Menu

गुरु मंत्र (गौरव बिस्सा) (86)

असंभव कुछ नहीं

एक विद्यार्थी देर से कक्षा में आया। उसने देखा कि बोर्ड पर दो सवाल लिखे हुए हैं। उसे लगा यही गृह कार्य होगा। उसने सवालों को नोट किया। घर जाकर उसने सवाल हल करना प्रारम्भ किया लेकिन सवाल बड़े ही कठिन और जटिल थे। पूरी रात लगा रहा तब जाकर सवाल हल हुए। अगले दिन गुरूजी को अपनी उत्तर पुस्तिका दी। गुरूजी ने अनमने ढंग से उसकी नोटबुक रख ली। उसे लगा कि इतने मेहनत से उसने गृह कार्य किया और गुरूजी ने शाबासी भी नहीं दी। यहां बात ये है कि वे दो सवाल गृह कार्य हेतु दिये ही नहीं गये थे। दो दिन बाद उस छात्र के घर पर अचानक खुशी से आल्हादित गुरूजी पहुंचे। उन्होंने छात्र का धन्यवाद देकर कहा कि उस छात्र ने उन दो सवालों को हल कर डाला है जिन्हें सांख्यिकी में हल करना असम्भव माना जाता रहा है। गुरूजी ने कहा कि वे तो इसी पर शोध भी कर रहे थे कि इसका हल कैसे निकाला जाये? असंभव को संभव बनाने वाले छात्र का नाम था - जॉर्ज डेंटजिग।

यहां समझने की बात यही है कि वह छात्र यह जानता ही नहीं था कि ये दोनों विश्वस्तरीय सवाल हैं जिनका हल आज तक कोई नहीं निकाल सका था। इससे सिद्ध होता है कि जब आप यह सोच लेते हैं कि अमुक कार्य तो मुश्किलए कठिन या नामुमकिन है, उसी क्षण वो कार्य वाकई नामुमकिन हो जाता है। यह सिर्फ सोच पर निर्भर करता है कि क्या मुमकिन है और क्या नामुमकिन? सच तो ये है कि नामुमकिन कुछ है ही नहीं। इससे यह भी सिद्ध होता है कि बाहरी परिस्थितियांए अन्यजनों के नकारात्मक कमेंट्स और भयभीत करने वाले स्नेहीजनों के कारण ही आप असंभव को संभव बनाने का प्रयास नहीं करते हैं। जैसे ही आपसे कोई कह देता है कि अमुक कार्य में बहुत कष्ट और समस्याएं हैं और यह कार्य तो लगभग असंभव है उसी पल आप उस कार्य को त्याग देते हैं।
विद्यार्थियों के तनाव का भी वास्तविक कारण यही है। किसी मनचले ने कह दिया कि-सिम्पल हारमोनिक मोशन तो मुश्किल है, आयनिक एक्विलिब्रियम के न्यूमेरिकल कठिन हैं या श्रोंडीजर वेव समीकरण तो टेढ़ा है। उसी पल विद्यार्थी यह मान लेता है और दिमाग में एक सोच निर्मित कर लेता है कि ये तो कठिन हैं। अब वो चाह कर भी उन्हें समझ नहीं पाता। पूर्वाग्रहों से बचें। अपनी अक्ल लगायें। दूसरों की बातों को सुनने के बजाय अपने मस्तिष्क का प्रयोग करना ही सफलता के शिखर पर ले जायेगा। यही सेल्फ मैनेजमेंट का शाश्वत सत्य है।

Read more...

बिजनेस में माइंड लड़ाने वाले पढ़ें यह किस्सा

'फ्री है क्या?'

