शिक्षा विभाग में तबादलों पर आचार संहिता का फर्क नहीं

डीएनआर रिपोर्टर.बीकानेर
आचार संहिता लगने के बाद भी शिक्षा विभाग में तबादलों का दौर जारी है। राजनीतिक हस्तक्षेप से हो रहे तबादलों में सब कुछ कम्प्यूटर टाइप है लेकिन आदेश जारी करने की तारीख हाथ से लिखी गई है। सवाल यह है कि तबादले होने के साथ ही शिक्षक संबंधित विद्यालय में कार्यभार भी ग्रहण कर लेता है।
दरअसल, शिक्षा मंत्री के निर्देश पर प्रदेशभर में शिक्षा अधिकारियों व शिक्षकों के तबादले हुए। न सिर्फ तबादले हुए बल्कि बाद में संशोधन भी जमकर हुए। एक अनुमान के मुताबिक विभाग ने ४०० के आसपास अधिकारियों के स्थानान्तरण किए हैं जबकि इसमें बड़ी संख्या में बाद में राजनीतिक सिफारिशों के चलते बदले गए। इसके बाद भी अधिकारियों की कलम रुकने का नाम नहीं ले रही है।
जानकारी के अनुसार ग्यारह मार्च को आम चुनाव की घोषणा हो गई। इसके साथ ही आचार संहिता भी लग गई। इसके बाद कोई तबादला नहीं हो सकता, लेकिन जयपुर से जारी एक तबादला सूची में नौ शिक्षकों के स्थानान्तरण हुए। आरोप है कि यह सूची आचार संहिता के दौरान निकाली गई, जिस पर तारीख हाथ से लिखी गई है। अंग्रेजी में जारी इस तबादला सूची में ऊपर नीचे तो हिन्दी का मैटर है लेकिन शेष नाम व पद नाम अंग्रेजी में है। सूची में एक जगह तो तारीख में भी ‘ओवर राइट’ किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here