Menu

top banner

आओ जन्मदिन मनाते हैं? Featured

जन्मदिन के बहाने ही सही, बीकानेर में राजनीति का पैंतरा हर कोई चलाने के लिए तैयार है। पिछले एक महीने में जन्मदिन पॉलिटिक्स इतनी दमदार रही है कि हर किसी ने अपने जन्म को और अपने नेता के जन्म को उत्सव का रूप दे दिया। प्रधानमंत्री का जन्मदिन तो सर्वमान्य तरीके से मनाया गया लेकिन इसके बाद जो जन्मदिन आए वो राजनीति से पूरी तरह प्रेरित थे। राजनीति भी अंदरुनी। एक विधायक का जन्मदिन आया तो सिर्फ उनके क्षेत्र में कुछ हॉर्डिंग्स लगा दिए गए। एक टिकट दावेदार का जन्म दिन आया तो उन्होंने ‘जीमण’ कर दिया। शहर कांग्रेस अध्यक्ष का जन्मदिन आया तो शक्ति प्रदर्शन किया गया। एक नेताजी जन्मदिन मनाने मूक बधिर विद्यालय पहुंच गए। मजे की बात यह है कि एक नेता के जन्मदिन से दूसरा नेता प्रभावित हुआ तो उन्होंने भगवान का नाम लेकर ऐसे ही आयोजन कर दिया। राजनीति में अवसर ही सबसे बड़ी चीज है। ‘मौके पर चौके’ की जरूरत होती है। अब जब चुनावी सीजन शुरू होने वाला है, ऐसे में जन्मदिन ही सबसे बड़ा मौका है। पिछले दिनों जन्मदिन मनाने वालों में अधिकांश को विधानसभा में टिकट की जरूरत है तो कुछ अपनी ही पार्टी में पद की दरकार है। ‘बर्थ डे पोलिटिक्स’ गलत नहीं है, जरूरत सिर्फ इतनी सी है कि बधाई दें तो दिल से दें। आगे तारीफ और पीछे से छुरा चलाने वालों से सावधान रहने की जरूरत है। मेरा इशारा किसी की तरफ नहीं है, इसलिए ज्यादा दिमाग ना लगाएं, दिल से बधाई देने तक ही सीमित रहें।

इसका श्रेय कौन लेगा?
पिछले दिनों दिल्ली विमान सेवा शुरू हुई तो एयरपोर्ट पर श्रेय लेने वालों की होड मच गई। ‘जिंदाबाद-मुर्दाबाद’ के नारे लगे, केंद्रीय मंत्री को अपमानित होकर वापस लौटना पड़ा। इसके विपरीत अब सुनने में आ रहा है कि बीकानेर से जयपुर के बीच चल रही विमान सेवा दम तोडऩे के कगार पर है। अगर यह सेवा भी बंद हो जाए तो नेता जी श्रेय लेने के लिए तैयार रहें। अब इसमें ऐसा नहीं हो कि फ्लाइट जयपुर की है तो जयपुर वाले नेता का दोष और दिल्ली की है तो दिल्ली वाले नेताजी को श्रेय। देखते हैं इसका श्रेय लेने कौन आगे आएगा?
युवा भाजपा में भी आडवाणी?
भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चे की कार्यकारिणी पिछले दिनों घोषित हुई। एक भाई ने सोशल मीडिया पर लिखा कि युवा भाजपा में भी आडवाणी है। बात बहुत साधारण तरीके से कही गई लेकिन तीर बहुत निशाने पर जाकर लगा है। समझना होगा कि युवा नेतृत्व को साथ लेकर पार्टी नहीं चलेगी तो नींव हिल सकती है। फिर वो युवा जो अंग-अंग में पार्टी को रचा बसा चुका है, उसे ही हतोत्साहित किया तो नए लोग क्यों जुड़ेंगे?

अच्छा लगा नेताजी?
पिछले दिनों एक युवा नेता ने फिर से प्रभावित किया। पार्टी की नीति और रीति अपनी जगह है और मित्रवत रिश्ते और शिष्टता अपनी जगह। आज के दौर में जब नेता एक दूसरे के लिए अपशब्द बोल रहे हैं, सोशल मीडिया पर अशिष्ट भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं, ऐसे में भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह शेखावत ने पिछले दिनों अस्वस्थ चल रहे कांग्रेस नेता गुलाब गहलोत के घर पूरे लवाजमे के साथ पहुंचे। भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक सैनी भी उनके आवास पर गए। राजनीति का ऐसा स्तर तो प्रभावित करता है, अच्छा लगा नेताजी।
वो क्या कहते हैं....? हां.... किप इट अप।

DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News