Menu

'साध्य और साधन' Featured

एक गांव के आठ साधु नदी पार करने के लिए नाव पर चढ़े। नदी के उस पार देवालय था जहां उन सभी को पूजन करना था। कुछ देर बाद वे दूसरी ओर पहुंच गये। नाव से उतरकर उन्होंने तय किया कि नाव ने नदी पार करवाकर उन सभी पर अहसान किया है। अत: उन्हें इस अहसान का आभार जताना चाहिये। उन्होंने कृतज्ञता ज्ञापन का एक अद्भुत तरीका खोज निकाला। उन्होंने कहा कि उचित यही होगा कि जिस नाव पर वे सवार थे, अब वह नाव उन सभी पर सवार हो जाये। सो उन आठों साधुओं ने नाव को अपने सिर पर उठा लिया और चल दिये। वे बाजारों, गलियों आदि में घूमे। जनमानस ने उन्हें मूर्ख की उपाधि दे दी। उन साधुओं ने जनमानस को मूर्ख बताते हुए कहा कि सभी जन कृतघ्न हैं और उपकार के बदले आभार जताने का महत्त्व ही नहीं समझते हैं। 

यह सांकेतिक कथा है। यहां नाव एक साधन है, नदी को पार करने का। नाव का तो निर्माण ही नदी पार करवाने के लिये हुआ है। उसे अपने सिर पर उठाकर घूमने का क्या लाभ? इसका अर्थ है कि हम साधनों के प्रति अपनी दीवानगी इस कदर बढ़ा चुके हैं कि हमें साध्य यानि वास्तविक लक्ष्य पर पहुँचने का तो भान ही नहीं रहता। यहां साधुओं के लिये साध्य यानि लक्ष्य था देवालय पहुंचकर पूजन करना। वे इसी साध्य को भुला बैठे और साधनों को ही साध्य समझने की भूल कर बैठे।
आपकी और हमारी भी गत कुछ इस प्रकार की ही है। मकान, पैसा, गाड़ी, कम्प्यूटर, फिक्स डिपोजिट आदि साधन है। इनसे जीवन सुखमय बनता है। लेकिन क्या इन्हें प्राप्त कर लेना ही जीवन है? मकान, पैसे, गाड़ी आदि को लेकर हमारी दीवानगी इस स्तर की है कि यदि हमारे घर के आगे कोई अनजान व्यक्ति कुछ क्षणों के लिये गाड़ी पार्क कर देवे तो भी हम असहज हो जाते हैं। जीवन का वास्तविक लक्ष्य संसाधनों का भंडारण नहीं है। जीवन का लक्ष्य संसाधनों को ढ़ोना भी नहीं है। वर्तमान में हम संसाधनों को ढ़ो रहे हैं। जीवन का लक्ष्य है सुविधाओं का त्यागपूर्वक उपभोग। सुविधाओं का प्रयोग अवश्य करें लेकिन निर्लिप्त भाव के साथ। संसाधन आज मेरे हैं लेकिन कल मेरे नहीं रहेंगे : यही भाव प्रेरणा देता है। 'तेन तक्तेन भुंजीथाÓ भी यही है। यहां मन्त्र यही है कि सुविधाओं और संसाधनों के भंडारण के स्थान पर लक्ष्य अर्थात मानव कल्याण की बात सोचना और उसकी क्रियान्विति करना ही जीवन का लक्ष्य होना चाहिये।

DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News