एक राजा ने मंत्रियों को यह लक्ष्य दिया कि वे सभी किसी भी तरीके से प्रजाजनों की बौद्धिक क्षमता का विकास करें। मंत्रियों ने तुरंत एक हजार पुस्तकें खरीदी और प्रजा को उन पुस्तकों को पड़ाने की बात कही। राजा ने कहा कि इसमें बहुत समय लगेगा। मंत्रियों ने उन हजार पुस्तकों में से सौ पुस्तकें छांट ली। राजा ने कहा कि यह भी बहुत मुश्किल है क्योंकि प्रत्येक प्रजाजन को सौ पुस्तकें पढ़ाना मुश्किल है। मंत्रियों से संख्या घटा कर दस कर दी। राजा संतुष्ट नहीं हुआ। अब मंत्रियों ने एक पुस्ता ले ली। राजा अब भी असंतुष्ट था। इसके पश्चात मंत्रियों ने सिर्फ एक वाक्य समस्त प्रजाजनों को सिखाने का लक्ष्य ले लिया। राजा संतुष्ट हो गया। वो एक वाक्य था - "संसार में मुफ्त कुछ भी नहीं मिलता, उसकी कीमत चुकानी ही होती है"। 

यह सांकेतिक कथा बड़ा ही गूढ़ सन्देश सिखाती है। संसार में कुछ भी फ्री नहीं होता है। प्रत्येक वस्तु/सेवा का मूल्य चुकाना होता है। प्रत्येक वस्तु/ सेवा या सुख को प्राप्त करने हेतु कठोर परिश्रम, समर्पण और ईमानदारी की आवश्यकता होती है। मुफ्त में कुछ प्राप्त हो जाये की बात सोचना ही मूर्खता है। मनुष्य वो प्रत्येक वस्तु प्राप्त कर सकता है जिसका मूल्य वो चुका सकता हो।
* यदि आपको प्रशासनिक अधिकारी बनना है तो उसका मूल्य है लोकप्रिय होने की बजाय प्रभावी होने की चाहत, उत्तम निर्णय क्षमता और वस्तुनिष्ठ सोच।
* यदि आप चिकित्सक बनना चाहते हैं तो उसका मूल्य है नित्य 14 से 16 घंटे अध्ययन, निस्वार्थ सेवा का भाव और दूसरों की पीड़ा समझने की शक्ति।
आप और हम सिर्फ यह वाक्य समझ लेवें कि "मुफ्त कुछ नहीं है" तो उसी क्षण आपकी बुद्धि का विकास हो जाता है। परिश्रम का कोई विकल्प नहीं होता। मुफ्तखोरी अपराध है, कलंक है। याद रखें कि मुफ्त का माल सबसे महंगा होता है। यहां मन्त्र यही है कि कठोर परिश्रम और कार्य के प्रति आपके जुनून से ही सारे कार्य सिद्ध होते हैं। यही शाश्वत सत्य है।

Read more...

'इंट्रोस्पेक्शन'

एक बड़े संत थे। बुजुर्ग हो गये थे। एक दिन उन्होंने सभी शिष्यों की परीक्षा लेकर यह तय करने का सोचा कि उनके पश्चात गुरु की पदवी पर कौन बैठे? संत ने सभी शिष्यों को बुलाकर प्रश्न पत्र दिया। प्रश्न पत्र में एक ही प्रश्न था। वो प्रश्न था कि गुरु की पदवी के लिये कौन सबसे योग्य है? इसके उत्तर में अधिकतर शिष्यों ने सबसे ऊपर स्वयं का नाम लिखा और उसके बाद दो तीन नाम और लिखे। जब संत ने ऐसे उत्तरों का कारण पूछा तो शिष्यों ने दूसरे शिष्यों के दोष गिनवा दिये। इसका अर्थ था कि वे सैकड़ों शिष्यों में सिर्फ दोष देखते थे और उनकी नजर में सिर्फ दो या तीन शिष्य ही गुरु की पदवी के लायक थे। एक शिष्य जिसे गुरु की पदवी मिली उसने बड़ा विचित्र उत्तर लिखा। उसने लिखा कि उसके अलावा सभी इस गुरु की पदवी को धारण कर सकते हैं क्योंकि उसमे कई सारे दोष हैं और बाकी सब श्रेष्ठ हैं। गुरूजी ने कहा कि जो अपने दोष देख सकता है, वही गुरु बन सकता है।

