Menu

top banner

टेक्नालजी (76)

बिटकॉइन में 300 फीसदी की गिरावट, 20 हजार से 6 हजार डॉलर पहुंची

जयपुर। वर्चुअल करेंसी बिटकॉइन इस समय सबसे खराब दौर से गुजर रही है। कभी 20000 डॉलर की कीमत वाली बिटकॉइन में करीब 300 फीसदी से ज्यादा की गिरावट के बाद इसकी कीमत 6000 डॉलर रह गई है। इस गिरावट से इसको रखने वालों में परेशानी बढ़ गई है।

जिस तरह से बिटकॉइन में गिरावट दर्ज की गई है। तो सवाल उठना लाजमी है कि इतनी बड़ी गिरावट कैसे। इस को लेकर जब बिटकॉइन डॉट कॉम के सीईओ रोजर वर से बात की गई तो उनके मुताबिक अगर आप पिछले महीने की बात करेंगे तो यकिनन इसमें गिरावट हुई है। लेकिन अगर साल की बात करें तो इसमें 100 फीसदी बढ़ोतरी ही हुई है। उन्होंने कहा कि बिटकॉइन आज दुनिया भर में काफी लोकप्रिय है। इसके बाद हम बिटकॉइन कैश ला रहे हैं। इसके जरिए आप कुछ भी खरीद सकते हैं। होटल, फ्लाइट और बहुत कुछ बुक कर सकते हैं।

रोजर ने कहा कि बिटकॉइन लीगल है और सेंट्रल बैंक को भी इसे स्वीकार करना चाहिए। उनके मुताबिक इसका गलत तरीके से इस्तेमाल होता है। लेकिन मेरा मानना है कि ईमेल का इस्तेमाल भी आतंकवाद और बुरे कामों के लिए भी किया जाता है। इसका मतलब यह नहीं कि यह गलत है। इसलिए इसके बारे में भी सेंट्रल बैंक को सोचना चाहिए। यह कफी सुरक्षित है।

क्या है बिटकॉइन
बिटकॉइन का अविष्कार 2009 में हुआ था। इसके बाद इसकी लोकप्रियता इतनी तेजी से बढ़ी की आज के वक्त में इसको जानने को लेकर दुनिया में सबसे ज्यादा लोग इसे सर्च करते हैं। इसकी खासियत यह है कि इसमें किसी भी तरह का ट्रांजेक्शन चार्ज नहीं लगता है। हर क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड की लिमिट तय होती है। जबकि इसमें लेन-देन की कोई सीमा नहीं है।

पढ़ें: ढ्ढक्करु 11: राजस्थान रॉयल्स बनेगी जयपुर नगर निगम की स्वच्छता ब्रांड एंबेसडर

बिटकॉइन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि आप करोड़ों रुपए साथ लेकर घूम सकते हैं। लेकिन आपको नगद कुछ भी नहीं साथ रखना होगा। इसमें खरीदार की पहचान का खुलासा किए बिना पूरे बिटकॉइन नेटवर्क के प्रत्येक लेन-देन के बारे में पता किया जा सकता है। यह एकदम सुरक्षित और सुपर फास्ट है और यह दुनिया में कहीं भी कारगर है और इसकी कोई सीमा भी नहीं है।

Read more...

सोना ने पकड़ी 32 हजारी की चाल, आज दिखा जबरदस्त उछाल

जयपुर । सोने के दाम में तेजी बरकरार है, आज भी सोने की कीमतों में उछाल नजर आया । लगातार बढ़ोतरी के बीच सोना 32 हजारी होने को बेकरार है। मजबूत ग्लोबल संकेतों के बीच लोकल ज्वैलर्स की लगातार मांग से सोना आज 300 रुपये चढ़कर 31,850 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया ।


