Menu

top banner

डॉ. विश्वनाथ मौन क्यों है..? Featured

अनुराग हर्ष। एक बार फिर प्रदेश के सभी चिकित्सक हड़ताल पर है। हड़ताल भी ऐसी है कि चिकित्सक और सरकार जैसे आपस में युद्ध लड़ रहे हैं। ऐसे में बीकानेर के एक डॉक्टर साब की भूमिका महत्वपूर्ण हो सकती है लेकिन वो खुद ही ज्यादा रुचि नहीं ले रहे या सरकार उनका उपयोग नहीं कर रही। खाजूवाला विधानसभा क्षेत्र से विधायक और संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल सरकार के प्रतिनिधि है। पिछले दिनों हड़ताल से हालात ज्यादा बिगड़े तो डॉक्टरों से मेल मुलाकात कर मामले को निपटाने के बजाय स्वयं ही अस्पताल में जाकर मरीजो को देखने लगे। मरीजों को देखने के बाद दवा खुद नहीं लिख रहे थे बल्कि किसी साथ खड़े व्यक्ति से लिखवा रहे थे। मजे की बात है कि डॉक्टर साब स्वयं आंदोलनरत सेवारत चिकित्सक संघ के बीकानेर अध्यक्ष रहे हैं। तब भी आंदोलन में खूब आगे रहे। सरकार पर आरोपों झड़ी लगाने में पीछे नहीं रहे। अब जब स्वयं सरकार में है तो कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं? न तो हड़ताल खत्म करने में रुचि है और न अपने साथियों की बात को सरकार तक पहुंचवाने में। सही भी है 'बळती' में हाथ डालने के बजाय दूर खड़े रहकर ही हाथ सैक लें तो बेहतर है। यहां यह भी कहना चाहूंगा कि डॉक्टर सॉब के डॉक्टर मित्र भी बड़े 'सयाने' हैं। वो भी नहीं चाहते कि उन्हें किसी विवाद में फंसाया जाए। जब प्रदेश की मुख्यमंत्री विधायकों को अपने अपने क्षेत्र के चिकित्सकों से बात करने का जिम्मा सौंप रही है तो अपने ही पास पड़े इस 'तुरुप के पत्ते' को आगे क्यों नहीं बढ़ाया जा रहा। हकीकत तो यह है कि अत्यंत मृदुभाषी डॉ. साब अगर कोशिश करेंगे तो यह हड़ताल दो दिन से ज्यादा नहीं चलने वाली। आखिर एक ही जमात के लोग हैं, एक ही विचारधारा के साथी है।

कुछ कहती है भाटी की यह भूमिका

आमतौर पर बीकानेर शहर की राजनीति से दूर रहने वाले कद्दावर नेता देवी सिंह भाटी की शहर में बढ़ी सक्रियता कुछ कहती है। देवी सिंह भाटी ने पिछले दिनों नगर निगम महापौर, पार्षदों और अधिकारियों के साथ जिस तेवर के साथ बातचीत की, वो हर किसी को प्रभावित कर रही है। शहरी क्षेत्र की राजनीतिक शून्यता के बीच भाटी की बढ़ती सक्रियता ने विधानसभा चुनाव में उनकी भूमिका को लेकर चिंतन शुरू हो जाना चाहिए। माना जा रहा है कि इस बार भाटी 'किंग मेकर' की भूमिका में नजर आएंगे। इसी कारण वो श्रीकोलायत के साथ बीकानेर पूर्व और पश्चिम दोनों सीटों पर गंभीरता से और पूरी तरह सोच विचार कर काम कर रहे हैं। सोनगिरी पटाखा कांड के बाद मकान बनवाकर देने की उनकी सोच मानवीय तो है ही, सकारात्मक राजनीति को बढ़ावा भी दे रही है। इतना ही नहीं बीकानेर पश्चिम क्षेत्र में उनके इक्का दुक्का नहीं सैकड़ों कट्टर कार्यकर्ता तैयार हो रहे हैं। अगर प्रतिद्वंद्वि पार्टी इसे हलके में ले रही है तो यह उनकी राजनीतिक समझ की कमजोरी है। उनकी सक्रियता कुछ कहती है, समझो।

सोशल मीडिया की नेतागिरी

यह नेतागिरी है, गांधीगिरी है, सोशल मीडियागिरी है या फिर कुछ करने की ललक है। कुछ भी हो, इन दिनों शहर के युवा सोशल मीडिया पर जमकर नेता गिरी कर रहे हैं। जो कर रहे हैं, उनमें दो-तीन तरह के सोशलमीडिया नेता है। एक वो नेता है, जो करते कुछ नहीं है, बस भाषण देते हैं। यह होना चाहिए, वो नहीं होना चाहिए, ऐसा क्यों किया गया, यह राष्ट्रद्रोह है, यह राष्ट्रभक्ति है, ऐसा नहीं करना चाहिए। कुछ ऐसे हैं जो गलत को गलत बताते हैं और उसे साबित करने का प्रयास भी करते हैं। ऐसे ही नेताओं ने पिछले दिनों सोशल मीडिया के माध्यम से जनजागृति का प्रयास भी किया। समय समय पर इनकी टिप्पणी कुछ बेहतर भविष्य की परिकल्पना करने को प्रोत्साहित करती है।

जनसम्पर्क अभियान शुरू

अभी न तो विधानसभा चुनाव की घोषणा हुई है, न किसी पार्टी ने अपनी रणनीति तय की है, उम्मीदवार बनाने का काम तो शायद आठ दस महीने में शुरू होगा। इसके बाद भी बीकानेर पूर्व विधानसभा क्षेत्र से शायद एक बार फिर गोपाल गहलोत दावेदारी ठोकने वाले हैं। 'ठोकने' वाला शब्द इसलिए काम में लिया गया है कि पार्टी टिकट दें न दे। वो तो हर हाल में चुनाव लड़ेंगे। कुछ भाजपाई रंग में और कुछ कांग्रेसी रंग में रंगे गहलोत ने गौ रक्षा का ऐसा एजेंडा हाथ में लिया है, जैसा गुजरात चुनाव में उनकी पार्टी ने लिया था। 'सॉफ्ट हिन्दुत्व' के साथ चुनाव लड़ेंगे, इतना तय है। इसीलिए आजकल गली-गली पहुंचकर लोगों से संपर्क कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर अपनी यात्रा को जमकर प्रचारित कर रहे हैं। ये तो लड़ेगा भाई....।

Last modified onThursday, 28 December 2017 17:28
DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News