Menu

'नया और अलग सोचिये'

हेनरी फोर्ड ने एक क्रांतिकारी स्वप्न देखा और एक नवीन इंजन की रचना करने का सोचा। वह नया इंजन कम ईंधन से चल सके, ऐसी उसकी कल्पना थी। इन इन्जेंस को वर्तमान जगत वी 8 इंजन के नाम से जानता हैं। यह इंजन वर्तमान में अत्यंत ही बेहतरीन माना जाता है। जब फोर्ड ने इस इंजन की कई डिजाइन अपने अभियंताओं को दिखाई तो सभी श्रेष्ठ पड़े लिखों ने एक ही जवाब दिया 'असंभव-यह नहीं हो सकताÓ। हेनरी फोर्ड ने उन्हें आदेशात्मक स्वर में कहा कि अब बस जुट जाओ और कार्य पूर्ण होने तक लगे रहो। अथक परिश्रम के बाद यह कम तेल खपाने वाला इंजन तैयार हुआ। 

इस कथा में एक बहुत ही बेहतरीन प्रबंध सूक्त छिपा है। वह सूक्त है कि हर व्यक्ति का अपना एक कम्फर्ट जोन होता है जिससे बाहर वो व्यक्ति निकलना नहीं चाहता। जैसे तबादला होने पर, ऑफिस में जगह बदलने पर या जीवन के किसी भी परिवर्तन पर व्यक्ति एक बार तो ना ही कहता है। हमें यहां यह सीखना चाहिए कि दुनिया में परिवर्तन ही स्थायी है, बाकी सब अस्थायी है। जो परिवर्तन को नहीं स्वीकारता, वह नष्ट हो जाता है। अज्ञात का भय, असफल होने का भय और भीषण आलस्य हमें परिवर्तन से रोकता है। इसी को मानसिक थकावट कहते हैं। नवीन सोच और परिवर्तन को स्वीकारना ही प्रबंध की पहली शर्त है।
जरा इन प्रश्नों के उत्तर देवें। इन प्रश्नों के उत्तर से आप समझ जायेंगे कि आपमें खुद को चेंज करने की कितनी शक्ति है।
* क्या आप कम्फर्ट जोन यानि अपने आराम के क्षेत्र को छोड़कर कुछ नया करने में विश्वास करते हैं?
* क्या आपको लगता है कि जो चल रहा है वही सही है?
* क्या आप परिवर्तन को स्वीकारते हैं?
* क्या आप समाज के मूल्यों के अनुसार स्वयं में परिवर्तन लाने को तैयार हैं?
बिल्बर और और्बिल के पिता एक पादरी थे। जब उस पादरी के दोनों पुत्रों ने अपने पिता को कहा कि वे इंसान को हवा में उड़ाने का स्वप्न देखते हैं तो कुपित पिता ने उन्हें झिडकते हुए कहा कि बकवास करने वाले बालकों, उडऩे का अधिकार सिर्फ भगवान को है। उस पादरी का नाम था राईट। इसी राईट के दो पुत्रों यानि इन्ही दो भाइयों बिल्बर और ओर्बिल ने बरसों मेहनत करके हवाई जहाज का आविष्कार किया। याद रहे, वह पादरी राईट और उसके दोनों पुत्र एक ही संसार में रहते थे परन्तु राईट के पुत्रों के स्वप्न देखने और असंभव को संभव बनाकर परिवर्तन करने की प्रवृत्ति बहुत बेहतरीन थी और इसीलिए आज हम इन्हें याद कर रहे हैं। यहां मन्त्र यही है कि परिवर्तन ही जीवन का एकमात्र शाश्वत सत्य है।

Read more...

'परिवार और जिम्मेदारी'

एक गरीब मजदूर को एक दिन मजदूरी नहीं मिली। वह बड़ा परेशान था। जब कुछ न मिल सका तो उसने सामने के बिल्व पत्र के पेड़ पर चढ़कर कुछ बिल्व पत्र तोड़कर उन्हें बेचने की सोची। यह सोचकर वह पेड़ पर चढ़ गया। पेड़ पर चढऩे के बाद उसे अपने सामने उसके भूख से बिलखते बच्चे, उसकी पत्नी और बूढ़े माता पिता का चेहरा घूमने लगा। यह सोचकर उसकी आंखों से आंसू निकल पड़े। इसी दु:ख में उसके हाथ से एक बिल्वपत्र छिटककर नीचे गिर गया। पेड़ के नीचे जहां पर बिल्व पत्र गिरा, वहां पर एक शिवलिंग था। उस मजदूर के आंसुओं की धार ने उस शिवलिंग का अभिषेक कर दिया। तभी अचानक एक सर्प ने मजदूर को डस लिया और मजदूर मर गया। यमदूत जब मजदूर को जब स्वर्ग के द्वार पर लाये तो स्वर्ग प्रभारी ने उसे स्वर्ग में लेने से मना करते हुए कहा कि मजदूर में कई बुराइयां है और वह स्वर्ग के काबिल नहीं है। तभी भगवान शिव प्रकट हुए। भगवान शिव ने कहा कि जिस व्यक्ति का हृदय अपने परिवार के लिये धड़कता हो, जिसमे परिवार के लिये जिम्मेदारी का बोध हो, उसे तो स्वर्ग मिलना ही चाहिये। मजदूर को स्वर्ग मिला। 