यह कथा एक श्रेष्ठ पाठ पढ़ाती है। जो भी स्वयं के दोषों को देखता है, उनपर विचार करता है और उन दोषों को दूर करने का प्रयास करता है वही वास्तव में सर्वश्रेष्ठ भी होता है। माना कि आज के युग में सेल्फ मार्केटिंग जरूरी है लेकिन इसके लिये भी आवश्यक यह है कि आप स्वयं की शक्तियों का विस्तार करें। यदि आप दूसरों के दोषों को ही देखते रहेंगे तो फिर आप स्वयं श्रेष्ठ कैसे बन पायेंगे? दूसरों को कुपात्र ठहराने की बजाय स्वयं सुपात्र बनना ज्यादा अच्छा होता है। श्रेष्ठता की शुरुआत ही इंट्रोस्पेक्शन से होती है।
-जरा सोचिये कि क्या आप :
* स्वयं से वार्ता करते हैं?
* आप अपनी शक्तियों, कमजोरियों, अवसरों और समस्याओं का चार्ट सदा अपडेटेड रखते हैं?
* अंतर्मन के विचारों को सुनकर फैसले करते हैं?
* दूसरों को नीचा दिखाने के बजाय स्वयं को सुधारने का प्रयास करते हैं?
यदि इन सभी प्रश्नों का उत्तर ना है तो यकीन मानिये कि अभी तक आपने श्रेष्ठता की ओर यात्रा प्रारम्भ ही नहीं की है। यही आज की सबसे बड़ी समस्या है। अत: यहां मन्त्र यही है कि स्वयं के दोषों को समझें, उन्हें दूर करें, इंट्रोस्पेक्शन करें तथा अन्यों के दोष ढूंढने से पहले स्वयं के दोषों पर नजर डालें। यही सेल्फ मैनेजमेंट का मर्म है।

Read more...

'शक्तिशाली सकारात्मक सोच'

दो व्यक्ति भजन कर रहे थे। नारदजी वहां से निकले। दोनों ने एक-एक करके पूछा कि मोक्ष कब मिलेगा? पहले व्यक्ति से नारद जी ने कहा कि चार जन्म बाद मोक्ष प्राप्ति होगी। यह सुनते ही वो व्यक्ति जोरदार तरीके से विलाप करने लगा। उसने कहा कि इतना भजन करने के बाद भी चार जन्म? यह तो अनीति है। उसने भजन त्याग दिया और नकारात्मक सोच को अपने ऊपर हावी होने दिया। दूसरे को नारद जी ने कहा कि जितने पत्ते इस पीपल के पेड पर हैं उतने जन्मों के बाद मोक्ष मिलेगा। दूसरा भक्त बोल उठा कि 'वाह, इतनी जल्दी मोक्ष मिल जाएगा'। उसी क्षण ईश्वर ने भविष्यवाणी कर दूसरे भक्त से कहा कि 'तुम्हें तुरंत मोक्ष मिलेगा। तुम सकारात्मक सोच की परिसीमा हो।'
सकारात्मक सोच की शक्ति विचारों में नूतन उत्साह और चेतना जगा कर व्यक्ति को जीवन के संघर्षों से लडऩे की प्रेरणा देती है। व्यवहार विशेषज्ञों का मानना है कि माइक्रो अर्थात मानवीय गुण मैक्रो अर्थात किताबी (ज्ञान) के गुणों से अधिक महत्व रखते हैं। इन माइक्रो गुणों का सरताज है-सकारात्मक सोच जो व्यक्ति में कुछ कर गुजरने की असीम शक्ति प्रदान कर देता है।
जरा समझिए। हमारी सोच कैसी है? क्या हम किसी को खुश देखकर प्रसन्न होते हैं या दुखी देखकर घ् किसी व्यक्ति के पुरस्कृत होने पर उसे बधाई देने का साहस करते हैं या यह सोचते हैं कि यदि बधाई दी तो अन्यों को उसके श्रेष्ठ कार्य का पता चल जाएगा तो क्यों कुछ कहूं? क्या हम हमारे संगठन में मन से किसी व्यक्ति के नए विचार की तारीफ करते हैं या उसे जुगाडू कहकर दरकिनार कर देते हैं? कहीं हमारी सोच राक्षसी तो नहीं है कि हम दूसरों के प्रति इतनी नकारात्मक सोच रखें जैसा राक्षसों में होता है कि मेरी एक आंख भले ही फूट जाए पर दूसरे व्यक्ति की दोनों आंखे फूटनी चाहिए?
निकृष्टतम व्यक्ति में भी कुछ उत्कृष्ट गुण होते हैं। उन्हें स्वीकारें। सड़क पर दुर्घटना में मरे हुए कुत्ते को सभी घृणा से देखते हैं परन्तु एक बालक कहता है कि कुत्ते के दांत तो हीरे जैसे चमक रहे हैं। यही सकारात्मता की सीमा है। यहां मन्त्र यही है कि हम प्रत्येक व्यक्ति, घटना और स्थान में सकारात्मक बात ढूंढें। सदा मानें कि जो होता है, वो अच्छे के लिये होता है। यह सोच संतोष देती है और जीवन को चलायमान रखती है। यही सेल्फ मैनेजमेंट का शाश्वत सत्य है।