राष्ट्रीय राजधानी में 99.9 और 99.5 फीसदी शुद्धता वाला सोना 300-300 रुपये चढ़कर क्रमश: 31,850 रुपये और 31,700 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया । पिछले तीन सत्रों में यह 200 रुपये चढ़ा था. गिन्नी के भाव 24,800 रुपये प्रति आठ ग्राम पर कायम रहे । वैश्विक स्तर पर सिंगापुर में सोना 0.40 फीसदी बढ़कर 1,344.40 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया । इंडस्ट्रियल यूनिट्स और सिक्का मैन्यूफैक्चर्रस की मांग बढऩे से चांदी भी 360 रुपये की बढ़त के साथ 39,760 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई । चांदी हाजिर 360 रुपये की बढ़त के साथ 39,760 रुपये और साप्ताहिक डिलिवरी 330 रुपये की बढ़त के साथ 38,775 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई ।
इसलिए आई सोने में तेजी
कारोबारियों ने कहा कि डॉलर सूचकांक करीब दो सप्ताह के निचले स्तर पर होने से वैश्विक संकेत सकारात्मक रहे हैं। इससे कारोबारी सेंटीमेंट मजबूत हुए। उन्होंने कहा कि घरेलू हाजिर बाजार में रिटेल कारोबारियों की मांग को पूरा करने के लिए लोकल ज्वैलर्स की तरफ से मांग बढऩे और सोने का उठाव बढऩे से भी बहुमूल्य धातुओं में तेजी रही ।

sagarmal

Read more...

भारत, नेपाल कृषि क्षेत्र में सहयोग बढ़ाएंगे

नई दिल्ली , भारत और नेपाल दोनों देशों के किसानों को फायदा पहुंचाने के लिए कृषि क्षेत्र नें द्विपक्षीय सहयोग को आगे बढ़ाने पर सहमत हुए हैं। एक अधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई।
उल्लेखनीय है कि नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली तीन दिवसीय भारत यात्रा पर हैं। दूसरी बार नेपाल का प्रधानमंत्री बनने के बाद यह उनकी पहली विदेश यात्रा है।
दोनों देशों ने संयुक्त बयान में कहा , ै भारत और नेपाल के प्रधानमंत्रियों ने कृषि विज्ञान और प्रौद्योगिकी , कृषि उत्पादन एवं कृषि- प्रसंस्करण को बढ़ावा देने के संकल्प की पुष्टि की। इसके साथ ही दोनों देशों ने किसानों , उपभोक्ताओं , वैज्ञानिक समुदाय के साथ - साथ निजी क्षेत्र के आपसी लाभ के लिए समझौता ज्ञापन ( एमओयू ) किया। ै
इसमें आगे कहा गया है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नेपाल के उनके समकक्ष ओली कृषि क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग को नई गति देने पर सहमत हुए हैं और कृषि क्षेत्र में नई साझेदारी शुरू करने का फैसला किया है।
दोनों देशों के कृषि मंत्रियों की अगुवाई में इस भागीदारी की शुरुआत की जाएगी और कृषि अनुसंधान और विकास , शिक्षा , प्रशिक्षण और छात्रवृति के क्षेत्र में सहयोगी परियोजनाओं पर ध्यान दिया जाएगा।

Read more...

अदाणी पोर्ट्स ने धामरा बंदरगाह के दूसरे चरण का उद्घाटन किया

नई दिल्ली , बंदरगाह विकसित करने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी अदाणी पोर्ट्स ऐंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन ( एपीसेज ) ने आज ओडिशा में धामरा बंदरगाह के दूसरे चरण के विस्तार का उद्घाटन किया।
एपीसेज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी करन अदाणी ने कहा कि यह विस्तार कंपनी को 2020 तक 20 करोड़ टन क्षमता का लक्ष्य हासिल करने में मदद करेगा। आगे चल हमारा उद्देश्य 2025 तक क्षमता को बढ़ाकर 50 करोड़ टन करने का है।
उद्घाटन समारोह में ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक , वाणिज्य एवं परिवहन मंत्री नृसिंह चरण साहू , अदाणी समूह के चेयरमैन गौतम अदा णी समेत अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।
इस अवसर पर पटनायक ने कहा , ै धामरा बंदरगाह ओडिशा में आधुनिक समुद्री व्यापार का एक प्रारूप है और पीपीपी मॉडल का एक सफल उदाहरण है। अदाणी द्वारा बनाए जा रहे औद्योगिक पार्क से क्षेत्र का बड़े पैमाने पर औद्योगिकीकरण होगा और रोजगार के अवसर पैदा होंगे। ै

Read more...

