विश्व चैंपियन जर्मनी को हराया जो इस हार से नहीं उबर पाई और 80 साल में पहली बार विश्व कप के पहले दौर से बाहर हो गई।

Read more...

जापान के खिलाफ आत्ममुग्धता से बचना चाहेगा बेल्जियम

रोस्तोव-आन-दोन (रूस), एक जुलाई (एएफपी) बेल्जियम की टीम को कल यहां विश्व कप प्री क्वार्टर फाइनल में जापान से भिडऩा है और ऐसे में ड्राइस मर्टेन्स ने अपनी टीम को एशियाई टीम के खिलाफ आत्ममुग्धता से बचने के प्रति चेताया है।
बेल्जियम की टीम विश्व कप में छिपा रुस्तम साबित हुई है और उम्मीद की जा रही है कि टीम नाकआउट में आगे बढऩे में सफल रहेगी।
रोबर्टाे मार्टिनेज की टीम ने अपने अंतिम ग्रुप मैच में इंग्लैंड को।-0 से हराकर ग्रुप जी में शीर्ष स्थान हासिल किया जिसके बाद अब टीम को अंतिम 16 के मुकाबले में जापान से भिडऩा है।
मर्टेन्स ने हालांकि अपनी टीम को चेताया है कि यूरो 2016 का क्वार्टर फाइनल नहीं दोहराया जाए जब बेल्जियम की टीम प्रबल दावेदार होने के बावजूद वेल्स के खिलाफ।-3 से हार गई थी।
मर्टेन्स ने कहा, मुझे वेल्स के खिलाफ हुआ मैच याद है।
उन्होंने कहा, सभी को लग रहा था कि हम आगे बढ़ेंगे, कोई समस्या नहीं थी। और अचानक हम टूर्नामेंट से बाहर हो गए।
मर्टेन्स ने कहा, हम जापान को कमतर नहीं आंकने वाले क्योंकि उनकी टीम मजबूत है। अगर वे यहां तक आए हैं तो इसका मतलब है कि उनकी टीम अच्छी है।
बेल्जियम ने इंग्लैंड के खिलाफ अंतिम ग्रुप मैच के लिए अपनी टीम में नौ बदलाव किए थे और उम्मीद की जा रही है कि मार्टिनेज एक बार फिर उसी शुरुआती एकादश के साथ उतर सकते हैं जिसने पनामा और ट्यूनीशिया के खिलाफ एकतरफा जीत के दौरान प्रभावित किया था।
रूस में अब तक नौ गोल दाग चुकी बेल्जियम की टीम मौजूदा विश्व कप में सर्वाधिक गोल करने वाली टीम है।
स्ट्राइकर रोमेलू लुकाकु ग्रुप चरण में ट्यूनीशिया और पनामा के खिलाफ दो-दो गोल कर चुके हैं। टखने में चोट के कारण पिछले मैच में नहीं खेला मैनचेस्टर यूनाईटेड का यह स्टार जापान का सामना करने को तैयार है।
मार्टिनेज के सभी खिलाड़ी फिट हैं और वह उम्मीद कर रहे होंगे कि बेल्जियम अपने अब तक के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में सुधार कर पाएगा। टीम 32 साल पहले मैक्सिको में 1986 में हुए टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचने में सफल रही थी।
इंग्लैंड के खिलाफ 76 मिनट खेले 32 साल के डिफेंडर थामस वेरमेलन पिछले महीने लगी जांघ की चोट से उबर चुके हैं।
ग्रोइन की चोट से उबर चुके 32 साल के विन्सेंट कोंपानी को शुरुआती एकादश में जगह मिल सकती है।
इस बीच जापान की टीम पहली बार क्वार्टर फाइनल में जगह बनाकर इतिहास रचने की कोशिश करेगी।
जापान की टीम इससे पहले 2002 और 2010 में प्री क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने में सफल रही लेकिन दोनों की मौकों पर हार गई।
जापान को अपने अंतिम ग्रुप मैच में पोलैंड के खिलाफ 0-। से हार का सामना करना पड़ा था लेकिन सेनेगल से कम पीले कार्ड मिलने पर टीम ने प्री क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई।

Read more...

कवानी को क्वार्टर फाइनल के लिए फिट होने की उम्मीद

जुलाई (एएफपी) एडिनसन कवानी को उम्मीद है कि पुर्तगाल के खिलाफ प्री क्वार्टर फाइनल में चोटिल होने के बाद वह विश्व कप में फ्रांस के खिलाफ होने वाले क्वार्टर फाइनल के लिए फिट हो जाएंगे। पेरिस सेंट जर्मेन के स्ट्राइकर कवानी ने प्री क्वार्टर फाइनल में उरूग्वे की 2-। की जीत के दौरान टीम की ओर से दोनों गोल दागे लेकिन इसके बाद पिंडली की चोट के कारण उन्हें मैदान छोडऩा पड़ा। कवानी ने मैच के बाद पत्रकारों से कहा, मैंने एक समय में कुछ गलत महसूस किया और इससे उबर नहीं पाया। मैं उम्मीद करता हूं (कि फिट हो जाऊंगा)। मैं यह सुनिश्चित करने के लिए सब कुछ करूंगा कि अपने साथियों के साथ मैदान पर उतर सकूं।  उन्होंने कहा, थोड़ा दर्द हो रहा है लेकिन हम कल देखेंगे कि स्थिति कैसी रहती है।  उरूग्वे को अंतिम आठ के मुकाबले में शुक्रवार को फ्रांस से निजनी नोवगोरोद में भिडऩा है लेकिन अनुभवी कोच आस्कर तबारेज ने कहा कि वह कवानी के लिए चिंतित हैं।

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News