Read more...

'चेन्ज योरसेल्फ'

सड़क पर चलते समय कोई हमारे सामने थूक दे, बिना वजह होर्न बजाये, या ट्रेन-बस में बैठा यात्री सिगरेट पिए और गन्दगी करे तो यकायक हमारा खून गर्म हो जाता है और हृदय में दर्द होने लगता है। बहुत गुस्सा आता है? मन में आता है कि क्या ये लोग आदमी कहलाने लायक हैं? ऐसी बातों पर नाराजगी न जतायें। यही शपथ लेते जायें कि आप तो ऐसा कदापि नहीं करेंगे। जरा सोचिये कि -
* क्या आप समाज को पूर्ण रूप से परिवर्तित कर सकते हैं?
* क्या आप प्रत्येक व्यक्ति को नैतिकता का पाठ पड़ा सकते हैं?
* क्या आपको लगता है कि सिविक सेन्स का प्रशिक्षण दिया जा सकता है?
* क्या आपको लगता है कि आप एक ही दिन में राष्ट्र को स्वच्छ, समृद्ध और शक्तिशाली बना देंगे?
इन सभी प्रश्नों का उत्तर ना है। परिवर्तन होने में सदियों लग जाती हैं। परिवर्तन करने का सबसे अच्छा उपाय है स्वयं को बदलना। दूसरे व्यक्ति बदलेंगे, बॉस बदलेगा, संसार बदलेगा ये सभी निर्मूल अवधारणाएं मात्र हैं। कोई नहीं बदलेगा। सिर्फ हम बदलेंगे। अत: समाज को अच्छी दिशा में परिवर्तन करने का मूल मन्त्र है - 'चेंज योरसेल्फ'। स्वयं को बदलना श्रेष्ठता की दिशा में पहला कदम है। एक अकेले की शक्ति भी बहुत होती है। स्वाधीनता संग्राम के नायक सावरकर, बाल गंगाधर तिलक, बिरसा मुंडा, मंगल पांडे ने अकेले ही क्रांति का अलख जगाया थाण् अत: आज से 'सेल्फ चेंज या सेल्फ ट्रांस्फोर्मेशन' की शपथ लेवें। बड़े-बड़े व्रत न लेवें। उन्हें निभाना मुश्किल है। अणुव्रत अर्थात छोटे-छोटे व्रत लेवें। उन्हें निभावें। इससे अन्यों को भी प्रेरणा मिलेगी। छोटे व्रत जैसे पब्लिक प्लेस पर गंदगी नहीं फैलाना, कचरा डस्टबिन में ही डालना, मूल्यों का त्याग न करना आदि।
इसी का एक जीता जागता उदाहरण बीकानेर शहर के पुष्करणा वेलफेयर बोर्ड ने दिया। एक विवाह समारोह में उन्होंने काउन्टर लगाकर लिखा कि जूठन छोडऩा बहुत गलत है। यदि जूठा छूट भी जाये तो उस मिठाई को उन्हें काउन्टर पर सौंप देवें ताकि उसे भी किसी उपयोग में लिया जा सके। इसका परिणाम यह हुआ कि लोगों ने जूठन नहीं छोड़ी। पूर्व में जहां कई किलोग्राम भोजन का नाश होता था, पुष्करणा वेलफेयर बोर्ड के इस छोटे से प्रयास का परिणाम ये हुआ कि दो किलोग्राम जितनी जूठन भी नहीं बची। यही है परिवर्तन का मार्ग। इसी को सेल्फ चेंज कह सकते हैं।
यहां मन्त्र यही है कि हम स्वयं अपने कर्तव्य को श्रेष्ठ ढंग सेए ईमानदारी से निभाएं और दूसरों के बदलने की आस किये बिना नित्य प्रति अपना कार्य-व्यवहार सुधारें तो संगठन और समाज अवश्य ही बदलेगाय यही प्रबंध का मर्म है।