जेटली एक दिन की चिकित्सा देखरेख में, कल हो सकता है आपरेशन

नई दिल्ली , वित्तमंत्री अरुण जेटली को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ( एम्स ) में एक दिन की चिकित्सीय देखरेख में रखा गया है और कल उनका गुर्दा प्रत्यारोपण के लिए आपरेशन किया जा सकता है।
जेटली (65) को एम्स में कल शाम भर्ती किया गया था। इस दौरान उनके चिकित्सा संबंधी कई परीक्षण किए गए।
सूत्रों ने बताया कि गुर्दा प्रत्यारोपण के मरीज को एक दिन की निगरानी में रखा जाना सामान्य प्रक्रिया है। उनकी शल्य चिकित्सा कल होने का अनुमान है।
जेटली गुर्दे से जुड़ी बीमारी से जूझ रहे हैं। वह सोमवार से कार्यालय नहीं गए हैं। राज्य सभा के लिए दुबारा चुने जाने के बाद से वह अभी तक शपथ भी नहीं ले सके हैं।
सूत्रों ने बताया कि घर में ही नियंत्रित माहौल में रखे जाने के बाद केंद्रीय मंत्री को कल शाम एम्स स्थानांतरित कर दिया गया था।
उनका गुर्दा प्रत्यारोपण आज होने वाला था। इसके लिए गुर्दा दानकर्ता संबंधी सभी
प्रक्रियाएं भी पूरी की जा चुकी हैं।
जेटली ने दो दिन पहले ही ट्विटर पर अपनी बीमारी के बारे में जानकारी दी थी। वह अगले सप्ताह 10 वें भारत - ब्रिटेन आर्थिक एवं वित्तीय वार्ता में भाग लेने लंदन जाने वाले थे लेकिन उनकी यह यात्रा रद्द कर दी गई।
उन्होंने ट्वीट किया था , मेरा गुर्दे से संबंधित समस्याओं तथा कुछ संक्रमणों का इलाज चल रहा है।
हालांकि उन्होंने बीमारी की विस्तृत जानकारी नहीं दी थी। उन्होंने कहा था , अभी नियंत्रित माहौल में घर से ही काम कर रहा हूं। मेरा आगे का इलाज मेरे चिकित्सकों के परामर्श पर निर्भर करेगा।
जेटली का ऑपरेशन अपोलो हॉस्पिटल के गुर्दा रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संदीप गुलेरिया की देखरेख में किया जाने वाला है। डॉ संदीप एम्स के निदेशक एवं जेटली के पारिवारिक मित्र रणदीप गुलेरिया के भाई हैं।
जेटली का सितंबर 2014 में बैरिएट्िरक ऑपरेशन हुआ था। लंबे समय से मधुमेह के कारण वजन बढऩे की समस्या के निदान के लिए यह ऑपरेशन किया गया था। यह ऑपरेशन पहले मैक्स हॉस्पीटल में हुआ था पर बाद में कुछ दिक्कतें आने के कारण उन्हें एम्स स्थानांतरित किया गया था।
कुछ साल पहले उनके हृदय का भी ऑपरेशन हुआ था।

Read more...