यही तो उत्तरदायित्व बोध या सेन्स ऑफ रेस्पोंसिबिलिटी कहलाता है। जब आप अपनी जिम्मेदारी के प्रति प्रतिबद्ध होते हैं, ईश्वर सदा आपके साथ होता है। हो सकता है कि आपमें कई छोटे-बड़े दुर्गुण हों लेकिन यदि अपने परिवार, समाज और राष्ट्र के लिये आपमें जिम्मेदारी का बोध है तो निश्चित जानिये कि आप पर ईश्वर की कृपादृष्टि रहेगी।
परिवार के लिये हृदय में करुणा का भाव होना ही पारिवारिक प्रेम को जन्म देता है। परिवार के भरण पोषण, उसकी उन्नति, माता पिता की सेवा, और आपसी सामंजस्य रखने का भाव ही परिवार को श्रेष्ठ बनाता है।
जरा सोचिये कि -
* क्या आपका परिवार आपके कृत्यों पर गर्व कर सकता है?
* कहीं आपके किसी कृत्य से परिवार के गौरव पर कलंक तो नहीं लगा है?
* क्या आप परिवार में अपनी आर्थिक, सामाजिक और भावनात्मक जिम्मेदारियों का निर्वहन ठीक प्रकार से कर पा रहे हैं?
* क्या आप स्वयं के स्वास्थ्य का उस स्तर पर ध्यान रखते हैं कि विपत्ति काल में आप सशक्त रूप से परिवार की सेवा कर सकें?
* कहीं आप और आपका स्वास्थ्य ही परिवार के लिये समस्या तो नहीं है?
इन प्रश्नों का उत्तर आपको बहुत कुछ समझा देगा। परिवार तब सशक्त होता है जब उसका प्रत्येक सदस्य स्वयं की जिम्मेदारियों के साथ ही अन्यों की भी जिम्मेदारी उठाने हेतु प्रतिबद्ध होवे। छोटी छोटी बातों को तिलांजलि देना, परस्पर समानुभूति का भाव होना और प्रति पल अन्य परिवारजनों को क्षमा करने का भाव ही सामान्य परिवार को श्रेष्ठ परिवार में परिवर्तित करता है।

Read more...

'परिवार'

- क्या एक कुल में जन्म लेना या एक साथ एक घर में रहना परिवार होना है? यदि यह सही है तो कई जानवर भी इस श्रेणी में शामिल हो जायेंगे जो एक ही कुल के हैं और साथ भी रहते हैं। तो क्या आप इसे परिवार कहेंगे? शायद नहीं। आखिर 

क्यों नहीं?
- एक साथ कई भाई और उनकी संतानें एक ही स्थान पर रहते हैं। उनमे विषाद, ईर्ष्या, जलन, क्लेश और लडऩे का भाव प्रबल है। क्या इसे परिवार कह सकते हैं?
- एक साथ रहते तो हैं लेकिन रोज़ कलह और संघर्ष होता है। सोचिये कि इसे परिवार कहेंगे या लड़ाई का अखाड़ा?
आप सही सोच रहे हैं। ये परिवार नहीं हो सकता। जहाँ परिवार रहता है, वहां क्लेश, संघर्ष और ईर्ष्या के लिये स्थान नहीं रह जाता। परिवार तो शुद्ध सात्विक प्रेम, त्याग, आत्मीयता, सहयोग, और समानुभूति के गुणों से चलता है। परिवार का अर्थ है - परी का वार अर्थात माधुर्य का वार जिसके अनुसार प्रत्येक दिन मधुर हो। क्या आपका प्रत्येक दिन मधुरता के साथ बीतता है? यदि नहीं तो आप शायद परिवार में नहीं रह रहे।
- क्या आपको लगता है कि घर जाने से अच्छा तो कुछ पल दफ्तर या कार्यस्थल पर ही बिता दिये जायें ताकि बेकार की किच – पिच न सुननी पड़े?
- क्या आपको प्रतिपल यह चिंता सताती है कि न जाने आज किस बात पर घर में बखेड़ा हुआ होगा?
- क्या आप बाई बेटी के लेन – देन, देरानी जेठानी या सास बहु के झगड़ों के विषय में चिंतित रहते हैं?
- क्या आप और आपके परिजनों के बीच मुकदमेबाजी की नौबत आ चुकी है?
यदि इसका उत्तर हाँ है तो यकीन मानिये कि परिवार में त्याग, सद्भावना और प्रेम में कमी है और आप पाशविक जीवन जी रहे हो। इसका समाधान यही है एक दूसरे से ईर्ष्या करने या अधिकार छीनने के बजाय यह समझें कि पूरा परिवार एक गुलदस्ता है जहाँ प्रत्येक पुष्प भिन्न है। अत: प्रत्येक व्यक्ति की अपनी शक्तियां और कमियां होंगी। कमियों को भी गले लगाना ही सच्चे अर्थों में सहिष्णुता है और यही परिवार में बने रहने की पहली शर्त है। यहाँ मन्त्र यही है कि व्यक्तिगत आचरण में सुधार लाने, बच्चों के आगे स्वयं उदाहरण बनने और छोटी - छोटी बातों का बतंगड़ नहीं बनाने से ही पारिवारिक सामंजस्य बना रह सकता है। स्वयं में सुधार लाना और एडेप्टेशन करना अर्थात खुद को परिवार के नियमों के हिसाब से ढालना ही सुखी परिवार की रीढ़ है।

Read more...

