Menu

मनमुटाव को करना होगा दूर Featured

RK for website02

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे एक बार फिर 11 जून से प्रदेश का दौरा कर गुटों में विभाजित हुई भाजपा को एक करने की कोशिश करेंगी। विधानसभा चुनाव को लेकर राजे के दौरे में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी कई जिलों में शामिल होंगे। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष के नाम पर रविवार को भी सहमति नहीं नहीं बन पाई, किंतु इतना स्पष्ट हो गया है कि भाजपा राजे के नेतृत्व में ही प्रदेश में अगला विधानसभा चुनाव लड़ेगी। किंतु बिना सेनाध्यक्ष (प्रदेशाध्यक्ष) के कैसे चुनाव लड़ेगी। इसको लेकर अभी भी सवाल बना हुआ है। वसुंधरा राजे व केन्द्र सरकार के बीच टकराव समाप्त होने के साथ ही दोनों के बीच प्रदेशाध्यक्ष को लेकर सहमति भी बन गई है। जिसमें साफ हो गया है कि जाट या फिर राजपूत प्रदेशाध्यक्ष नहीं बनेगा, किंतु केन्द्रीय संगठन की ओर से सुझाए गए नाम पर स्थानीय भाजपा को सहमति देनी होगी। दूसरी ओर कांग्रेस ने भी इस बार भाजपा को प्रदेश से उखाडऩे का पूरा मानस बना लिया है और कांग्रेस के राष्ट्रीय व प्रदेश स्तरीय पदाधिकारी इन दिनों प्रदेश के जिलों का दौरा कर कार्यकर्ताओं में जोश का मंत्र फूंकने का काम कर रहे है। भाजपा हो या फिर कांग्रेस दोनों ही पार्टियों में आपसी फूट प्रदेश के साथ-साथ बीकानेर जिले में भी देखने को मिल रही है। जब तक दोनों ही संगठन इस फूट का सही व पुख्ता इलाज नहीं कर लेते, तब तक चाहे भले ही बूथ को कितना भी मजबूत बना लें, लेकिन जीत सुनिश्चित होना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन सी है। यह तो फिलहाल विधानसभा चुनाव के वक्त ही पता लगेगा। फिलहाल कांग्रेस व भाजपा दोनों ही पार्टियां जोरशोर से बूथ को मजबूत बनाने के लिए गांव-गांव में पहुंचकर कार्यकर्ताओं से रुबरु हो रही है।

देखना जोर किसमें कितना है

बीकानेर जिले में कांग्रेस व भाजपा देानों ही पार्टियों में चल रही गुटबंदी के चलते विधानसभा चुनाव में जिले की सभी सातों सीटें जीतने के लिए दोनों को ही एडी चोटी का जोर लगाना पड़ सकता है। आचार संहिता लागू होने तथा टिकट वितरिण के वक्त ही हालांकि नाराजगी व गुटबाजी खुलकर सामने आ जाएगी। कहा जाए तो अतिशयोक्ति नहीं होगी कि इसके चलते इस बार विधानसभा चुनाव रोचक होने की पूरी संभावना है। जीत सुनिश्चित करने के लिए किसमें कितना दम है यह कहने की जरुरत नहीं है यह तो तो मैदान-ए-चुनाव में सामने अपने आप ही आ जाएगा।

खाजूवाला में फिर दिखी गुटबाजी

विधानसभा को चुनाव को लेकर जिले में आरक्षण के तहत एकमात्र खाजूवाला विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में गुटबाजी एक बार फिर सामने आई। मेरा बूथ मेरा गौरव कार्यक्रम में पहुंचे अखिल भारतीय कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव तथा राजस्थान प्रदेश के सहप्रभारी काजी निजामुद्दीन को भी फूट का सामना करना पड़ा। जहां जाट धर्मशाला में नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी गुट के कार्यकर्ताओं की ओर से आयोजन किया गया। वहीं स्थानीय ग्राम पंचायत में पूर्व संसदीय सचिव गोविन्दराम मेघवाल की ओर से कार्यक्रम रखा गया। काजी निजामुदीन ने दोनों ही स्थानों पर शिरकत की। इससे पूर्व भी यहां सर्किट हाउस पहुंचने पर प्रदेश के सहप्रभारी के सामने दोनों ही पक्षों के कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने नेताओं के समर्थन में नारेबाजी की। जिसके कारण कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है।

मुकाबलों में रहेगी रोचकता

प्रदेश की भाजपा सरकार के कार्यकाल में बीकानेर को कितना क्या कुछ मिला है। यह किसी से छिपा हुआ नहीं है। उस पर ऐलिवेटेड सहित अनेक मुद्दों पर बात बिगड़ती हुई नजर आती है। ऐसे में आने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा को कितना लाभ मिल पाएगा। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही बताएगा। दूसरी ओर जिले के कई महत्वपूर्ण मुद्दों को विपक्ष भी जोरदार तरीके से नहीं उठा पाया है। ऐसे में बीकानेर की सभी सातों नोखा, श्रीडूंगरगढ़, लूणकरनसर, श्रीकोलायत, खाजूवाला, बीकानेर पूर्व तथा बीकानेर पश्चिम विधानसभा क्षेत्र में मुकाबले रोचक होने की पूरी संभावना है। हाल फिलहाल जिले की सात सीटों में से चार पर भाजपा, दो पर कांग्रेस तथा एक सीट पर निर्दलीय विधायक है। जहां भाजपा की कोशिश जिले में बेहत्तर प्रदर्शन कर अधिकाधिक सीटें हथियाने का लक्ष्य है। वहीं कांग्रेस पिछले विधानसभा चुनाव के रिपोर्ट कार्ड को सुधारने का प्रयास करेगी। जहां एक ओर देश व प्रदेशों में भाजपा की बढ़ती लोकप्रियता को लेकर भाजपा के पदाधिकारी व कार्यकर्ता पहले से ही जोश में है। वहीं इस बार एक बार मैं, एक बार तुम की तर्ज पर की जा रही घोषणाओं के चलते कांग्रेस के कार्यकर्ता भाजपा को पटखनी देने की पूरी तैयारी में है। हाल फिलहाल दोनों ही पार्टियों के विधायक, पदाधिकारी व कार्यकर्ता लोगों के बीच पहुंचकर अपनी-अपनी तारीफ तथा विपक्षी पार्टी की विफलताओं को बताने में जुटे हुए है। जनता भी जागरूक हो चुकी है। देखना ये है कि दोनों ही पार्टियों के बहकावें में आती है या नहीं या फिर विकास को लेकर मतदान करेंगी। यह तो फिलहाल आने वाला समय ही बताएगा।

DNR Reporter

DNR desk

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

back to top

Bikaner Trusted News Portal

  • Bikaner Local News
  • National News
  • Sports News
  • Bikaner Events
  • Rajasthan News