पाकिस्तान की आर्थिक वृद्धि छह प्रतिशत से कम रहने का अनुमान


इस्लामाबाद, पाकिस्तान अर्थव्यवस्था के चालू वित्त वर्ष में पिछले एक दशक की सबसे तेज वृद्धि के आंकड़े को पार कर लेने के बावजूद छह प्रतिशत के तय लक्ष्य से कम रहने का अनुमान है। पाकिस्तान अर्थव्यवस्था में पिछले वित्त वर्ष में 5.3 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई थी। पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान ( एसबीपी ) ने आज यह बात कही।
बैंक का कहना है कि चालू वित्त वर्ष के शेष तीन महीनों में अर्थव्यवस्था के समक्ष जोखिम बना रहेगा। चालू खाते का घाटा बढऩे का खतरा उसके समक्ष बना हुआ है। कच्चे तेल के महंगे आयात, विदेशी कर्ज भुगतान की परिपक्वता अवधि नजदीक होने और विदेशों से कर्मचारियों द्वारा स्वदेश भेजी जाने वाली विदेशी मुद्रा में कमी आने से यह जोखिम बढ़ सकता है।
पाकिस्तानी अखबार एक्सप्रेस ट्िरब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक बैंक ने दूसरी तिमाही की आर्थिक वृद्धि रिपोर्ट जारी करते हुए चेताया कि गेहूं उत्पादन में कमी और गन्ने की पिराई देर से शुरू होने के कारण आर्थिक वृद्धि दर 6 प्रतिशत के तय लक्ष्य से कम रह सकती है।
एसबीपी ने पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था की स्थिति पर वित्त वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही रिपोर्ट में कहा , ै पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पिछले साल की वृद्धि दर (5.3 प्रतिशत ) को पार करते हुए मजबूत होती दिखाई दे रही है ... वित्त वर्ष 2018 में जीडीपी वृद्धि 6 प्रतिशत से कुछ कम रह सकती है। ै
रिपोर्ट में कहा गया है कि राजकोषीय घाटे से देश के विदेशी मुद्रा भंडार पर असर पड़ता रहेगा। इस स्थिति के चलते आर्थिक प्रबंधकों को अल्पकालिक अंतरराष्ट्रीय उधार लेने में व्यस्त रहना पड़ सकता है। देश का विदेशी मुद्रा भंडार तीन माह से भी कम समय के आयात बिल के बराबर रह गया है।
केन्द्रीय बैंक के मुताबिक मुद्रास्फीति दर 4.5 से 5.5 प्रतिशत के दायरे में रह सकती है जबकि लक्ष्य छह प्रतिशत का है। खाद्य वस्तुओं के दाम नीचे रहने से यह संभव हुआ है। आयात बिल 48.8 अरब डालर से बढ़कर 54.3 अरब डालर तक पहुंच सकता है जबकि निर्यात कारोबार 23.1 अरब डालर के लक्ष्य से आगे निकलकर 24.6 अरब डालर रह सकता है।

Read more...

लॉकहीड ने 100 से अधिक लड़ाकू विमान खरीदने की भारत की बड़ी पहल का स्वागत किया

वाशिंगटन , अमेरिका की वैमानिकी और रक्षा क्षेत्र की प्रमुख कंपनी लॉकहीड मार्टिन ने 15 अरब डालर से अधिक के सौदे में बड़ी संख्या में लड़ाकू जेट विमान खरीदने की भारत की पहल का स्वागत किया है। कंपनी ने कहा है कि वह इस मामले में जारी शुरुआती निविदा का जवाब देने पर गौर कर रही है।
भारत ने अब तक के ऐसे सबसे बड़े सौदे की दिशा में प्रक्रिया की शुरुआत की है जिसमें करीब 110 लड़ाकू जेट विमान की खरीद की जाएगी। हाल के वर्ष में इतने बड़े पैमाने पर खरीदारी का दुनियाभर में यह सबसे बड़ा सौदा होगा जिसकी कीमत 15 अरब डालर (97,500 करोड़ रुपए ) से अधिक होगी।
इस सौदे के तहत कम से कम 85 प्रतिशत विमानों का विनिर्माण भारत में करना होगा जबकि शेष 15 प्रतिशत जेट विमान पूरी तरह तैयार करके भारत पहुंचाए जाएंगे।
अधिकारियों ने कहा , इस संबंध में सूचना के लिए आग्रह अथवा मेगा सौदे के लिए शुरुआती निविदा को भारतीय वायु सेना ने जारी किया है। सौदा सरकार की रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया पहल के अनुरूप किया जाएगा।
लॉकहीड मार्टिन के रणनीति और व्यावसाय विकास , उपाध्यक्ष डॉ . विवेक लाल ने कहा , लॉकहीड मार्टिन भारत की लड़ाकू जेट विमान के लिए सूचना भेजने संबंधी आग्रह का स्वागत करती है और हम इसका जवाब जल्द देने पर गौर कर रहे हैं।
उन्होंने कहा , बेहतर प्रदर्शन और औद्योगिक पैमाने के मुताबिक एफ -16 ही इस प्रतिस्पर्धा में एकमात्र विमान कार्यक्रम बचता है जो कि अतुलनीय निर्यात संभावनाओं के साथ साथ भारत की संचालन जरूरतों और उसकी मेक इन इंडिया प्राथमिकताओं को पूरा करता है।
ट्रंप प्रशासन के पिछले साल जनरल एटामिक्स से बिना शस्त्र प्रणाली वाले ड्रोन भारत को बेचने के फैसले के पीछे भी भारतीय - अमेरिकी लाल की ही अग्रणी भूमिका रही।