लेखन के प्रति ईमानदारी बनाती है रचनाकार

लिखने के लिए सिर्फ भाषा ज्ञान होना ही जरूरी नहीं है। इस बार हरीश बता रहे हैं कि लिखने के लिए जरूरी है 

भाव-जगत स्पष्ट होना।


लिखने के लिए क्या सीखें? इस सवाल का सामान्य-सा जवाब तो यही है कि लिखने के लिए लिखना सीखें। यह सामान्य-सा जवाब ही दरअसल, परेशानियों का सबब है। हम देखते हैं कि बहुत सारे लोग यह कहते हुए देखे जा सकते हैं कि ये।।।? ये तो हमें आता है। यह तो हम भी कर सकते हैं। साहित्य में भी ऐसी त्रासद घटनाएं होती रहती है। बड़े-बड़े साहित्यकारों के रचे हुए को देखते हुए यह कहना कि ऐसा लिखना तो बहुत आसान है, भले ही कहने के स्तर पर आसान हो, लेकिन चुनौती के स्तर पर सात जन्म में नहीं हो पाने जैसा मामला है। लिखने की तकनीक सीखाने वाले सामान्यतौर पर कहते देखे जा सकते हैं कि वर्तनी शुद्ध होनी चाहिए। विराम चिह्नों का प्रयोग सलीके से किया जाना चाहिए और सबसे खास बात कि वाक्य की संरचना नौ शब्दों से अधिक नहीं होनी चाहिए। यहां तक तो ठीक है, लेकिन लिखें क्याï? यह किसी भी तकनीक से पता नहीं चल सकता। हां, सर्वे यह बता सकता है कि इन दिनों लोगों को क्या पढऩे में रुचि है, लेकिन जरूरी नहीं कि जो पढऩे में रुचि हो, उसे लिखा भी जा सके और फिर रुचि के पैदा होने का एक बड़ा कारण अभाव ही तो है। बारीकी से देखें तो पाएंगे कि हमारी रुचियां वस्तुत: हमारे मांग और आपूर्ति के साधन की प्रतिनिधि है। रुचियों का संबंध रचनात्मकता से जुड़ा है। किसी भी व्यक्ति के रचनात्मक होने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं, लेकिन सबसे पहली शर्त उसका सुरुचिपूर्ण होना है। अगर रचनात्मक जगत से जुड़े हुआ व्यक्ति सुरुचिपूर्ण नहीं है तो उसकी रुढ़ताएं बगैर कहे ही बाहर आने लगेगी। वह पुराने पड़ चुके विषयों पर बात करेगा। बार-बार विषयांतर होगा, कुछ नया देने की कोशिश में गफलत का शिकार होगा और इस तरह के लोगों की सबसे बड़ी पहचान होगी कि शब्दों के चयन के मामले में बहुत अधिक लापरवाह होगा। वजह, सुरुचिपूर्ण नहीं होगा। सुरुचि सम्पन्न व्यक्ति सदैव कुछ नया करने की कोशिश करेगा। अगर वह लेखन के क्षेत्र से जुड़ा है तो किसी भी विषय को उठाने की बजाय, इस विषय पर ध्यान देगा कि उसे खत्म कैसे करना है। लिखने की यही सबसे बड़ी शर्त है। जब आप कलम उठाते हैं। कागज पर रखते हैं तो भले ही आप पहला शब्द लिख रहे हों, आपको पता होना चाहिए कि यह वाक्य खत्म कहां होगा। अगर यह पता चल गया कि पहले वाक्य को कहां खत्म करना है तो दूसरे वाक्य को शुरू करने के लिए किसी भी तरह की समस्या नहीं होगी। दूसरे से तीसरे में और इस तरह अंतिम पंक्ति के अंतिम विराम चिह्न तक सबकुछ व्यवस्थित हो जाएगा। ऐसा नहीं होने की स्थिति में बहुत सारी रचनाएं भ्रूण हत्या की शिकार भी हुई है। इस तरह की भ्रूण-हत्याएं उन्हीं रचनाओं की होती हैं, जिनके रचनाकार यह कहते हुए सुने जाते हैं कि ऐसा तो हम भी लिख सकते थे। दरअसल, समझ की पहली-दूसरी सीढ़ी पर खड़े ये लोग गलत कह भी नहीं रहे होते, क्योंकि जिस तरह से किसी भी बड़े साहित्यकार की रचना का मर्म सामने आता है, सभी को लगता है जैसे यह तो उसे भी पता है। एक ऐसी कहानी तो उसके भी पास है, लेकिन बात सिर्फ कहानी भर नहीं होती। कहानी को कहने का सलीका होता है। जब सलीका नहीं होता है तो समस्या खड़ी होती है। समस्या इसलिए खड़ी होती है कि भाव-जगत में कुछ भी स्पष्ट नहीं होता। जब तक भाव-जगत अपने विषय को लेकर सजग नहीं होगा। विषय को संवेदनाओं की प्राण-वायु नहीं मिलेगी। कहने का सलीका तो दूर की बात है, कैसे एक शब्द भी फूट सकता है? और हम बात कर रहे हैं कि एक कहानी, उपन्यास या कि एक कविता लिखने की। इसलिए कहते हैं कि लिखना आना चाहिए। लेखन के प्रति यह ईमानदारी ही व्यक्ति की रचनाकार बनाती है। एक रचनाकार न जाने कितनी-कितनी बार अपने लिखे हुए को खारिज करता है। बार-बार कागज फाड़ता है और अंतत: एक रचना को समाज के सामने बहुत ही संकोच से रखने का साहस रखता है। दरअसल, जब वह ऐसा कर रहा होता तो वह एक सलीके की खोज कर रहा होता है। वह बार-बार खारिज इसलिए नहीं करता, क्योंकि उसे लिखना नहीं आ रहा है। वह खारिज इसलिए कर रहा होता है कि वह सलीका नहीं आ रहा है कि एक पूरी परंपरा से निकलकर उस तक आने वाला पाठक, उसे भी सराहे। संकोच सिर्फ इस बात का है कि रचनाकार को पता है कि इस समाज में उससे अधिक ज्ञानी और समझदार लोग बैठे हैं, उनकी कसौटी पर क्या यह खरा उतर पाएगा। यही संकोच लिखना सिखाता है। वरना जिसे सामान्य शब्दों में लिखना कहते हैं, वह तो सभी साक्षरों को आता है। हम यह भी कहते हुए सुनते हैं कि छोटी मात्रा लगाएं या बड़ी, समझने वाला तो समझ ही गया। साहित्य में ऐसा नहीं है। साहित्य में सबसे पहले रचनाकार को अपनी तरफ से साफ कर देना पड़ता है कि वह क्या समझाना चाहता है। पाठक तो बाद में उसके कहन में से अलग-अलग ध्वनियां और अर्थ निकालना शुरू करते हैं। यही लिखना है, यही लेखन है। यही सृजन है, सृजन का इससे बड़ा सरोकार कोई भी नहीं है कि लिखने का सलीका आए।