Read more...

'जे फेक्टर'

मैनेजमेंट में एक बड़ा ही प्रचलित मुहावरा है - 'जे फेक्टर' जहां जे का अर्थ है जैलौसी अर्थात ईष्र्या। व्यक्तिस्वयं सुखी होने के स्थान पर अन्यों की प्रसन्नता पर दुखी है और यही 'जे फेक्टर' कहलाता है जो हमें सुखीराम की जगह दुखीराम बना देता है। दुखीराम का आदर्श वाक्य है कि मेरी एक आंख भले ही फूट जाये पर दूसरे के दोनों आंखें फूटनी चाहिए। पराई थाली में ज्यादा घी नजर आना ही ईष्र्या की प्रथम अभिव्यक्ति है। तुलना करना, हर बात में छोटे बच्चों की तरह काम के भार को तौलना और तनिक भी समझौता नहीं करने की प्रवृत्ति बिना वजह की ईष्र्या को जन्म देती है।
दो महान प्रोफेसर्स एक परिचित के यहां अतिथि के रूप में गये। जब पहले प्रोफेसर स्नान के लिए गये तो उस घर के मालिक ने दूसरे प्रोफेसर से पहले प्रोफेसर के बारे में पूछा। दूसरे प्रोफेसर ने कहा कि पहला वाला प्रोफेसर तो बिलकुल ही गधा है। रिसर्च और डेवेलोपमेंट में बिलकुल ही बेकार है। जब दूसरा प्रोफेसर स्नान के लिए गया तो पहले प्रोफेसर ने गृह स्वामी से कहा कि पहला प्रोफेसर तो बिलकुल बैल है और बिलकुल ही अडिय़ल मूर्ख है। दो अति बुद्धिमान विद्वानों की ईष्र्या को मिटाने के लिए गृह स्वामी ने एक तरकीब लगाई। ज्यों ही दोनों प्रोफेसर भोजन के लिए बैठे तो उसने एक की थाली में भूसा और दूसरे की थाली में घास रख दी। तदुपरांत उनसे कहा कि गधे और बैल का भोजन प्रस्तुत है। इस जे फेक्टर की वजह से दोनों प्रोफेसर अत्यधिक शर्मिंदा हुए।
निंदा और ईष्र्या का भाव अमानवीयता का प्रतीक है। तुलना, निन्दा, हर छोटी बात पर बेवजह का क्रोध व्यक्तित्व का नाश कर देता है। ईष्या अकरने से आपके जीवन का दायरा छोटा हो जाता है जिस कारण सोच भी छोटी हो जाती है। इससे बचिये। याद रहे, भगवान सभी को एक दिन में चौबीस घंटे का समय देता है। यदि उन चौबीस घंटों में कोई व्यक्तिआपसे ज्यादा अच्छा और उत्पादक कार्य कर रहा है तो इसमें प्रेरणा लेवें और ईष्र्या नहीं करें। जे फेक्टर का त्याग ही हमें मनुष्यत्व की ओर ले जाता है।

Read more...