Read more...

फेसबुक राजनीतिक विज्ञापनों को अधिक पारदर्शी बनाएगा

वॉशिंगटन, राजनीतिक अभियानों को लेकर पारदर्शिता और जवाबदेही में सुधार लाने के मकसद से फेसबुक ने अहम कदम उठाया है। फेसबुक ने तय किया है कि जब तक राजनीतिक विज्ञापनदाता की स्पष्ट पहचान और संदेश के लिए भुगतान करने वाली इकाई का साफ साफ उल्लेख नहीं किया जाएगा वह अपने मंच पर राजनीतिक विज्ञापन की अनुमति नहीं देगा।
चुनावों को प्रभावित करने के लिए राजनीतिक अभियान चलाने के आरोप में घिरी सोशल मीडिया वेबसाइट ने कहा कि जो राजनीतिक विज्ञापन या मुद्दों पर आधारित विज्ञापन देना या खरीदना चाहते हैं तो उन्हें अपनी पहचान उजागर करनी होगी और वे कहां से हैं इस बारे में बताना होगा।
फेसबुक की ओर से यह कदम ऐसे समय उठाया गया है कि जब अगले हफ्ते उसके सीईओ मार्क जुकरबर्ग को कांग्रेस के समक्ष पेश होना है और ब्रिटिश सलाहकार फर्म कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा उपयोगकर्ताओं का निजी डेटा का उपयोग राष्ट्रपति डोनाल्ट ट्रंप के चुनावी अभियान में करने से जुड़े सवालों का जवाब देना है।
फेसबुक ने विज्ञापन को अधिक पारदर्शी बनाने की घोषणा करते हुए कहा , ै विज्ञापनदाताओं को तब तक राजनीतिक विज्ञापन - चुनावी या अन्य विज्ञापन - चलाने से प्रतिबंधित किया जाएगा जब तक कि वह अधिकृत ( यानी विज्ञापनदाताओं का सत्यापन होने तक ) नहीं होते। ै
इसके अतिरिक्त फेसबुक मंच पर इन विज्ञापनों को शीर्ष में बाएं कोने पर राजनीतिक विज्ञापन के रूप में चिह्नित किया जाएगा। हमने इस हफ्ते सत्यापन की प्रक्रिया शुरू की है और कुछ समय बाद अमेरिका में लोगों को विज्ञापन संबंधित जानकारियां दिखना शुरू हो जाएंगी।
फेसबुक ने कहा कि वह कृत्रिम मेधा ( एआई ) में निवेश कर रहा है और कुछ लोगों को जोड़ेगा ताकि ऐसे विज्ञापनदाताओं का पता लगाने में मदद मिल सके जिन्हें सत्यापन कराना चाहिए लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

Read more...