मंच पर ही नकद राशि, सराहनीय पहल

पंाच दिवसीय रंग-महोत्सव में पांच नाटकों के बाद एक-दो जून को अर्पण आर्ट सोसायटी द्वारा बहुचर्चित नाटक 'प्यादाÓ का मंचन हुआ। रंग-निर्देशक दलीपसिंह भाटी के निर्देशन में मंचित इस नाटक में स्त्री-पुरुष संबंधों की पड़ताल करते हुए अंतद्र्वंद्व को दर्शाया गया। पूरे नाटक में तनाव एक अदृश्य किरदार था, जो दर्शकों के मन में चलता रहा। नवोदित रंगकर्मियों ने नाटक में जान डाल दी। प्रत्येक रंगकर्मी को बतौर मेहनताने 3000 रुपए की राशि सार्वजनिक रूप से मंच से ही दिया जाना, एक अच्छी शुरुआत है। बीकानेर में अगर प्रोफेशनल थिएटर की स्थापना करनी है तो खुले मन से रंगकर्मियों को उनके हक का पैसा देना होगा। इससे पहले पांच दिवसीय रंग आयोजन में में गवाड़, फंदी, काया में काया, अम्मा और श्यामकली का जादू नाटक मंचित हुए।

पांच दिन लगातार कार्यक्रम

आठ जून से 12 जून तक साहित्य के नाम रहेगा। नियमित चलने वाले कार्यक्रमों के अलावा पांच कार्यक्रम लगातार होने हैं। आठ जून को डॉ.राजेंद्र जोशी, नौ जून को डॉ.मंजू कच्छावा, दस जून को कवि-कथाकार राजेंद्र जोशी, 11 जून को जनकवि हरीश भादाणी की जयंती पर अवरेख और 12 जून को राजस्थानी कहानी पर केंद्रित कार्यक्रम होगा। वर्ष-2017 में 85 किताबों का प्रकाशन हुआ है। वर्ष-2018 के प्रारंभिक महीनों की सुस्ती के बाद जिस तरह से कृतियां सामने आ रही हैं, संभव है कि पिछले साल का रिकार्ड टूट जाए।

Read more...