'सभी आपस में जुड़े हैं'

एक दीपक जल रहा था। वायु के वेग से लौ फडफ़ड़ा रही थी। इसे देख अहंकारवश घी बोल पड़ा कि दीपक का वजूद तो घी से है क्योंकि उसके बिना लौ जल ही नहीं सकती। यह सुनते ही दीपक बोला कि उसी ने घी को आश्रय दिया है अत: उसके बिना सब व्यर्थ है। इसी प्रकार लौ ने कहा कि जलती तो वो ही है अत: उसी का योगदान सर्वश्रेष्ठ है। तभी हवा का तेज झोंका आया और लौ बुझ गई। लौ के बुझने से अन्धेरा हो गया। तभी अंधेरे के कारण गलती से एक राहगीर का पैर दीपक पर पड़ा और दीपक चकनाचूर हो गया। अब इस प्रसंग को ऑफिस मैनेजमेंट से जोड़ के देखिये। यह प्रसंग कुछ मैनेजमेंट के तत्त्व समझाता है -
- सभी कर्मचारी एक दूसरे पर निर्भर हैं। कुछ लोगों पर ज़्यादा निर्भरता है तो कुछ पर कम लेकिन निर्भरता सभी पर है। यहाँ यह समझना अत्यावश्यक है कि सभी एक दूजे के सहयोग से ही संस्थान को चलाते हैं।
- यदि किसी भी कर्मचारी को यह अहंकार हो जाये कि संस्थान तो उसी के दम पर चल रहा है तो यह सोच गलत है। प्रत्येक कर्मचारी अपनी एक अलग पहचान रखता है। इस पहचान को सदा अन्यों के समक्ष रेखांकित करना कदापि न भूलें।
- पहचान बोध अर्थात स्वयं को उपयोगी मानने का भाव तो उत्कृष्ट है लेकिन अहंकार के लिये कोई स्थान नहीं होना चाहिये।
- हम सभी समाज में आपस में जुड़े हुए हैं। हम ये नहीं कह सकते कि कौन बड़ा है और कौन छोटा। प्रत्येक व्यक्ति समाज में अपना स्था रखता है। कोई भी छोटा बड़ा नहीं होता। यह समझना ही वास्तव में व्यक्त्तित्व का विकास है। यह कदापि न सोचें कि दूसरा व्यक्ति आपके कारण जी रहा है या उसका वजूद आपसे है। आपको सदा यह सोचना चाहिए कि अन्यों के कारण ही आपका वजूद है। एकाकी एप्रोच के स्थान पर टीम एप्रोच का होना ही प्रशासन में सफलता दिलाता है। यही मैनेजमेंट का उसूल है।

Read more...

'संतुलन ही जीवन'

एक युवक अत्यंत ही कम समय में अत्यधिक प्राप्त कर लेना चाहता था। शास्त्र तो 'ऋतु आये फल होयÓ के सिद्धांत को मानता है लेकिन युवक का स्वप्न कुछ और था। अत: एक दिन वो गाँव के सिद्ध महात्मा जी के पास गया और उनसे दीक्षा ग्रहण की ताकि वो जो चाहे वही हो जाये। स्वामी जी ने युवक को दो सिक्के दिये और कहा कि इन्हें बारी-बारी से गिराये। उसकी मनोकामना पूर्ण होगी। युवक ने एक सिक्का गिराया। सिक्का गिरते ही एक रथ प्रकट हुआ। युवक रथ पर चढ़ गया। रथ वायु की गति से चलने लगा। दिशाहीन, तेज, ज़बरदस्त गति। रथ में स्पीड नियंत्रण हेतु कोई स्टीयरिंग आदि नहीं था। रथ ने तीन बार दुनिया नाप ली। युवक घबराया और उसने रोको का स्विच दबाकर रथ रोका। अब युवक ने दूसरा सिक्का गिराया। वापिस एक रथ प्रकट हुआ। युवक ने जब उसकी सवारी की तो उसने पाया कि वो रथ एक जगह पर स्थिर है लेकिन बाकी सभी वस्तुएं ज़बरदस्त ढंग से घूमे जा रही है। युवक को चक्कर आ गया। उसने रथ रोक लिया और समस्या समाधान हेतु स्वामी जी के पास पहुंचा। स्वामी जी ने बताया कि इन दोनों रथों से हमें जीवन प्रबंध की शिक्षा मिलती है। पहले रथ का नाम है 'तेजतर्रार गतिमान क्रियाशील रथ"। हम में से कई युवा इस रथ पर सवार हो कर तेज गति को ही प्रगति समझ लेते हैं। असल में वो दिशाहीन, व्यर्थ की दौड़ होती है। ऐसी सवारी के समाप्त होने पर लगता है कि भले ही पूरी दुनिया नाप ली लेकिन वास्तविक श्रेष्ठ कार्य तो किया ही नहीं। रथ बहुत घूमा। लेकिन इससे लाभ किसका हुआ? किसी का नहीं। इससे अच्छा होता कि एक लक्ष्य होता, उसकी यात्रा होती और लक्ष्य को प्राप्त करने पर प्रसन्नता भी मिलती। आज का समाज बस पैसा, सुख, सुविधा, लक्जरी, नौकर चाकर की अंधी दौड़ में दिशाहीन घूम रहा है और अन्ततोगत्वा परेशान हो रहा है। दूसरे रथ का नाम है 'विश्लेष्णात्मक क्रियाहीन आलसी नाकारा रथÓ। ऐसे रथों के सवार गिरने के भय, समाज क्या कहेगा के भय के चलते यात्रा ही प्रारम्भ नहीं करते और विश्लेषण पे विश्लेषण करते रहते हैं। इन्हें सफलता कदापि नहीं मिल सकती क्योंकि ये अकर्मण्यता की पराकाष्ठा हैं। यहां मन्त्र यही - दोनों ही घटिया प्रवृत्तियां हैं अत: हमें एक बैलेंस बनाकर चलना चाहिये। न तो संसाधनों के प्रति दीवानगी रखें और ना ही इतने नाकारा हो जायें कि संसाधनों की कमी में जीना दुश्वार हो जाये। संतुलन बनाना ही जीवन 

