Menu

उम्मीद से ज्यादा खरी सुन गए Featured

भारतीय जनता पार्टी ने चुनावी रणभेरी कांग्रेस के मुकाबले जल्दी भर दी है। कांग्रेस अभी रणनीति तय कर रही है लेकिन भाजपा ने टूटते जनाधार को संभालने के लिए अपनी फौज को मैदान में उतार दिया है। इसी फौज के कप्तान अशोक परनामी तीन दिन की यात्रा पर बीकानेर आए। श्रीगणेश ही ऐसा हुआ कि पहले ही दिन उन्हें यात्रा बीच में छोड़कर वापस जाना पड़ा। कयास लगाए गए कि उन्हें अब अध्यक्ष के रूप में वापस देखने का अवसर नहीं मिलेगा लेकिन ऊपर ऐसा कुछ नहीं था, जैसा नीचे सोचा गया था। परनामी अगले दिन ही वापस लौट आए। एक-एक विधानसभा की क्लास ली। मास्टरजी की तरह एक नहीं बल्कि दो दो विधायकों को अच्छी खासी डांट लगा दी। पहले बीकानेर पश्चिम के विधायक गोपाल जोशी को और दूसरी खाजूवाला के विधायक डॉ. विश्वनाथ को। जोशी ने अपने ही कार्यकर्ताओं को विरोधी बताया था तो डॉ. विश्वनाथ ने अपने क्षेत्र में अतिक्रमण के नाम पर तोड़े गए मकानों के बारे में कोई जानकारी नहीं होने की बात कह दी। अध्यक्षजी ने कहा आपको अपने विधानसभा क्षेत्र की जानकारी नहीं है तो फिर क्या कर रहे हैं आप? एक विधायक ने बैठक में नहीं आने का साहस भी दिखा दिया। बीकानेर पूर्व की बैठक हुई, चर्चा हुई, बहस हुई लेकिन विधायक सिद्धि कुमारी नहीं थी। अध्यक्ष की बैठक में नहीं आने को हिम्मत ही कहा जाएगा। शिकायतों का सबसे बड़ा अंबार लेकर जो नेताजी हाजिर हुए वो हमारे महापौर नारायण चौपड़ा थे। चौपड़ा जी के बारे में पार्षदों ने इतनी शिकायतें की, जितने दिन उन्होंने महापौरी नहीं की। रही सही कसर पूर्व मंत्री देवीसिंह भाटी ने पूरी कर दी। देशनोक के मंच पर उन्होंने जितनी खरी कही, उतनी तो उम्मीद भी नहीं की होगी।

परिवर्तन यात्रा की चर्चा तेज

कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा अब चर्चा में आ रही है। पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डॉ. बी.डी. कल्ला ने प्रत्येक वार्ड में पहुंचकर जन समस्याओं को सुनना शुरू किया तो क्षेत्र के लोगों का दर्द उभर कर सामने आ गया। अब भाजपा नेता इसे चुनावी तैयारी बता रहे हैं तो कांग्रेस इसे सधी हुई शुरूआत बता रहे हैं। इतना तय है कि प्रदेश में भले ही कांग्रेस की तैयारी मंद गति से चल रही है लेकिन बीकानेर में पार्टी एकजुट होकर लडऩे की कोशिश में है। जिस वार्ड में परिवर्तन यात्रा पहुंच रही है, वहां उसी वार्ड के लोगों को साथ लिया जा रहा है। भाजपा नेता अभी तक तो इस यात्रा का जवाब दे नहीं पा रहे हैं।

एक अच्छा काम ये भी

वैसे तो सोशल मीडिया महज चर्चा का केंद्र है, अपनी भड़ास निकालने का माध्यम है या फिर स्वयं की तारीफ करवाने का जरिया है लेकिन इस बीच कुछ काम अच्छे भी हो जाते हैं। टीम बीकानेर से जुड़े लक्ष्मण मोदी ऐसे ही मुद्दे फेसबुक पर डालते रहते हैं। पिछले दिनों पीबीएम अस्पताल के आगे टूटी हुई जालियों को उन्होंने खुद ठीक किया तो इस बार अम्बेडकर सर्किल पर हो रहे बेतरतीब निर्माण कार्य की तरफ ध्यान आकर्षित करवाया। उन्होंने बताया कि ऊंची दीवार सर्किल पर बनी तो दुर्घटनाएं बढ़ेगी। न्यास अध्यक्ष महावीर रांका ने जब इस पोस्ट को देखा तो तुरंत काम रुकवाया और इंजीनियर भेजकर इसे दुरुस्त करवाया। वैसे शिकायत सांसद अर्जुन मेघवाल से भी की गई थी। खैर काम किसी ने भी करवाया तो लक्ष्मण मोदी के प्रयास से दुर्घटना की आशंका कम जरूर हो गई।

नतीजा क्या होगा

अब अध्यक्षजी की यात्रा के बाद कार्यकर्ताओं का सवाल है कि इतनी सुनी है, उसका नतीजा क्या होगा? जवाब भी एक कार्यकर्ता ने ही दिया कि अध्यक्षजी को पता है कि इनकी एक बार सुन लो। न तो हमारे पास नए कार्यकर्ता आने वाले हैं और न हमारे कार्यकर्ताओं को कोई दूसरी पार्टी पकडऩे वाली है। ऐसे में दोनों को यही रहकर काम करना है। भाजपा कार्यकर्ताओं की यह विशेषता है कि वो लड़ाई कितनी भी कर लें लेकिन जब राष्ट्रवाद, भ्रष्टाचार और कांग्रेस का नाम लिया जाता है तो तुरंत प्रभाव से एक भी हो जाते हैं। अच्छी बात है। पार्टी इसी भावना का फायदा उठाकर अपने लोगों को आगे ले आती है और कार्यकर्ता हमेशा पीछे रह जाता है। भाजपा की यात्रा का नतीजा क्या होगा? जवाब तो आप समझ ही गए होंगे।

DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News