'परिवार और मधुर सम्बन्ध'

दो भाई सपरिवार एक घर में रहते थे। एक दिन उनकी पत्नियों में विवाद हुआ और इस कारण भाई आपस में लड़ भिड़े। छोटे भाई ने घर के बंटवारे का प्रस्ताव दिया और दोनों भाइयों के कमरों के बीच में एक दीवार बनवाने का निर्णय लिया। उसने बढ़ई को बुलवाया और कहा कि दो कमरों के बीच में लकड़ी का पार्टीशन बना देवे। बढ़ई चतुर था। उसने दीवार नुमा पार्टीशन बनाने के बजाय दो कमरों को जोडऩे वाला पुल नुमा स्ट्रक्चर बना डाला। वो बोला कि उसे तो यही दीवार बनानी आती है। दोनों भाइयों को गलती का एहसास हुआ। वे पुल के बीच एक दूजे से मिले और पार्टीशन के विचार को त्याग दिया। 

पुल बनाइये। पुल जोड़ता है। पुल जुडऩे का प्रतीक है। दीवार विभाजित करती है। दीवार भेद का, अलग होने का या एक दूसरे से अलगाव का प्रतीक है। भारतीय समाज परिवारों में सेतु या पुल निर्माण को प्राथमिकता देता है। पुल बनाने से तात्पर्य है कि-
* एक दूसरे की गलतियों को नजरअंदाज कीजिये तभी जुड़े रह सकेंगे। गलतियों का छिद्रान्वेषण आपके व्यक्तित्व का नाश कर देगा। आप सडांध की ओर बढऩे लगेंगे।
* बच्चों और महिलाओं की छोटी-मोटी घरेलू बातों के कारण व्यवहार को तोडऩा या व्यर्थ में क्लेश करना मूर्खता है। बच्चों के वयवहार को समझना चाहिये। बच्चे इम्प्ल्सेज यानि आवेगों से अपना व्यवहार बनाते हैं। उन्हें इन इम्प्ल्सेज या आवेगों पर नियंत्रण करना नहीं आता। इससे तात्पर्य है कि यदि बच्चे को प्यास लगी है तो उसे तुरंत ही पानी चाहिये। यदि नहीं मिला तो वह रोयेगा। उसका नियंत्रण नहीं है। इसी प्रकार कई लोग इम्प्ल्सेज द्वारा नियंत्रित होते हैं। उन्हें कुछ भी कहो, वे तुरंत प्रतिक्रिया देंगे। इनपर ध्यान न देवें वरना सम्बन्ध टूटने के कगार पर आ जायेंगे।
* औरतों की (सामान्य बात है, महिला शक्ति सर्वोच्च है, अन्यथा न लेवें) दुनिया बहुत ही छोटी होती है। घर, परिवार, बच्चे, बाई-बेटी का लेन देन, शादी में दी जाने वाली साडिय़ां और कपडे, आदि की बातों पर भी कई बार संग्राम हो जाते हैं। इनपर ध्यान न देवें। यदि ध्यान दिया तो समस्या और कष्ट होगा और घरों के बीच में दीवारें खिंच जायेंगी।
यहां मन्त्र यही है कि बड़ा सोचना, छोटी बातों में न उलझना, क्षमा करने का भाव रखना, इम्पल्स से गवर्न न होना और सदा सहनशील रहना ही परिवार में मधुर संबंधों की स्थापना करता है।

Read more...

'भक्ति की शक्ति'

मार्कंडेय की आयु सिर्फ सोलह साल थी. सोलहवें जन्मदिन की पूर्व संध्या पर मार्कंडेय ने शिव पूजा प्रारम्भ की. थोड़ी देर बाद यम प्रकट हुए और मार्कंडेय को साथ चलने को कहा. मार्कंडेय ने निवेदन किया कि उन्हें शिव पूजा के समाप्त होने के बाद ले जाया जाये. यमराज ने उन्हें कहा कि मृत्यु किसी का इंतजार नहीं कर सकती और उन्होंने अपना पाश फैंका. मार्कंडेय ने पूर्ण समर्पित भाव से भगवान शिव को पुकारा. भगवान शिव प्रकट हुए और उन्होंने यम से कहा कि मार्कंडेय की भक्ति में शुद्ध समर्पण है अत: उन्हें यमलोक न ले जाया जाये. भगवान शिव उन्हें अपने साथ कैलाश ले गये. मार्कंडेय सदा शिवजी के साथ ही रहे. उनकी आयु सदा सोलह साल ही रही. उन्हें सदा के लिये जन्म मरण के चक्र से मुक्ति मिली. 

भक्ति और प्रार्थना में अपार शक्ति होती है. समर्पित भाव से, सम्पूर्ण सकारात्मक भाव के साथ की गई प्रार्थना में बहुत बल होता है. प्रार्थना इस प्रकार करनी चाहिये कि कोई काम, कोई युक्ति काम नहीं आने वाली. सिर्फ प्रार्थना का ही सहारा है. भगवान श्री कृष्ण ने श्रीमद भगवद गीता में भक्ति योग की शिक्षा देते हुए उसे भी ज्ञानयोग और कर्मयोग के समतुल्य ठहराया है. जरा सोचिये कि-
* जब आप ईश्वर से प्रार्थना कर रहे होते हैं तो आपका क्या भाव होता है-आभार जताने का या याचक का?
* क्या आपको नहीं लगता कि जितना जरूरी याचना करना, ईश्वर से मांगना है, उतना ही जरूरी उसका आभार जताना भी है?
* अपनी प्रार्थना में पिछली बार आपने ईश्वर का आभार कब जताया था? क्या आपको याद है?
प्रार्थना का अर्थ यह नहीं है कि हम स्वयं तो अकर्मण्य रहें और ईश्वर से इच्छाओं की पूर्ति की प्रार्थना करते रहें. ईश्वर हमारी तब सुनता है जब हम पुरुषार्थ भी उच्च स्तर का करते हैं. यहां मन्त्र यही है कि जब आप ईश्वरीय सत्ता हेतु सम्पूर्ण समर्पण कर देते हैं , वहीं से आपका उत्थान प्रारम्भ हो जाता है. कहा गया है कि-
जब सौंप दिया है जीवन का
सब भार तुम्हारे हाथों में;
अब जीत तुम्हारे हाथों में
और हार तुम्हारे हाथों में.