प्रबंध है।

Read more...

'कार्यस्थल राजनीति का अखाड़ा नहीं'

 

संगठन कार्य करने की जगह है, राजनीति का अखाड़ा नहीं। आपकी पूछ काम से होती है। यदि आप राजनीति करते हैं तो लोग आपसे डरते हैं और इसी कारण आपको सम्मानित करते हैं। भय को सम्मान न समझें। कार्यस्थल पर राजनीति करके संगठन को तबाह करने वाले लोगों के कुछ गुण/दुर्गुण निम्नलिखित हैं।
कृपा कर इनसे दूर रहें -
* अन्यों को काम करने दें और उनके काम में सहयोग नहीं करें। फिर यह कहें कि हमारी तो कोई सुनता ही नहीं और किसी को हमारी जरूरत नहीं है।
* किसी मीटिंग, कोर्स, महत्वपूर्ण एकत्रीकरण में नहीं जाएं। फिर सुझाव देवें कि यदि ऐसा होता तो ठीक रहता।
* यदि आपको कोई महत्वपूर्ण काम बताया जाये तो उसे कई दिन तक ना करें। यदि वो काम बॉस किसी अन्य से करा लेवे तो बॉस को तानाशाह कहकर अन्यों से कहें कि संस्थान में कार्य करना दूभर है। यहां डेमोक्रेसी नहीं है।
* मीटिंग में यदि जाना ही पड़े तो जानते समझते हुए भी कोई नया विचार, अच्छी बात ना कहें। औरों द्वारा दिए गए विचारों का घृणित पोस्टमार्टम करें क्योंकि आप ये जानते हैं कि कोई विचार अपने आप में सम्पूर्ण नहीं होता और हर सिक्के के दो पहलू होते हैं। इस अवस्था में छिद्रान्वेषण करते चले जायें।
* ईमेल, पत्र, नोटिस इत्यादि ना पड़ें। यदि कोई सूचना पत्र लाया हो तो उसपर अपने हस्ताक्षर ना करें और फिर कहें कि यहाँ तो सूचना ही नहीं मिलती।
* संगठन के बारे में बाहर तो नकारात्मक बात फैलाएं और भीतर सर्वोच्च बॉस के आगे यह जताएं कि हमसे बड़ा संगठन भक्त यदा कदा ही जन्म लेता है।
यदि इतने घृणित कार्य करने के बावजूद भी संगठन बढिय़ा चल निकले तो तुरंत ही स्वयं को अति सीनियर जताकर समूचा श्रेय ले लेवें कि आज जो श्रेष्ठता देख रहे हो वो हमारी दिव्य तपस्या का फल है। राजनीति करने वालों से लोग डरते हैं। उन्हें दूर से नमस्ते करते हैं। कार्य करें, ओछी राजनीति से दूर रहें।
यहां मन्त्र यही है कि संगठन में राजनीति कर के आप कुछ क्षणों के लिये तो ऊपरी पायदान पर चढ़ सकते हैं लेकिन जिस ऊंचाई पर आप विराजित होते हैं, वह बड़ी चिकनी और तीक्ष्ण होती है। वहां जितना आसान चढ़ जाना है, फिसल जाना और भी आसान है। यही कॉर्पोरेट सत्य है।