ट्रंप ने करों का भुगतान नहीं करने पर अमेजन को लताड़ा

वाशिंगटन, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने केंद्रीय एवं स्थानीय सरकारों को करों का भुगतान नहीं करने को लेकर आज अमेजन की आलोचना की। यह आलोचना ऐसे समय में की गई है जब कंपनी के खिलाफ ट्रंप प्रशासन द्वारा कड़े नियमन अपनाने की खबरें आ रही हैं।
ट्रंप ने ट्विटर पर कहा, मैंने चुनाव से भी पहले अमेजन को अपनी आपत्तियों से अवगत कराया था। अन्य कंपनियों से उलट वे केंद्रीय एवं स्थानीय सरकारों को काफी कम करों का भुगतान करते हैं, हमारे डाक प्रणाली का डिलिवरी बॉय की तरह इस्तेमाल करते हैं जिससे अमेरिका को भारी नुकसान होता है, और हजारों खुदरा कारोबारियों का कारोबार चौपट करते हैं। 
व्हाइट हाउस ने ट्रंप के बयान का बचाव करते हुए कहा कि कंपनी के खिलाफ कार्वाई की योजना तैयार हो रही है। डिप्टी प्रेस सेक्रेटरी लिंडसे वाल्टर्स ने एयर फोर्स वन में पत्रकारों से कहा, राष्ट्रपति ने अमेजन को अपनी आपत्तियां बता दी है। हमने अभी कोई कार्वाई नहीं की है। 
उन्होंने कहा, आपने सुना कि राष्ट्रपति ने आज सुबह अमेजन के संबंध में अपनी नाखुशी जाहिर की। उन्होंने अपनी आपत्तियां स्पष्ट कर दी... आप जानते हैं, अमेजन के कुछ उपयोक्ता बिक्री करों का भुगतान नहीं करते हैं, और काफी सारे खुदरा एवं छोटे कारोबारियों को कारोबार से बाहर धकेल रहे हैं। 
उल्लेखनीय है कि समाचार वेबसाइट एक्सियोस ने एक दिन पहले अज्ञात सूत्रों के हवाले से कहा था कि ट्रंप को अमेजन नापसंद है। ट्रंप को चिंता है कि अमेजन के कारण काफी सारे छोटे कारोबारी बेरोजगार हो रहे हैं।

Read more...

कड़े हो सकते हैं अमेरिकी वीजा के प्रावधान, देनी होंगी कई अतिरिक्त सूचनाएं

वाशिंगटन, अमेरिका के वीजा का आवदेन करने वालों को अब अपने पुराने मोबाइल नंबरों, ईमेल आईडी और सोशल मीडिया का इतिहास समेत कई अन्य जानकारियां भी मुहैया करानी होंगी। ट्रंप प्रशासन ने वीजा प्रावधानों को कठिन बनाने की मुहिम शुरू की है ताकि देश के लिए खतरा बन सकने वाले लोगों कोयहां आने से रोका जा सके।
फेडरल रजिस्टर पर कल प्रकाशित एक दस्तावेज के अनुसार गैर- शरणार्थी वीजा पर अमेरिका आने की इच्छा रखने वाले हर इंसान को सवालों की एक सूची का जवाब देना होगा।
गृह विभाग का आकलन है कि नए नियमों से7.1 लाख शरणार्थी वीजा आवेदक तथा1.4 करोड़ गैर- शरणार्थी वीजा आवेदक प्रभावित होंगे।
इसमें कहा गया है कि वीजा आवेदकों को विभिन्न सोशल मीडिया के यूजरनेम तथा मौजूदा फोन नंबर की जानकारी समेत पिछले पांच साल के दौरान इस्तेमाल किए सभीमोबाइल नंबरों की भी जानकारी देनी होगी।
दस्तावेज में कहा गया है कि इनके अलावा लोगों से पिछले पांच साल के दौरान इस्तेमाल किए गए सारे ईमेल आईडी तथा विदेशी यात्राओं की जानकारी देनी होगी। उन्हें यह भी बताना होगा कि उन्हें किसी देश से निकाला तो नहीं गया था या उनके परिवार का कोई सदस्य आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त तो नहीं था।
इस दस्तावेज को औपचारिक तौर परसंभवत: आज प्रकाशित किया जा सकता है। औपचारिक प्रकाशन के बाद लोगों को इसके बारे में सुझाव एवं टिप्पणी देने के लिए60 दिन का समय दिया जाएगा।

 

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News