Read more...

'धैर्य और ईश्वरीय कृपा'

पंजाब में एक गीत प्रसिद्ध है जो धीरज धरने की प्रेरणा देता है।

सदा न बागी बुलबुल बोले,
सदा न बाग बहारां,
सदा न राज खुशी दे होंदे,
सदा न मजलिस यारां।
गीत सिखाता है कि सदा अनुकूल परिस्थितियां हों, यह तो आवश्यक नहीं हैं अत: हमें धैर्य रखना चाहिये। यदि परिस्थितियां प्रतिकूल हों तो स्वयं से धैर्यपूर्वक कहते रहें कि 'यह वक्त भी गुजर जायेगाÓ। अच्छा वक्त यदि बीत गया है तो क्या बुरा वक्त नहीं बीतेगा? धैर्य रखें। सिर्फ धैर्य रखने से काम नहीं चल सकता। आवश्यक होता है अध्यवसाय। अध्यवसाय का अर्थ है निरंतर धैर्य रखना, लम्बी अवधि तक धैर्य रखना। अध्यवसाय नामुमकिन नहीं है। इन उदाहरणों से स्पष्ट हो जायेगा कि अध्यवसाय ही जीवन का प्रमुख अवयव है-
* वीर सावरकर को अंग्रेज सरकार ने अंडमान जेल में डाल दिया। उन्हें काला पानी की सजा दी गई। अत्यंत कष्टप्रद यातनाओं के बीच भी वीर सावरकर ने धैर्य नहीं खोया। अत्यधिक घायल होने के बावजूद सावरकर ने बेडिय़ों की नई भाषा इजाद करी। उनमे बोल सकने की भी शक्ति नहीं बची थी। इसके बावजूद उन्होंने धैर्य के साथ सभी कैदियों में स्वतंत्रता की अलख जगाई और जैसे ही वे तीन बार बेडिय़ों को झंकृत करते, उसी समय सारे कैदी एक स्वर में वन्दे मातरम् का उद्घोष करते। धैर्य जीता, उत्साह जीता और यातनाएं हार गई।
* कोलंबस यात्रा कर रहा था। उसके पास क्या था? उसके साथियों को लगता था कि इस निरर्थक यात्रा के बाद कहां जाकर पहुंचेंगे? लेकिन उन्होंने धैर्य रखा। यात्रा जारी राखी। अध्यवसाय अपनाया। इसी कारण अमरीका की खोज हुई।
* सैकड़ों बार असफल रहने के बाद उसकी पूरी प्रयोगशाला जल कर नष्ट हो गई। अध्यवसाय अपनाया। उस व्यक्ति ने एक हफ्ते बाद ही बिजली का बल्ब बना डाला। वह धैर्यवान व्यक्ति एडिसन था।
* कई वर्षों तक निर्धनता झेलने के बाद ईश्वरीय कृपा से धन वर्षा होना, संतानहीनता का दंश झेल रहे दंपत्ति को अकस्मात जुड़वां बच्चों की प्राप्ति, कई वर्ष नेपथ्य में रहने वाले व्यक्ति का अकस्मात उदय आदि उदाहरण हमें धैर्य रखने और अध्यवसाय को अपनाने की सलाह देते हैं।
यहां मन्त्र यही है कि धीरज रखें। जल्दबाजी न करें। ईश्वर सभी को देता है। ईश्वर से गलती नहीं हो सकती। स्वयं को ईश्वरीय सत्ता को सौंप देवें। यह समर्पण ही वास्तव में अध्यवसाय कहलाता है। यही सुखद जीवन का मन्त्र है।

Read more...