Read more...

'बनें जगत के अतुल विजेता'

आल्प्स यूरोप की सबसे बड़ी पर्वत श्रृंखला है। रूस के विरुद्ध युद्ध छिड़ जाने पर नेपोलियन की सेना के लिये सबसे बड़ी चुनौती आल्प्स को पार करना ही थी। नेपोलियन ने इस समस्या को ताड़ लिया। आगे बढ़ती सेना को नेपोलियन ने कहा कि यहाँ कोई आल्प्स नहीं है और दिखने वाली पहाडी एक लघु पर्वत है। आल्प्स तो काफी बड़ा है। सत्य बात यह है कि ऐसा सुनकर सेना आल्प्स को पार कर गई। दुनिया के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ। यही है आत्मविश्वास। स्वयं पर, स्वयं की काबिलियत पर विश्वास। इसे स्ट्रांग डिजायर या विल पॉवर या सेल्फ एस्टीम आदि भी कहा जाता है। यह आत्मविश्वास ही सफलता का मर्म है। केवल आत्मविश्वास के सहारे एक विकलांग व्यक्ति इंग्लिश चैनल पार कर लेता है। नैतिक मूल्यों से जन्मे इसी आत्मविश्वास के सहारे एक साधारण दिखने वाला संत- महात्मा गाँधी - भारत देश को अंग्रेजों से आज़ाद करा देता है। इसी आत्मविश्वास के दम पर अपने दोनों पैरों के कट जाने के बावजूद बैसाखियों के दम पर वॉरेन मेक्डोनाल्ड नामक व्यक्ति अफ्रीका की सबसे ऊंची छोटी किलिमान्जारो पर फतह हासिल कर लेता है। संसार में आत्मविश्वास और अंतर्मन की शक्ति से बड़ा कुछ भी नहीं है। हमारी नकारात्मक सोच हमारे आत्मविश्वास को कम कर देती है। नकारात्मक सोच और हर बात में रोने की नकारात्मक प्रवृत्ति ही वास्तविक नरक है। यहाँ यह समझना चाहिये कि जब भी हम नकारात्मक बात करते हैं, नकारात्मक सोचते हैं तो हम नरक की ओर यात्रा कर रहे होते हैं। ऐसी अवस्था में हमें सकारात्मक सोच के साथ, ईश्वर में विश्वास रखकर, प्रत्येक कार्य में जीवटता से जुट जाना चाहिये। यही तो जीवन है। 

'मुश्किलें हैं मुश्किलों से घबराना क्या दोस्त, दीवारों में ही तो दरवाज़े निकाले जाते हैंÓ।
आत्मविश्वास को बढाने के लिए सर्वप्रथम खुद के जीवन की एक 'विजेता पुस्तिकाÓ बनाइये। इसमें आप अपनी प्रत्येक जीत, उपलब्धि, पुरस्कार को लिखिये। यह जोश वर्धक टॉनिक का काम करेगी और आपको निराश होकर निकृष्ट नरक में जाने से रोकेगी। स्वयं को कमज़ोर, निर्बल, नाकारा समझना ईश्वरीय कृति का अर्थात स्वयं का भारी अपमान है। ऐसा न करें। आप जैसे हैं, अच्छे हैं। यह भाव भी संबल देता है।

Read more...
Subscribe to this RSS feed

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News