Menu

और कुंदन ने कहा जाने भी दो यारों

फिल्मकार कुंदन शाह का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उनकी अंतिम फिल्म 2014 में आई पी से पीएम तक थी पर हम सभी उन्हें उनकी बनाई दो फिल्में जाने भी दो यारो और कभी हाँ कभी ना के लिए हमेशा याद रखेंगे। ये दो फिल्में लंबे समय तक उनके नाम के साथ टिमटिमाएँगी। 1983 से लेकर 2014 के 31 साल के फिल्मी करियर में उन्होंने केवल आठ फिल्में और तीन सीरियल बनाये। विधु विनोद चोपड़ा की निर्देशक के रूप में बनी पहली फिल्म खामोश की स्क्रिप्ट लिखी और दूरदर्शन के लिए नुक्कड़, ये जो है जिन्दगी और वागले की दुनिया जैसे लाजवाब सीरियल बनाये। जाने भी दो यारो के बाद टीवी के सक्रिय रहे और फिर 1993 में कभी हाँ कभी ना के साथ फिल्मो में वापसी की। इसके बाद के कुंदन शाह को न जाने तो ही बेहतर। इसके बाद आई उनकी फिल्में क्या कहना, हम तो मोहब्बत करेगा, दिल है तुम्हारा, एक से बढ़कर एक जैसी फिल्मों को देख कर किसे यकीन होगा कि इसी निर्देशक ने 1983 के साल को क्रिकेट का विश्वविजेता बनने के अलावा इस वजह से भी याद करने का मौका दिया कि इस साल क्लासिक कल्ट जाने भी दो यारो रिलीज हुई थी। 
कुंदन शाह ने फिल्म इंस्टिट्यूट ऑफ फिल्म एंड टेलीविजन, पुणे से निर्देशन का कोर्स किया था और इस संस्थान से ये उनका प्रेम ही था कि विवादों से हमेशा दूर रहने वाले शाह ने इस संस्थान के छात्रों की हड़ताल को सप्पोर्ट करने के लिए जाने भी दो यारो के लिए मिले नेशनल अवार्ड को लौटाने की घोषणा की थी और अब उनके निधन पर ट्विटर के वीर लोगो द्वारा बेहद असंवेदनशील टिप्पणी की जा रही है और उसे बड़ी निर्ममता के साथ सोशल मीडिया पर साझा किया जा रहा है। हम बची खुची संवेदनाओं को भी खत्म करते जा रहे है। किसी की मृत्यु पर शोक व्यक्त करने की बजाय छीटाकशी होना बेहद शर्मनाक है। भक्ति और विरोध की आड़ में हम धीरे धीरे सभी शिष्टाचार, नैतिकता और तर्क को भूलते जा रहे है। कुंदन शाह और जाने भी दो यारों से जुडे लोग वो है जिन्होंने हमें आज तक हंसने और सोचने का मौका दिया है। इस फिल्म को बनाने में किसी बड़े निर्माता का हाथ नही था। एनएफडीसी के सहयोग से बनी इस फिल्म को बनाने में लगे सात लाख रुपये जुटाने में भी टीम को पसीना आ गया। सभी कलाकारों ने अपनी और से फिल्म को सहयोग दिया। फिल्म में फोटोग्राफर बने नसीर का कैमरा नसीर का ही था और शूटिंग के दौरान ही चोरी हो गया था। आज कौन यकीन करेगा कि इस फिल्म के लिए नसीर को केवल पंद्रह हजार रुपये मिले। जब नसीर को पंद्रह हजार ही मिले तो पंकज कपूर, रवि वासवानी, ओम पुरी, सतीश शाह को कितने कम पैसे मिले होंगे, अंदाजा लगाना आसान है। इस फिल्म को थिएटर की मशहूर सख्शियत रंजीत कपूर ने अभिनेता सतीश कौशिक के साथ मिलकर लिखा था। जब रंजीत कपूर ने सतीश कौशिक को इस फिल्म में अपने साथ लिखने को कहा तो सतीश कौशिक का कहना था कि उन्होंने अपने जीवन में चैक साइन करने के अलावा कभी कुछ नही लिखा पर रंजीत कपूर को उसके ऊपर विश्वास था। रंजीत कपूर ने अपने मिले छह हजार रुपये में से सतीश को लिखने के तीन हजार दिए और इस तरह अभिनय के दो हजार मिलाकर कुल पांच हजार रुपये उसे मिले। कुछ इसी तरह की आपसी सहूलियत से फिल्म बनकर तैयार हुई। फिर आया प्रीमियर का दिन। कुंदन शाह ने फिल्म के प्रीमियम के फ्री पास किसी भी कलाकार को नही दिए माने हर अभिनेता और तकनीशियन को अपनी ही फिल्म को देखने के लिए टिकट खरीदनी पड़ी। प्रीमियर के बाद कोई पार्टी नही हुई, जैसा कि आम तौर पर होता है। सब खाना खाने अपने अपने घर को ही गए। सतीश कौशिक बताते है कि वो उस रात स्टेशन के पास एक छोटे से ढाबे में गए और कहते भी है कि उस रोटी जैसा स्वाद उन्हें फिर न आया। रंगमंच और रंगकर्म संस्कारित करता है। ऐसे उदाहरण आदमी की गहराई को बताता है। इस गहराई और कमिटमेंट को फिल्म देखते हुए हम महसूस कर सकते है। ये फिल्म यारी दोस्ती में बनी थी। एक दूसरे को उत्साहित करते हुए बनी थी। नसीर और रवि के किरदारों के नाम तक फिल्म के दो सहायक निर्देशक विधु विनोद चौपडा और सुधीर मिश्रा के नाम से विनोद-सुधीर रखे गए थे। आज इस गुणी टीम का कप्तान भी चला गया है। ओमपुरी और रवि वासवानी पहले ही जा चुके है। इन सभी बड़े शहरी से दिखने वाले लोगो में अभी भी कस्बा जिन्दा है। ये कस्बाई जमीन के लोग इस एक एक करके हो रहे बिछोह को किस तरह देखते होंगे। संघर्ष के दिन और उन दिनों के साथी हमें बेहद अजीज होते है और
विदा तो हमेशा से दुखदाई होती है। हर विदाई व्यक्तिगत आख्यानो की अनुगूंज से भरी होती हैं।
Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News