मनमुटाव को करना होगा दूर

RK for website02

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे एक बार फिर 11 जून से प्रदेश का दौरा कर गुटों में विभाजित हुई भाजपा को एक करने की कोशिश करेंगी। विधानसभा चुनाव को लेकर राजे के दौरे में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी कई जिलों में शामिल होंगे। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष के नाम पर रविवार को भी सहमति नहीं नहीं बन पाई, किंतु इतना स्पष्ट हो गया है कि भाजपा राजे के नेतृत्व में ही प्रदेश में अगला विधानसभा चुनाव लड़ेगी। किंतु बिना सेनाध्यक्ष (प्रदेशाध्यक्ष) के कैसे चुनाव लड़ेगी। इसको लेकर अभी भी सवाल बना हुआ है। वसुंधरा राजे व केन्द्र सरकार के बीच टकराव समाप्त होने के साथ ही दोनों के बीच प्रदेशाध्यक्ष को लेकर सहमति भी बन गई है। जिसमें साफ हो गया है कि जाट या फिर राजपूत प्रदेशाध्यक्ष नहीं बनेगा, किंतु केन्द्रीय संगठन की ओर से सुझाए गए नाम पर स्थानीय भाजपा को सहमति देनी होगी। दूसरी ओर कांग्रेस ने भी इस बार भाजपा को प्रदेश से उखाडऩे का पूरा मानस बना लिया है और कांग्रेस के राष्ट्रीय व प्रदेश स्तरीय पदाधिकारी इन दिनों प्रदेश के जिलों का दौरा कर कार्यकर्ताओं में जोश का मंत्र फूंकने का काम कर रहे है। भाजपा हो या फिर कांग्रेस दोनों ही पार्टियों में आपसी फूट प्रदेश के साथ-साथ बीकानेर जिले में भी देखने को मिल रही है। जब तक दोनों ही संगठन इस फूट का सही व पुख्ता इलाज नहीं कर लेते, तब तक चाहे भले ही बूथ को कितना भी मजबूत बना लें, लेकिन जीत सुनिश्चित होना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन सी है। यह तो फिलहाल विधानसभा चुनाव के वक्त ही पता लगेगा। फिलहाल कांग्रेस व भाजपा दोनों ही पार्टियां जोरशोर से बूथ को मजबूत बनाने के लिए गांव-गांव में पहुंचकर कार्यकर्ताओं से रुबरु हो रही है।

देखना जोर किसमें कितना है

बीकानेर जिले में कांग्रेस व भाजपा देानों ही पार्टियों में चल रही गुटबंदी के चलते विधानसभा चुनाव में जिले की सभी सातों सीटें जीतने के लिए दोनों को ही एडी चोटी का जोर लगाना पड़ सकता है। आचार संहिता लागू होने तथा टिकट वितरिण के वक्त ही हालांकि नाराजगी व गुटबाजी खुलकर सामने आ जाएगी। कहा जाए तो अतिशयोक्ति नहीं होगी कि इसके चलते इस बार विधानसभा चुनाव रोचक होने की पूरी संभावना है। जीत सुनिश्चित करने के लिए किसमें कितना दम है यह कहने की जरुरत नहीं है यह तो तो मैदान-ए-चुनाव में सामने अपने आप ही आ जाएगा।

खाजूवाला में फिर दिखी गुटबाजी

विधानसभा को चुनाव को लेकर जिले में आरक्षण के तहत एकमात्र खाजूवाला विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में गुटबाजी एक बार फिर सामने आई। मेरा बूथ मेरा गौरव कार्यक्रम में पहुंचे अखिल भारतीय कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव तथा राजस्थान प्रदेश के सहप्रभारी काजी निजामुद्दीन को भी फूट का सामना करना पड़ा। जहां जाट धर्मशाला में नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी गुट के कार्यकर्ताओं की ओर से आयोजन किया गया। वहीं स्थानीय ग्राम पंचायत में पूर्व संसदीय सचिव गोविन्दराम मेघवाल की ओर से कार्यक्रम रखा गया। काजी निजामुदीन ने दोनों ही स्थानों पर शिरकत की। इससे पूर्व भी यहां सर्किट हाउस पहुंचने पर प्रदेश के सहप्रभारी के सामने दोनों ही पक्षों के कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने नेताओं के समर्थन में नारेबाजी की। जिसके कारण कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है।

मुकाबलों में रहेगी रोचकता

प्रदेश की भाजपा सरकार के कार्यकाल में बीकानेर को कितना क्या कुछ मिला है। यह किसी से छिपा हुआ नहीं है। उस पर ऐलिवेटेड सहित अनेक मुद्दों पर बात बिगड़ती हुई नजर आती है। ऐसे में आने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा को कितना लाभ मिल पाएगा। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही बताएगा। दूसरी ओर जिले के कई महत्वपूर्ण मुद्दों को विपक्ष भी जोरदार तरीके से नहीं उठा पाया है। ऐसे में बीकानेर की सभी सातों नोखा, श्रीडूंगरगढ़, लूणकरनसर, श्रीकोलायत, खाजूवाला, बीकानेर पूर्व तथा बीकानेर पश्चिम विधानसभा क्षेत्र में मुकाबले रोचक होने की पूरी संभावना है। हाल फिलहाल जिले की सात सीटों में से चार पर भाजपा, दो पर कांग्रेस तथा एक सीट पर निर्दलीय विधायक है। जहां भाजपा की कोशिश जिले में बेहत्तर प्रदर्शन कर अधिकाधिक सीटें हथियाने का लक्ष्य है। वहीं कांग्रेस पिछले विधानसभा चुनाव के रिपोर्ट कार्ड को सुधारने का प्रयास करेगी। जहां एक ओर देश व प्रदेशों में भाजपा की बढ़ती लोकप्रियता को लेकर भाजपा के पदाधिकारी व कार्यकर्ता पहले से ही जोश में है। वहीं इस बार एक बार मैं, एक बार तुम की तर्ज पर की जा रही घोषणाओं के चलते कांग्रेस के कार्यकर्ता भाजपा को पटखनी देने की पूरी तैयारी में है। हाल फिलहाल दोनों ही पार्टियों के विधायक, पदाधिकारी व कार्यकर्ता लोगों के बीच पहुंचकर अपनी-अपनी तारीफ तथा विपक्षी पार्टी की विफलताओं को बताने में जुटे हुए है। जनता भी जागरूक हो चुकी है। देखना ये है कि दोनों ही पार्टियों के बहकावें में आती है या नहीं या फिर विकास को लेकर मतदान करेंगी। यह तो फिलहाल आने वाला समय ही बताएगा।

Read more...

मूर्खों को न देवें सलाह

एक बन्दर और एक चिड़िया पीपल के पेड़ पर रहते थे. चिड़िया ने दिन – रात मेहनत करके घोंसला बनाया था ताकि विपत्ति काल में या वर्षा ऋतु में वह सुखपूर्वक जी सके. एक दिन भीषण वर्षा हुई. वर्षा होते ही बन्दर सर्दी से ठिठुरने लगा. चिड़िया ने बन्दर से कहा कि बन्दर ने अपना घर न बनाकर बहुत बड़ी गलती की है. बन्दर ने गुस्से से चिड़िया को चुप रहने को कहा. थोड़ी देर बाद चिड़िया ने पुनः बन्दर को घर बनाने और घर के फायदों पर भाषण दे डाला. बार – बार घर बनाने के सलाह सुनकर बन्दर क्रोधित हो गया. बन्दर बोला कि वह घर बना तो नहीं सकता लेकिन तोड़ तो सकता है. ऐसा कहकर बंदर ने चिड़िया का घोंसला तोड़ दिया. चिड़िया भी अब सर्दी में धूजने लगी. चिड़िया को मूर्खों को सलाह देने का दंड मिला.

Read more...

'एक खरगोश ही काफी'

चन्दू के पिता चन्दू को खरगोशों के पार्क में ले गये. उन्होंने चन्दू को कोई भी एक खरगोश पकडऩे का लक्ष्य दिया. सबसे पहले चन्दू ने सबसे सुंदर खरगोश को पकडऩे के लिये दौड़ लगाना प्रारम्भ किया. सुन्दर खरगोश पकड़ में नहीं आया. चन्दू भी थक रहा था अत: चन्दू ने तुरंत ही दूसरे खरगोश को पकडने के लिये दौड़ लगाना शुरू किया. दूसरे को पकड़ पाने से पहले ही उसे एक चितकबरा खरगोश दिखा और वो उसके पीछे दौड़ पड़ा. ऐसा चलता रहा. चन्दू खरगोश बदलता रहा और अंतत: किसी खरगोश को न पकड़ सका. उसके पिता ने उसे समझाया कि यदि वो अनेक खरगोशों की जगह किसी एक खरगोश के भागने के पैटर्न पर शोध और समीक्षा करता और योजनाबद्ध तरीके से पीछा करता तो शायद वो किसी खरगोश को पकड़ लेता.

हमारे समाज में ऐसे कई लोग हैं जो चन्दू की तरह हैं.
जरा सोचिये-
* विद्यार्थी कहता है कि 'साइंस लूंगा, डॉक्टर तो बना समझोÓ. यह कहकर साइंस ली और जैसे ही श्रम करने की बारी आई तो सोफेस्टिकेटेड अंदाज में कह दिया कि 'मेरा इंटरेस्ट साइंस में नहीं है, मैं तो आईएएस के लिए मुफीद हूंÓ. अब चले आईएएस की ओर. वहां भी भरसक श्रम को ताड़कर उससे भी नाता तोड़ लिया और चले किसी अन्य कोर्स की ओर. कोर्स दर कोर्स बदलते रहे. किया कुछ नहीं. ऐसी पढाई का क्या मोल? हर विषय में आपकी दिलचस्पी हो, यह जरूरी थोड़े ही है लेकिन पडऩा तो पड़ता ही है. जिस प्रकार चन्दू किसी खरगोश को न पकड़ सका, उसी प्रकार किसी भी विषय में आप महारथ हासिल न कर सकेंगे.
* खरगोश पकडऩे का उदाहरण सिर्फ विद्यार्थियों के लिये नहीं है. जीवन में भी यही होता है. हम किसी एक लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु जुटते हैं. जैसे ही उसमे मेहनत करने या समर्पण करने का समय आता है, तभी किसी अन्य लक्ष्य की तरफ मुड़ जाते हैं. लक्ष्य संधान न हो पाने का सबसे बड़ा कारण यही है. समूचा जीवन सिर्फ दौडऩे में ही बीत जाता है. मिलता कुछ नहीं है.
यहां मन्त्र यही है कि आप दोनों पैर हवा में नहीं रख सकते. एक पैर जमीन पर होना चाहिये. उसी प्रकार स्वप्न देखने मात्र से लक्ष्य हासिल नहीं होते. मेहनत चाहिये. एक खरगोश अर्थात लक्ष्य पर नजर रखें. यही लक्ष्य संधान का परम सत्य है.

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News